Saturday, May 8, 2021
Home राजनीति आम लोग कपड़े और राशन दे जाते हैं, केजरीवाल ने कोई मदद नहीं की:...

आम लोग कपड़े और राशन दे जाते हैं, केजरीवाल ने कोई मदद नहीं की: पाकिस्तानी हिंदू

"पिछले साल गर्मियों में बस्ती के करीब 12 लोगों की मौत हुई। इनमें बच्चे और बुजुर्ग शामिल थे। 9 साल पहले भारत आए। कई साल तक तो कोई शौचालय नहीं था। दो साल पहले कुछ बनाए गए हैं। इनका इस्तेमाल महिलाएँ करती हैं। वो पहले रात में डर के चलते बाहर नहीं निकल पातीं थीं।"

दिल्ली में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इन दिनों राजनीति की चर्चा हर गली, हर नुक्कड़ पर है। बिजली-पानी-शिक्षा के अलावा इस बार इन चुनावों में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) भी जनता से संपर्क साधने के लिए मुख्य विषय है। इस कानून से लाभान्वित होने वालों का एक बड़ा तबका दिल्ली के मजनू का टीला, सिग्नेचर ब्रिज, मजलिस पार्क, आदर्श नगर जैसे इलाकों में रह रहे हैं। ये लोग भी आने वाली सरकार से बुनियादी सुविधाओं को पूरी करने की आस लगाए बैठे हैं।

इन शरणार्थी कैंपों में रहने वाले लोगों के पास अभी तक मतदान का अधिकार नहीं है। मगर फिर भी दिल्ली के चुनावों पर इनकी पूरी नजर है। ये चाहते हैं कि आने वाली सरकार इनकी मूलभूत जरूरतों का ख्याल रखे और इन्हें बदतर स्थिति से उबारने में मदद करे। हालाँकि, सीएए आने के बाद देश भर में रह रहे हिंदू शरणार्थियों का ये कहना है भला केवल मोदी सरकार कर सकती हैं।

पिछले 5 साल से दिल्ली की सत्ता में काबिज केजरीवाल सरकार को लेकर अधिकांश हिंदू शरणार्थियों का कहना है कि उन्हें सरकार से कोई गिला शिकवा नहीं है, बस उन्हें बिजली-पानी मुहैया करवा दिया जाए। इनकी हालत देखी और दर्द सुना जाए, तो उसमें वर्तमान सरकार के प्रति हताशा साफ नजर आती है। जानकारी के अनुसार पिछले साल मजनू का टीला के पास स्थित इन लोगों की बस्ती सुविधाओं के अभाव के कारण 12 लोगों की मौत हुई थी। इनमें बच्चे-बुजुर्ग दोनों शामिल थे। बावजूद इसके इनकी मदद के लिए राज्य सरकार का कोई नुमाइंदा आगे नहीं आया। न ही इस विषय पर कोई बात हुई।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार इस कैंप में रह रहे धर्मदास 2011 में सिंध से हरिद्वार का वीजा लेकर भारत आए थे और अब वे वापस नहीं जाना चाहते। वे बताते हैं, “पाकिस्तान में बहुत प्रताड़ना झेली। मजहब बदलने का दबाव था। कोई रोजगार नहीं था। हरिद्वार के लिए वीजा बनवाया। फिर दिल्ली आ गए। मदद माँगने कई बार केजरीवाल के पास गए। लेकिन, कुछ हासिल नहीं हुआ। आम लोग कभी कपड़े तो कभी राशन दे जाते हैं।”

सोनदास कहते हैं, “साहब, हालात क्या बताएँ। पिछले साल गर्मियों में बस्ती के करीब 12 लोगों की मौत हुई। इनमें बच्चे और बुजुर्ग शामिल थे। 9 साल पहले भारत आए। कई साल तक तो कोई शौचालय नहीं था। दो साल पहले कुछ बनाए गए हैं। इनका इस्तेमाल महिलाएँ करती हैं। वो पहले रात में डर के चलते बाहर नहीं निकल पातीं थीं। “

गौरतलब है कि ये कहानी केवल मजनू का टीला और सिग्नेचर ब्रिज की नहीं है, बल्कि दिल्ली में स्थित अन्य शरणार्थी कैंपों की भी ऐसी ही हालत है। कुछ समय पहले जहांगीर पुरी के मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशन के पीछे सेना की जमीन पर रह रहे शर्णार्थियों को तंगहाल में जीने को मजबूर कर दिया गया था। कैंपो के पास नाले बना दिए गए थे, जिनसे जलभराव हो गया। उससे मच्छरों की ब्रीडिंग बढ़ गई थी और डेंगू-मलेरिया का खतरा भी। इसके अलावा कुछ समय तक तो बिजली विभाग के कर्मचारियों ने इनके कैंपों से बिजली का कनेक्शन काट दिया था।

मजलिस पार्क में रह रहे शरणार्थियों की मदद करने वाले समाजसेवी हरिओम के अनुसार कुछ लोगों के सहयोग से इलाके में एक छोटा सा स्कूल खुलवाया गया था, जहाँ अब शर्णार्थियों के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा दी जा रही है। लेकिन इसके लिए उन्हें किसी तरह का कोई सरकारी सहयोग नहीं मिलता। उनके मुताबिक आम आदमी पार्टी के विधायक पवन कुमार शर्मा ने उन्हें एक बार मदद के नाम पर आश्वासन दिया था। मगर बाद में कोई मदद नहीं मिली।

अमर उजाला की साल 2018 की रिपोर्ट के अनुसार, मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशन के पास करीब पॉंच साल से रह रहे हिंदू शरणार्थियों पर कभी कोई एफआईआर नहीं हुई। वहीं इनके कैंपों से महज कुछ ही दूरी पर बसे बांग्लादेशी और रोहिंग्या शरणार्थी दिल्ली की सुरक्षा के लिए खतरा बने रहते हैं। समय-समय पर उनके खिलाफ कई मामले दर्ज हुए हैं।

हालाँकि केजरीवाल सरकार से हताश हो चुके लोगों को मोदी सरकार से बहुत उम्मीदें हैं। बीते दिनों हमने पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थी गुलशेर की कहानी साझा की थी। जिन्हें अपने बच्चों को शिक्षा दिलाने के लिए केजरीवाल सरकार के आदेश के ख़िलाफ़ कोर्ट तक जाना पड़ा। लेकिन सीएए आने के बाद फूले नहीं समाए।

इसी प्रकार मजनू टीला, सिग्नेचर ब्रिज, आदर्श नगर, मजलिस पार्क में रह रहे पाकिस्तानी हिंदू एक ही स्वर में मोदी सरकार को दिल्ली में देखना चाहते हैं। यहाँ अधिकतर घरों के ऊपर तिरंगा और दरवाजे पर मोदी सरकार की तस्वीर इलाके में घुसते ही देखी जा सकती है। इन लोगों के मुताबिक मोदी सरकार ने उनके लिए बहुत काम किया है। इसलिए वे चाहते हैं कि वो ही जीतें। बता दें एक परिवार ने तो सीएए आने की खुशी में अपनी बेटी का नाम ही नागरिकता रख दिया था। जिसका जिक्र प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में भी किया था।

पाक से आए हिंदू ने बेटी का नाम रखा ‘नागरिकता’, पिता ने कहा – भारत की बेटी हुई है

‘हम यहाँ भीख माँगकर भी खुश, कॉन्ग्रेस सरकार में यह मुमकिन नहीं होता’: Pak रिफ्यूजी हिंदू

‘पाकिस्तान में न तो हिंदू लड़कियों को ज्यादा आजादी है और न ही… बेटियों की खातिर भारत आए’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा की रिपोर्ट दो: कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता सरकार को दिया सिर्फ 2 दिन का समय

कलकत्ता हाई कोर्ट में दायर की गई याचिका में बंगाल में हो रही हिंसा पर राज्य पुलिस पर भी सवाल उठे। पुलिस ने परिस्थिति सामान्य करने और...

CM बनते ही केजरीवाल ने जिसे ‘दिल्ली का निर्माता’ कहा, उस नवनीत कालरा के यहाँ ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर का गोरखधंधा

नवनीत कालरा चीन से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर का 20-25 हजार रुपए में आयात करके उन्हें दिल्ली में 70000 में बेचकर भारी मुनाफा कमा रहा था।

WhatsApp अब नहीं करेगा अकाउंट डिलीट: 15 मई तक जबरन शर्तों को स्वीकार करने वाली समय सीमा समाप्त

व्हाट्सएप ने 15 मई तक अपनी विवादास्पद सीक्रेट पॉलिसी के अपडेट को यूजर द्वारा एक्सेप्ट करने की समय सीमा को समाप्त कर दिया है। इसके साथ ही...

‘बहुत ओछी हरकत कर दी’: आंध्र वाले जगन सहित कई CM-मंत्री हेमंत सोरेन पर बिफरे, PM मोदी को लेकर किया था ट्वीट

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन चौतरफा घिर गए हैं। कई राज्यों के मुख्यमंत्री ने उन्हें ओछी राजनीति से बचने की नसीहत दी है।

एक ही पेड़ से लटके मिले बीजेपी के 2 वर्कर, NCW की मुखिया से ममता सरकार ने बंगाल दौरा रद्द करने को कहा

बीजेपी ने बंगाल में अपने दो और कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप टीएमसी के गुंडों पर लगाया है। उनके शव एक ही पेड़ से लटके मिले।

‘ईद’ की शॉपिंग में उड़ रही कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियाँ, हैदराबाद के चारमीनार के पास बिन मास्क दिखी लोगों की जबर्दस्त भीड़, देखें Video

हैदराबाद के चार मीनार के आसपास ईद-उल-फितर की शॉपिंग के लिए जुट रही भारी भीड़ नहीं कर रही हैं कोविड नियमों का पालन

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में अब BJP के किसान नेता की हत्या, मुस्लिम नेता को घर में घुस पीटा: मिथुन चक्रवर्ती के खिलाफ पुलिस से शिकायत

दिलीप घोष ने बताया है कि 26 साल के किशोर मंडी की TMC गुंडों ने हत्या कर दी। वे बिनपुर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा किसान मोर्चा के मंडल सचिव थे।

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

एक ही पेड़ से लटके मिले बीजेपी के 2 वर्कर, NCW की मुखिया से ममता सरकार ने बंगाल दौरा रद्द करने को कहा

बीजेपी ने बंगाल में अपने दो और कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप टीएमसी के गुंडों पर लगाया है। उनके शव एक ही पेड़ से लटके मिले।

2013 में कहा- corona आ रहा, 2016 के बाद कोई ट्वीट नहीं: सोशल मीडिया में तलाश!

एक शख्स का ट्वीट वायरल हो रहा है जिसने दिसंबर 2013 में ही भविष्यवाणी कर दी कि कोरोना वायरस आ रहा है, ट्वीट वायरल

‘बेहतर होता काम की बात करते’: झारखंड में कोरोना का हाल जानने PM मोदी ने किया कॉल, CM हेमंत सोरेन ने की राजनीति

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी प्रधानमंत्री के साथ बैठक का गुपचुप लाइव कर इसी तरह की ओछी राजनीति कर चुके हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,369FansLike
90,309FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe