Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिदिल्ली में MCD चुनाव की तारीखों का ऐलान: 250 सीटों में से आधी महिलाओं...

दिल्ली में MCD चुनाव की तारीखों का ऐलान: 250 सीटों में से आधी महिलाओं के लिए आरक्षित, प्रत्याशी खर्च कर सकेंगे 8-8 लाख रुपए

दिल्ली में MCD चुनावों के लिए 7 नवंबर से 14 नवंबर तक नामांकन दाखिल किए जाएँगे। नामांकन दाखिल वापस करने की आखिरी तारीख 19 नवंबर है। वोटिंग 4 दिसंबर को होगी और नतीजे 7 दिसंबर को सामने आएँगे।

चुनाव आयोग ने शुक्रवार (4 नवंबर 2022) को दिल्ली नगर निगम चुनाव (MCD Election) की तारीखों का ऐलान किया है। एक ओर जहाँ दिल्ली में हुए परिसीमन के बाद वार्ड की संख्या कम हो गई है। वहीं दूसरी ओर, चुनाव आयोग ने आधी सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित कर दी हैं। इन चुनावों के लिए 7 नवंबर से 14 नवंबर तक नामांकन दाखिल किए जाएँगे। नामांकन दाखिल वापस करने की आखिरी तारीख 19 नवंबर है। वोटिंग 4 दिसंबर को होगी और नतीजे 7 दिसंबर को सामने आएँगे।

दिल्ली MCD चुनाव में 22 वार्ड कम हो गए हैं। यहाँ अब तक कुल 272 वार्ड थे लेकिन परिसीमन के बाद वार्ड की संख्या घट कर 250 रह गई है। परिसीमन के कारण कई वार्डों के क्षेत्र में भी बदलाव हुआ है। कई वार्डों का क्षेत्र बढ़ गया है जबकि कुछ के क्षेत्रों में कमी आई है। इसी प्रकार वोटर्स की संख्या में भी बदलाव हुआ है।

उल्लेखनीय है कि पहले दिल्ली नगर निगम को तीन भागों में विभाजित किया गया था। उत्तरी दिल्ली, दक्षिण दिल्ली और पूर्वी दिल्ली। बीते 15 सालों से तीनों ही जोन या नगर निगम में भाजपा का ही कब्जा रहा है। इसी साल मई में केंद्र सरकार ने तीनों नगर निगम क्षेत्रों (MCD) को मिलाकर एक कर दिया था। इसका मतलब यह है कि अब दिल्ली में तीन की जगह केवल एक ही महापौर (मेयर) होगा। यानी अब तीन की जगह एक ही मेयर पूरी दिल्ली को चलाएगा।

गौरतलब है, दिल्ली विधानसभा में 70 सीटें हैं लेकिन नगर निगम चुनाव सिर्फ 68 सीटों में ही होगा। दिल्ली केंट और दिल्ली विधानसभा को नगर निगम क्षेत्र से बाहर रखा गया है। नगर निगम की निर्धारित 250 सीटों में से आधी महिलाओं के लिए आरक्षित की गई हैं। वहीं, 42 सीटें अनुसूचित जाति के लिए रिजर्व रखी गई हैं। चुनाव आयोग ने प्रत्येक प्रत्याशी द्वारा किए जाने वाले खर्च के दायरे में भी बढ़ोतरी की है। इससे पहले हुए चुनाव में प्रत्याशी 5.75 लाख रुपए तक खर्च कर सकते थे। हालाँकि, अब इसे बढ़ाकर 8 लाख रुपए किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -