Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिअंग्रेजों वाली नहीं, स्वदेशी तोप से तिरंगे को सलामी: 'कर्तव्य पथ' पर पहली बार...

अंग्रेजों वाली नहीं, स्वदेशी तोप से तिरंगे को सलामी: ‘कर्तव्य पथ’ पर पहली बार गणतंत्र दिवस का परेड होगा ऐतिहासिक, हथियारों में भी दिखेगी ‘मेक इन इंडिया’ की झलक

'आत्मनिर्भर भारत' और 'मेक इन इंडिया' पहल को आगे बढ़ाते हुए कई अहम फैसले लिए गए हैं। इसके तहत इस साल कर्तव्य पथ पर तिरंगे को स्वदेशी 105 एमएम भारतीय फिल्ड गन से सलामी दी जाएगी।

देश 74वाँ गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है। इस साल गणतंत्र दिवस कई मायनों में अलग व ऐतिहासिक होने जा रहा है। राजपथ का नाम कर्तव्य पथ होने के बाद इस पर पहला गणतंत्र दिवस परेड होगा। इसके साथ ही परेड में प्रदर्शित किए जा रहे सभी उपकरण स्वदेशी होंगे। इस अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज को 21 तोपों की सलामी ब्रिटिश कालीन 25 पाउंडर बंदूकों वाली पुरानी तोपों से नहीं बल्कि नए 105 एमएम भारतीय फिल्ड गन से दी जाएगी।

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए दिल्ली एरिया के चीफ ऑफ़ स्टाफ मेजर जनरल भवनीश कुमार ने जानकारी दी कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ और ‘मेक इन इंडिया’ पहल को आगे बढ़ाते हुए कई अहम फैसले लिए गए हैं। इसके तहत इस साल कर्तव्य पथ पर तिरंगे को स्वदेशी 105 एमएम भारतीय फिल्ड गन से सलामी दी जाएगी। इसके पहले इसके लिए अंग्रेजों के जमाने वाले 25 पाउंडर बंदूकों वाली तोपों का इस्तेमाल किया जाता था। इस तोप से अंतिम बार 15 अगस्त 2022 को स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान तिरंगे को सलामी दी गई थी।

25 पाउंडर तोपों के अलावा कर्तव्य पथ पर भारतीय सेना द्वारा प्रदर्शित किए जाने वाले सभी हथियार भारत निर्मित होंगे। इनमें अर्जुन टैंक, नाग मिसाइल, बीएमपी-2, K-9 वज्र, शार्ट स्पैम ब्रिज, एयर डिफेंस आकाश मिसाइल, ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल, आर्मी एवियेशन कोर के तीन रूद्र और ध्रुव हेलीकॉप्टर शामिल हैं।

परेड की बात करें तो राजपथ से कर्तव्यपथ बनने के बाद पहली बार इस पर रिपब्लिक डे परेड (Republic Day parade) आयोजित होने जा रहा है। परेड में 23 राज्यों की झाँकी शामिल होगी। इस साल परेड में पहली बार वायुसेना की गरुड़ स्पेशल फोर्स भी शिरकत करेगी। परेड में मिस्र की फौज (Egyptian army) भी शामिल होने वाली है। समारोह में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के मजदूरों, सब्जीवालों, रिक्शेवाले, मिल्क बूथ वर्कर या अन्य छोटे दुकानदारों को खास तौर पर बुलाया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इन्सिटटे ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

पहले मोदी सरकार की योजना की तारीफ़ की, आका से सन्देश मिलते ही कॉन्ग्रेस को देने लगे श्रेय: देखिए राजदीप सरदेसाई की ‘पत्तलकारिता’, पत्नी...

कथित पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने पहले तो मोदी सरकार के बजट की तारीफ की, लेकिन कुछ ही देर में 'आकाओं' का संदेश मिलते ही मोदी सरकार पर कॉन्ग्रेसी आरोपों को दोहराने लगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -