Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति'चाय वाले को झेल लो, गाय वाला आ गया तो झेला नहीं जाएगा': डिजिटल...

‘चाय वाले को झेल लो, गाय वाला आ गया तो झेला नहीं जाएगा’: डिजिटल हिंदू कॉन्क्लेव में कपिल मिश्रा

कपिल मिश्रा ने उन्हें यह कहते हुए पीएम मोदी के शासन को सहन करने की सलाह दी कि अगर योगी सत्ता में आए, तो उन्हें उनके नेतृत्व को बर्दाश्त करने में और भी मुश्किल होगी। उन्होंने कहा, “ये चाय वाले (पीएम मोदी) को झेल लो, कहीं वो गाय वाला (सीएम योगी) आ गया तो तुमसे झेला नहीं जाएगा।”

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने हाल ही में हैदराबाद में डिजिटल हिंदू कॉन्क्लेव में भाग लिया जहाँ उन्होंने कई मुद्दों पर अपने स्पष्ट विचारों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया, जिनमें हिंदू समाज का लचीलापन, पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ का नेतृत्व, शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों समेत कई अन्य बातें शामिल थी।

रविवार 7 मार्च, 2020 को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के विभिन्न मुद्दों पर नागरिकों, नीति निर्माताओं, डोमेन विशेषज्ञों, शोधकर्ताओं और टिप्पणीकारों द्वारा उद्देश्य अध्ययन और गहन विश्लेषण को प्रोत्साहित करने के लिए पहल के रूप में ‘भारतनीति’ एक डिजिटल हिंदू कॉन्क्लेव का आयोजन किया था। इस सम्मेलन में मिश्रा के अलावा लेखक शेफाली वैद्य, पत्रकार प्रदीप भंडारी, मेजर सुरेंद्र पूनिया, पूर्व आईपीएस नागेश राव जैसे कई अन्य गणमान्य लोगों ने हिस्सा लिया।

हालाँकि, कॉन्क्लेव का मुख्य आकर्षण भाजपा नेता कपिल मिश्रा द्वारा दिया गया तीक्ष्ण भाषण था। मिश्रा ने तीखे और बेबाक तरीके से अपनी बात रखी। बीजेपी नेता ने भारत विरोधी ताकतों और पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व से प्रभावित लोगों पर भी हमला बोला।

मिश्रा द्वारा कॉन्क्लेव में की गई कुछ टिप्पणियाँ इस प्रकार हैं:-

‘तुमको मिलती होगी कुदरती बिरयानी, हम तो मेहनत करके खाते हैं’

मिश्रा विशेष रूप से शाहीन बाग ब्रिगेड की आलोचना कर रहे थे, जिसने नागरिकता संशोधन अधिनियम के पारित होने के विरोध में दिल्ली के सबसे व्यस्त इलाकों में से एक पर कब्जा कर लिया था। उस समय, जब एक पत्रकार ने शाहीन बाग में एक प्रदर्शनकारी से पूछा था कि इतने सारे लोगों के लिए सभी भोजन कहाँ से आ रहे हैं और जो 40 से अधिक दिनों से बैठ रहे हैं, तो उन्होंने कहा था कि ये अल्लाह का चमत्कार है।

उस प्रदर्शनकारी ने कहा था, “हमें नहीं पता पैसे का। हमें तो रात को (खाना) रखा मिलता है एक जगह। हम उसे उठाते हैं और बाँट देते हैं। कुदरती मिल रहा है।”

इस पर तंज कसते हुए मिश्रा ने कहा, “अरे तुमको मिलती होगा कुदरती बिरयानी, हम तो मेहनत करके खाते हैं। जो केवल वोट देता है और पाँच साल शांति से अपना काम धंधा करता है, क्या उसका कोई अधिकार नहीं होगा इस देश में?”

ये तो केवल अँगड़ाई है, अभी तो हमने सिर्फ आँखें खोली है। अभी तो हम उठके खड़े नहीं हुए। अभी तो हमने चलना शुरू नहीं किया।

मिश्रा ने हिंदू समाज के लचीलापन पर बात करते हुए कहा कि भारतीय समाज दुनिया की एकमात्र सभ्यता है जिसने दो बुरी शक्तियों से खतरे को सफलतापूर्वक भगाया है, जिसमें इस्लामी आक्रमण और ईसाई धर्म प्रचार शामिल है। 

मिश्रा ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि हमारे पूर्वजों ने इतिहास को उसके प्राचीन रूप में संरक्षित करने में कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा, “पिछले 500 वर्षों से देश में एक भी सरकार नहीं थी, जो प्रयागराज का असली नाम बताती हो, लेकिन फिर भी, हमारे पूर्वजों ने चुपचाप एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को प्रयागराज का सच्चा इतिहास बताया और 500 वर्षों के बाद, इलाहाबाद कहीं गंगा में बह गया और आज वह प्रयागराज बनकर खड़ा है।”

इस बात पर जोर देते हुए कि यह भारत के सांस्कृतिक पुनर्जागरण की शुरुआत है, मिश्रा ने कहा, “ये तो केवल अँगड़ाई है। अभी तो हमने सिर्फ आँखें खोली है। अभी तो हम उठके खड़े नहीं हुए। अभी तो हमने चलना शुरू नहीं किया।”

‘ये चाय वाले को झेल लो, कहीं वो गाय वाला आ गया तो तुमसे झेला नहीं जाएगा’

कपिल मिश्रा ने ऐसे लोगों के एक वर्ग को भी निशाने पर लिया, जिन्हें पीएम मोदी को देश का प्रधानमंत्री स्वीकार करना मुश्किल हो रहा है। उन्होंने उन्हें यह कहते हुए पीएम मोदी के शासन को सहन करने की सलाह दी कि अगर योगी सत्ता में आए, तो उन्हें उनके नेतृत्व को बर्दाश्त करने में और भी मुश्किल होगी। उन्होंने कहा, “ये चाय वाले (पीएम मोदी) को झेल लो, कहीं वो गाय वाला (सीएम योगी) आ गया तो तुमसे झेला नहीं जाएगा।”

‘चायवाले का क्या बिगाड़ लोगे और योगवाला आ गया तो तुम कुछ उखाड़ नहीं पाओगे’

पीएम मोदी को ‘चायवाला’और योगी आदित्यनाथ को ‘योगवाला’ के रूप में संदर्भित करते हुए, मिश्रा ने यह कहते हुए विरोधियों पर कटाक्ष किया कि वे पीएम मोदी को नुकसान नहीं पहुँचा सकते क्योंकि उनके पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है और दूसरी ओर, अगर योगी आदित्यनाथ जीते तो उन्हें कुछ नहीं करने देंगे। मिश्रा ने कहा, “चायवाले का क्या बिगाड़ लिए और योगवाला आ गया तो तुम उसका कुछ उखाड़ नहीं पाओगे।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe