Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिसिलीगुड़ी में BJP कार्यकर्ता की हत्या के बाद बंगाल पुलिस ने भाजपा नेताओं पर...

सिलीगुड़ी में BJP कार्यकर्ता की हत्या के बाद बंगाल पुलिस ने भाजपा नेताओं पर ही कर दी कार्रवाई, गैर जमानती धाराओं में FIR

ये पूरा मुकदमा IPC की गैर जमानती धाराओं के तहत दर्ज हुआ है। एफआईआर में आरोप लगाया है गया है कि आरोपितों ने सरकारी मुलाजिमों पर हमला बोला। पुलिस द्वारा लगाई बैरिकेडिंग को तोड़ा और प्रदर्शन के दौरान आगजनी और पत्थरबाजी की।

पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में सोमवार (दिसंबर 7, 2020) को हुई हिंसा में भाजपा कार्यकर्ता की मौत के बाद राज्य पुलिस ने भाजपा के ही कई दिग्गज नेताओं के ख़िलाफ़ मुकदमा दायर कर दिया है। पुलिस ने बंगाल में भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय और राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष समेत कई नेताओं का नाम एफआईआर में शामिल किया है। 

ये पूरा मुकदमा IPC की गैर जमानती धाराओं के तहत दर्ज हुआ है। एफआईआर में आरोप लगाया है गया है कि आरोपितों ने सरकारी मुलाजिमों पर हमला बोला। पुलिस द्वारा लगाई बैरिकेडिंग को तोड़ा और प्रदर्शन के दौरान आगजनी और पत्थरबाजी की।

पुलिस द्वारा एफआईआर में नाम लिखे जाने के बाद राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने इसे राज्य सरकार का अंत कहा है। न्यू इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राज्य सरकार को अपने अंत का एहसास हो गया है। वह झूठे इल्जाम लगाकर हमारे नेताओं को फँसाकर हमें डराना चाहती है।

बता दें कि सिलीगुड़ी में पुलिस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प में भाजपा समर्थक उलेन रॉय की मौत हो गई थी। जिसके बाद भाजपा ने अपने कार्यकर्ता की मौत को हत्या करार दिया था और बंगाल की पुलिस पर गंभीर आरोप मढ़े थे। 

हालाँकि, मंगलवार को पुलिस ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट का हवाला देकर दावा किया कि उलेन की मृत्यु मृत्यु शॉटगन से लगी चोट के कारण हुई है।

अपने बयान में राज्य पुलिस ने कहा कि पुलिस शॉटगन इस्तेमाल नहीं करती। तो जाहिर है कि कल सिलीगुड़ी में हुए प्रदर्शन के दौरान हथियार बद्ध लोग लाए गए थे और उन्होंने हथियार से गोली दागी। उनका कहना था, 

“मृतक को किसी पास खड़े शख्स द्वारा पास चोट पहुँचाई गई। वहाँ पहले से हथियारों का उपयोग करके हिंसा पैदा करने की मंशा थी। अब पश्चिम बंगाल की सीआईडी इसकी जाँच करेगी। सच्चाई बाहर आएगी और जिसने भी इस अपराध की साजिश रची और अंजाम दिया उसे बख्शा नहीं जाएगा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञान से इतना खौफ खाता है इस्लाम कि 3 महीने तक जलती रही किताबें, नालंदा विश्वद्यिालय से बची थी बख्तियार खिलजी की जान फिर...

नालंदा विश्वविद्यालय को एहसान फरामोश बख्तिार खिलजी ने अपनी चिढ़ में इस तरह बर्बाद किया था कि कहा जाता है उसमें तीन महीने तक किताबें जलती रही थीं।

पेट्रोल-डीजल के बाद पानी-बस किराए की बारी, कर्नाटक में जनता पर बोझ खटाखट: कॉन्ग्रेस की ‘रेवड़ी’ से खजाना खाली, अब कमाई के लिए विदेशी...

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार की रेवड़ी योजनाएँ राज्य को महँगी पड़ रही हैं। पेट्रोल-डीजल के बाद अब पानी के दाम और बसों के किराए बढ़ाने की योजना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -