Wednesday, September 29, 2021
Homeराजनीतिबुरहान वानी 'साहब'... आतंकी को सम्मान देने के लिए J&K के पूर्व CM उमर...

बुरहान वानी ‘साहब’… आतंकी को सम्मान देने के लिए J&K के पूर्व CM उमर अब्दुल्ला को पड़ रही लताड़

इससे पहले उमर अब्दुल्ला ने बुरहान वानी को कश्मीर के असंतुष्ट तबके का मसीहा बताया था। उन्होंने कहा था कि बुरहान इस समूह का आइकॉन...

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मारे गए आतंकी बुरहान वानी को ‘साहब’ कह कर संबोधित किया है। आतंकी को इज्ज़त देने के लिए उमर अब्दुल्ला की ख़ासी आलोचना हो रही है। अब्दुल्ला ने एक ब्रिटिश मीडिया एजेंसी से बात करते हुए इस शब्द का इस्तेमाल किया। दरअसल, उनसे सवाल पूछा गया था कि हाल ही में आतंकी जाकिर मूसा को मारे जाने पर वो क्या कहना चाहेंगे, इसके बाद अब्दुल्ला ने याद दिलाया कि बुरहान वानी ‘साहब’ के मारे जाने के बाद कश्मीर में हालात बदतर हो गए थे।

इससे पहले उमर अब्दुल्ला ने बुरहान वानी को कश्मीर के असंतुष्ट तबके का मसीहा बताया था। उन्होंने कहा था कि वानी इस समूह का आइकॉन बन चुका है। अब उन्होंने विदेशी मीडिया से बात करते हुए एक आतंकी का नाम सम्मान से लिया है। बता दें कि बुरहान की मौत के बाद जाकिर मूसा उसके आतंकी संगठन का प्रमुख सरगना बना था, भारतीय सेना ने उसे भी मार गिराया। मूसा ने कश्मीर में अल-कायदा से जुड़ा संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद शुरू किया था।

सेना ने अब बुरहान वानी के आतंकी संगठन का पूरी तरह सफाया कर दिया है। उसका आखिरी सदस्य भी मारा गया है। 2017 में हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहानी वानी की साथी आतंकियों के साथ एक फोटो वायरल हुई थी, जिसके बाद सेना ने एक-एक कर सबको निपटा दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe