Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिकिसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड...

किसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड में भी हाथापाई पर उतरे कॉन्ग्रेसी

सामने आए वीडियो में प्रदर्शनकारियों को स्पष्ट रूप से दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हुए देखा जा सकता है। जिसके बाद भीड़ को तितर-बितर करने और कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए, भोपाल पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व मंत्री जयवर्द्धन सिंह समेत 20 कॉन्ग्रेसी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया।

ऐतिहासिक कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध के बीच कॉन्ग्रेस पार्टी ने भी तथाकथित किसानों द्वारा जारी आंदोलन को ‘जन आंदोलन’ में बदलने के लिए अपना कदम बढ़ाया है। शनिवार (जनवरी 23, 2021) को मध्य प्रदेश के भोपाल में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में जवाहर चौक से राजभवन तक मार्च का आयोजन किया था।

जुलूस के दौरान, पार्टी कार्यकर्ता बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए, झंडे लहराए और सड़क पर जाम लगा दिया। सामने आए वीडियो में प्रदर्शनकारियों को स्पष्ट रूप से दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हुए देखा जा सकता है। जिसके बाद भीड़ को तितर-बितर करने और कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए, भोपाल पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व मंत्री जयवर्द्धन सिंह और विधायक कुणाल चौधरी समेत 20 कॉन्ग्रेसी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। 

इधर, उत्तराखंड के देहरादून में भी कृषि विरोधी प्रदर्शनकारियों ने राजभवन पहुँचने के लिए पुलिस बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। जब पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी पुलिस अधिकारियों के साथ हाथापाई पर उतर गए।

किसान संयुक्त मोर्चा के तहत गाँधी पार्क से राजभवन कूच कर रहे सीटू के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हाथीबड़कला बैरिकेटिंग पर रोक लिया। वहीं किसान प्रदर्शनकारी हर्रावाला में बैरिकेडिंग तोड़कर आगे बढ़ गए। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें आईआईपी मोहकमपुर के पास रोका हुआ है। आशारोड़ी और सेलाकुई आदि स्थानों पर भी किसान प्रदर्शनकारी जमा थे। किसान आंदोलन की वजह से लगाए गए बैरिकेडिंग की वजह से आशारोड़ी चेक पोस्ट पर बहुत पहले से लंबा जाम लग गया।

केंद्रीय कृषि कानून के खिलाफ राजभवन कूच कर रहे किसानों ने प्रदर्शन करते हुए ट्रैक्टर रैली निकाली। भानियावाला लच्छीवाला ओवरब्रिज से होते हुए टोल बैरियर पहुँची ट्रैक्टर रैली को पुलिस ने रोक लिया। इस बीच प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच तीखी नोकझोंक हुई।

इससे पहले, कॉन्ग्रेस नेता और सांसद रवनीत बिट्टू सिंह ने तथाकथित ‘किसान विरोध’ की प्रकृति को बदलने को लेकर हिंसा की खुली धमकी दी थी। न्यूज नेशन से बात करते हुए उन्होंने जोर देकर कहा, “वे (सरकार) सोचते हैं कि हम कुछ समय बाद थक जाएँगे और धरने पर बैठ जाएँगे। लेकिन नहीं! हम लाशों का ढेर लगा देंगे। हम खून बहाएँगे और अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।”

कॉन्ग्रेस प्रायोजित हिंसा की संभावना पर इशारा करते हुए, रवनीत बिट्टू सिंह ने कहा, “हम एक नई योजना के साथ आ रहे हैं और आप इसे 1 जनवरी के बाद एक्शन में देखेंगे।” यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि भाजपा ने पहले कॉन्ग्रेस पर किसानों को गुमराह करने और ऐतिहासिक कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शनों को उकसाने का आरोप लगाया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -