गाँधी संकल्प यात्रा’ के दौरान मनोज तिवारी पर फेंका गया पटाखा, बाल-बाल बचें

इस घटना से पूर्व भाजपा सांसद एवं प्रदेश अध्यक्ष ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा भारत के लिए आजादी हासिल करना और रामराज्य स्थापित करना महात्मा गाँधी का सपना था, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नेतृत्व में साकार कर दिखाया।

दिल्ली भाजपा ने शुक्रवार (अक्टूबर 11, 2019) को ‘गाँधी संकल्प यात्रा’ के दौरान प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी समेत उनके नेताओं पर करावल नगर में पटाखा फेंकने के आरोप में पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को उत्तर पूर्व जिला की ओर से करावल नगर वेस्ट के दस फुटा से तुर्कमीरपुर में शनिबाजार तक गाँधी संकल्प यात्रा निकाली गई थी। जहाँ मनोज तिवारी 8 बजे के करीब अन्य नेताओं को संबोधित कर रहे थे, लेकिन तभी किसी ने उनपर पटाखा फेंक दिया। जिसके बाद भाजपा सांसद तिवारी ने इसे भाजपा कार्यक्रम में खलल डालने के लिए कायराना हरकत करार दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मनोज तिवारी ने बताया, “पटाखा मुझ पर और हमारे पूर्व विधायक मोहन सिंह बिष्ट पर आकर गिरा। मैं बाल-बाल बच गया लेकिन बिष्ट की बाजू में जख्म हो गया। उनका कुर्ता जल गया। अब दिल्ली भाजपा के मीडिया सह प्रमुख आनंद त्रिवेदी ने खजूरी खास थाने में शुक्रवार की देर रात शिकायत दर्ज करवाई है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस मामले के संबंध में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले के संबंध में आईपीसी की धारा 285 के तहत केस दर्ज कर लिया है और पुलिस सीसीटीवी फुटेज खँगाल रही हैं।

वहीं बता दें कि इस घटना के होने से पूर्व भाजपा सांसद एवं प्रदेश अध्यक्ष ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा भारत के लिए आजादी हासिल करना और रामराज्य स्थापित करना महात्मा गाँधी का सपना था, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नेतृत्व में साकार कर दिखाया। उन्होंने इस दौरान दिल्ली की वर्तमान सरकार पर राज्य के संसाधनों का दुरुपयोग करने और सत्ता में बने रहने तरीके ढूँढ़ने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया। ज्ञात हो कि इस यात्रा से पहले वे प्रदूषण कम होने को लेकर केजरीवाल सरकार के दावे पर पलटवार करते हुए ट्वीट कर श्वेत पत्र जारी करने की माँग भी कर चुके थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,514फैंसलाइक करें
23,114फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: