Wednesday, October 21, 2020
Home राजनीति 2 परिवार से आगे निकली J&K की राजनीति: PDP, NC, कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री,...

2 परिवार से आगे निकली J&K की राजनीति: PDP, NC, कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री, MLA ने बना ली ‘अपनी पार्टी’

"दिल्ली में कौन राज कर रहा है, यह जरूरी नहीं। हमारे लिए वहाँ जो भी है, वो भारत सरकार है, जिसके साथ हमें मिलकर चलना है।"

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की पार्टी पीडीपी छोड़कर सैयद अल्ताफ बुखारी ने ‘अपनी पार्टी’ के गठन का एलान किया। रविवार (8 मार्च 2020) को बुखारी ने अपनी पार्टी की घोषणा करते समय कहा कि उनकी पार्टी का एकमात्र एजेंडा जम्मू कश्मीर का विकास है। इस पार्टी में न सिर्फ PDP बल्कि नेशनल कॉन्फ्रेंस और कॉन्ग्रेस के भी 30 से ज्यादा नेता शामिल हुए हैं। नई नवेली पार्टी में पूर्व मंत्री से लेकर कई पूर्व विधायक भी हैं। अल्ताफ बुखारी की इस नई पार्टी का एलान बुखारी के लाल चौक स्थित आवास पर किया गया।

इससे पहले शनिवार को पार्टी से जुड़ने वाले नेताओं की अहम बैठक हुई, जिसमें नए दल की तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। इस नई पार्टी के अस्तित्व में आने से पीडीपी को तगड़ा झटका लगा है। ‘अपनी पार्टी’ के गठन के बाद जम्मू कश्मीर की राजनीति को 2 परिवारों की जकड़ से निकाल आगे ले जाने का संकल्प लिया गया। साथ ही 370 पर सदा के लिए रोने के बजाय आगे बढ़ने पर भी बल दिया गया।

पार्टी बनाने की घोषणा करते के बाद मीडिया से बातचीत में बुखारी ने कहा कि यह एक बहुत ही खुशी की बात है कि हमने आखिरकार अपनी पार्टी बना ली है और इसे ‘अपनी पार्टी’ के रूप में जाना जाएगा। बुखारी ने कहा कि ये पार्टी आम लोगों की पार्टी है, जो आम लोगों ने बनाई है। ये किसी परिवार की बनाई पार्टी नहीं है और इसका अध्यक्ष कोई भी इंसान दो कार्यकाल से ज्यादा के लिए नहीं हो सकता। उनके अनुसार, “हम पर बहुत सारी जिम्मेदारी है, क्योंकि उम्मीदें और चुनौतियाँ बहुत हैं। मैं जम्मू और कश्मीर के लोगों को विश्वास दिलाता हूँ कि मेरी इच्छाशक्ति मजबूत है।”

प्रेस से बात करते वक्त आर्टिकल 370 और नेताओं की नजरबंदी आदि सवालों पर बुखारी ने खुल कर अपनी राय रखी। पीडीपी की सरकार में मंत्री रहे अल्ताफ बुखारी ने जम्मू कश्मीर के तीन पूर्व सीएम सहित अन्य नेताओं की गिरफ्तारी पर कहा कि लोकतंत्र में नेताओं को नजरबंद रखना सही नहीं है। याद रहे कि आर्टिकल 370 को निरस्त कर जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा खत्म किए जाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बाँट देने के बाद से राज्य में हिंसा की संभावना को देखते हुए कई नेता नजरबंद रखे गए हैं, जिनमें फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती भी शामिल हैं। वहीं 370 के सवाल पर बुखारी ने कहा कि यह मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है, जिसके फैसले का हम सभी को इन्तजार है, लिहाजा इस पर अभी बात करने की कतई जरूरत नहीं समझता।

बुख़ारी ने अपनी पार्टी के एजेंडे पर कहा, “राज्य के लोगों के आत्मसम्मान और सम्मान की रक्षा करने, कश्मीरी पंडितों की गरिमापूर्ण वापसी, युवाओं और महिलाओं के सशक्तिकरण की माँग ‘अपनी पार्टी’ करेगी।” बुखारी ने कहा कि यह सूबे के आम लोगों की पार्टी है, इसलिए इसका नाम ‘अपनी पार्टी’ रखा गया है। और उनकी पार्टी लोगों की तर्कसंगत आकांक्षाओ का ध्यान रखेगी। बकौल बुखारी उनकी पार्टी ऐसा कोई वादा नहीं करेगी, जो सच पर आधारित नहीं हो।

जम्मू कश्मीर के “प्रधानमंत्री” रह चुके बख्शी गुलाम मोहम्मद से अपनी तुलना पर पीडीपी के पूर्व हैवी वेट नेता अल्ताफ बुखारी ने जवाब दिया- अगर बख्शी साहब (बख्शी गुलाम मोहम्मद) के साथ मेरी तुलना की जाती है तो ठीक है, मुझे याद आता है कि बख्शी साहब का पॉलिटिकल और इकोनॉमिक विजन था। उसी विजन को आज उभारने की जरूरत है।

जम्मू-कश्मीर के आर्थिक हालातों का जिक्र करते हुए बुखारी ने कहा कि चाहे छोटा व्यवसायी हो या बड़ा, सबकी हालत खराब है। उन्होंने कहा कि हम चुप बैठते लेकिन मेरे जमीर ने मुझे यह इजाजत नहीं दी। 5 अगस्त के बाद से जेलों में बंद राजनीतिक कैदियों के सवाल पर बुखारी ने ऐसे सभी राजनीतिक कैदियों को रिहा करने की माँग की।

दिल्ली की राजनीति से जुड़े प्रश्न पर उन्होंने कहा कि हम इसे इस तरह नहीं देखते कि वहाँ कौन राज कर रहा है, हमारे लिए वहाँ जो भी है, वो भारत सरकार है, जिसके साथ हमें मिलकर चलना है। पार्टी में शामिल हुए और आगे शामिल होने वाले नेताओं से जुड़े सवाल पर बुखारी ने कहा कि हमारी पार्टी ओल्ड एंड यंग चेहरों का मिक्स्चर है। पार्टी में अनुभवी और युवाओं की जरूरत है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पीडीपी से निष्कासित अल्ताफ बुखारी के निवास पर कल शनिवार शाम को इस नव गठित ‘अपनी पार्टी’ के कोर ग्रुप की बैठक हुई थी, जिसमें पार्टी के संविधान और एजेंडे को सलाह मशविरे के बाद अंतिम रूप दिया गया था। अल्ताफ बुखारी को पार्टी का अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव पूर्व कृषि मंत्री गुलाम हसन मीर ने पेश किया। जिसका समर्थन नेकां से औपचारिक इस्तीफा देने वाले पूर्व एमएलसी विजय बकाया ने किया।

‘अपनी पार्टी’ में नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी, कांग्रेस व अन्य कई दलों के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक शामिल हुए हैं। अपनी नई पार्टी के गठन की घोषणा के पहले बुखारी ने सभी महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि आज के दिन ही नहीं, बल्कि महिलाओं को हर दिन इज्जत दी जानी चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

शीना बोरा की गुमशुदगी के बारे में जानते थे परमबीर सिंह, फिर भी नहीं हुई थी FIR

शीना बोरा जब गायब हुई तो राहुल मुखर्जी और इंद्राणी, परमबीर सिंह के पास गए। वह उस समय कोंकण रेंज के आईजी हुआ करते थे।

रवीश की TRP पर बकैती, कश्मीरी नेताओं का पक्ष लेना: अजीत भारती का वीडियो| Ajeet Bharti on Ravish’s TRP, Kashmir leaders

TRP पर ज्ञान देते हुए रवीश ने बहुत ही गूढ़ बातें कहीं। उन्होंने दर्शकों को सख्त बनने के लिए कहा। TRP पर रवीश ने पूछा कि मीटर दलित-मुस्लिम के घर हैं कि नहीं?

‘लालू के रेल’ की तरह ही था बिहार का ‘चरवाहा विद्यालय’: जिस काम में लगे 6 विभाग, वो बना शराब, जुआ और ताश का...

चरवाहा स्कूल को चलाने की जिम्मेदारी कृषि, सिंचाई, उद्योग, पशु पालन, ग्रामीण विकास और शिक्षा विभाग को दी गई थी। लालू ने एक तरह से बच्चों पर ज़िंदगी भर के लिए 'चरवाहा' का टैग लगा दिया।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

हिन्दुओं की हत्या पर मौन रहने वाले हिन्दू ‘फ़्रांस की जनता’ होना कब सीखेंगे?

हमें वे तस्वीरें देखनी चाहिए जो फ्रांस की घटना के पश्चात विभिन्न शहरों में दिखती हैं। सैकड़ों की सँख्या में फ्रांसीसी नागरिक सड़कों पर उतरे यह कहते हुए - "हम भयभीत नहीं हैं।"

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

ऐसे मुस्लिमों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए, वहीं जाओ जहाँ ऐसी बर्बरता सामान्य है

जिनके लिए शिया भी काफिर हो चुका हो, अहमदिया भी, उनके लिए ईसाई तो सबसे पहला दुश्मन सदियों से रहा है। ये तो वो युद्ध है जो ये बीच में हार गए थे, लेकिन कहा तो यही जाता है कि वो तब तक लड़ते रहेंगे जब तक जीतेंगे नहीं, चाहे सौ साल लगे या हजार।

‘कश्मीर टाइम्स’ अख़बार का श्रीनगर ऑफिस सील, सरकारी सम्पत्तियों पर कर रखा था कब्ज़ा

2 महीने पहले कश्मीर टाइम्स की एडिटर अनुराधा भसीन को भी उनका आधिकारिक निवास खाली करने को कहा गया था।
- विज्ञापन -

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

शीना बोरा की गुमशुदगी के बारे में जानते थे परमबीर सिंह, फिर भी नहीं हुई थी FIR

शीना बोरा जब गायब हुई तो राहुल मुखर्जी और इंद्राणी, परमबीर सिंह के पास गए। वह उस समय कोंकण रेंज के आईजी हुआ करते थे।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया के केनार चट्टी गाँव के कारीगर, जो अब बन चुके हैं मजदूर। Bihar Elections Ground Report: Wazirganj, Gaya

मैं आज गया जिले के केनार चट्टी गाँव गया। जो पहले बर्तन उद्योग के लिए जाना जाता था, अब वो मजदूरों का गाँव बन चुका है।

रवीश की TRP पर बकैती, कश्मीरी नेताओं का पक्ष लेना: अजीत भारती का वीडियो| Ajeet Bharti on Ravish’s TRP, Kashmir leaders

TRP पर ज्ञान देते हुए रवीश ने बहुत ही गूढ़ बातें कहीं। उन्होंने दर्शकों को सख्त बनने के लिए कहा। TRP पर रवीश ने पूछा कि मीटर दलित-मुस्लिम के घर हैं कि नहीं?

TRP मामले की जाँच अब CBI के पास, UP में दर्ज हुई अज्ञात आरोपितों के खिलाफ शिकायत

TRP में गड़बड़ी का मामला अब CBI के हाथ में आ गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की सिरफारिश के बाद लखनऊ पुलिस से जाँच का सारा जिम्मा CBI ने ले लिया है।

क्या आप राहुल गाँधी और ओवैसी से देश के हितों की कल्पना करते हैं: योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ ने कहा, "राहुल और ओवैसी पाकिस्तान की तारीफ कर रहे हैं। क्या आप इन दोनों से देश की हितों की कल्पना करते हैं?"

बंद किया गया पेरिस का मस्जिद, हमास समर्थित समूह भी भंग: शिक्षक सैमुअल की श्रद्धांजलि सभा में उपस्थित रहेंगे राष्ट्रपति मैक्रों

फ्रांस के गृह मंत्री गेराल्ड ने कहा कि देश 'अंदर के दुश्मनों' से लड़ रहा है। फ्रांस में सक्रिय हमास का समर्थन करने वाले समूह को भंग कर दिया गया है।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: जमुई से BJP प्रत्याशी श्रेयसी सिंह से चुनावी मुद्दों पर बातचीत। BJP’s Shreyasi Singh interview

हमने श्रेयसी से यह जानने की कोशिश की कि उन्होंने बीजेपी को ही क्यों चुना, जबकि उनके पास कई विकल्प थे

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,927FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe