नीतीश की इफ्तार Vs नवरात्रि पे फलाहार: ‘हिंदू हृदय सम्राट’ को लोगों ने कहा – आप बनें बिहार के CM

सोशल मीडिया यूजर्स ने नीतीश के इफ्तार को नाटक करार दिया। एक यूजर ने ये भी कहा कि अगर अब इन्होंने नवरात्रि में फलाहार का आयोजन नहीं करवाया तो आगामी विधानसभा चुनाव में इन्हें करारा जवाब मिलेगा।

बिहार में इन दिनों सियासी पारा बहुत गरमाया हुआ। चुनावों के दौरान एक दूसरे के विरोधी अब एक दूसरे की इफ्तार पार्टी में शिरकत करने के कारण चर्चा का विषय बन गए हैं। ऐसे में सोशल मीडिया पर गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार पर एक ट्वीट किया है, जिसके बाद लोगों ने नीतीश की आलोचना में और गिरिराज सिंह की तारीफ़ में ट्वीट्स की झड़ी लगा दी।

दरअसल, पटना के हज भवन में जदयू द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में ‘हम'(हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा) के अध्यक्ष जीतनराम माँझी शामिल हुए, और माँझी द्वारा आयोजित इफ्तार में नीतीश कुमार पहुँचे। इसके बाद इफ्तार पार्टी के बहाने मेल-जोल बढ़ाने पर भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने नीतीश पर तीख़ी टिप्पणी करते हुए लिखा, “कितनी खूबसूरत तस्वीर होती जब इतनी ही चाहत से नवरात्रि पे फलाहार का आयोजन करते और सुंदर सुदंर फ़ोटो आते??…अपने कर्म धर्म में हम पिछड़ क्यों जाते और दिखावा में आगे रहते हैं???”

गिरिराज सिंह की इस टिप्पणी पर अधिकांश ट्विटर यूजर उनसे सहमत नजर आए और अप्रत्यक्ष रूप से यूजर्स ने नीतीश के इस मेल-जोल पर खूब तंज कसा। नीतीश पर गिरिराज की दिखावे वाली टिप्पणी पर सबसे पहले तो लोगों ने गिरिराज की बेबाकी की तारीफ़ की।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कुछ लोगों ने यहाँ तक इच्छा जताई कि वो उन्हें बिहार का मुख्यमंत्री बनते देखना चाहते हैं। यूजर्स ने उन्हें ‘हिंदू हृदय सम्राट’ भी बताया।

अधिकतर यूजर्स सोशल मीडिया पर गिरिराज के समर्थन में नजर आए और उन्होंने नीतीश के इफ्तार को नाटक करार दिया। एक यूजर का ये भी कहना रहा कि अगर अब इन्होंने नवरात्रि में फलाहार का आयोजन नहीं करवाया तो आगामी विधानसभा चुनाव में इन्हें करारा जवाब मिलेगा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: