बाढ़ पीड़ितों से आपकी काफ़ी तारीफ सुनी, दोबारा सुनने को न मिले: गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की समस्याएँ सुनी। इस दौरान राज्य सरकार के अधिकारी नदारद थे। गिरिराज ने फोन कर अधिकारियों से बाढ़ पीड़ितों के लिए भोजन-पानी की व्यवस्था करने को कहा।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने अपने संसदीय क्षेत्र बेगूसराय के बाढ़ पीड़ित इलाक़ों का दौरा किया। गिरिराज ने बाढ़ पीड़ितों की बात सुनी और इस सम्बन्ध में राज्य सरकार व अन्य अधिकारियों से बात कर उनकी समस्या के समाधान का आश्वासन दिया। हालाँकि, इस दौरान वह एसडीओ पर भड़क गए और बीच सड़क उन्हें जमकर फटकार लगाई।

दरअसल, ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्री से उक्त एसडीओ की शिकायत की थी, जिसके बाद उन्होंने अधिकारी की क्लास लगाई। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें गिरिराज ने एसडीओ को कैम्प लगाने को कहा।

बाढ़ पीड़ितों की शिकायत के बाद गिरिराज सिंह ने एसडीओ को सुनाई खरी-खरी

वायरल वीडियो में केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह ने अनुमंडल पदाधिकारी से कहा:

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

“एसडीओ साहब भला गाड़ी से क्यों उतरेंगे? वो तो बाबू हैं, साहब हैं। एसडीओ साहब बहुत बड़े आदमी हैं। मैंने बाढ़ पीड़ितों से आपकी (एसडीओ की) काफ़ी तारीफ (शिकायत) सुनी है। कोशिश कीजिए कि मुझे ये तारीफ दोबारा सुनने को न मिले। आप सरकारी अधिकारी हैं। सारे लोग आपके लिए बराबर हैं। 2016 में बाढ़ के दौरान यहाँ पीड़ितों के लिए कैम्प लगाया गया था। अगर इस बार कैम्प नहीं लगा तो मैं आपके दफ़्तर के बाहर धरना दूँगा। हम जनप्रतिनिधियों से भी ज्यादा आपका दायित्व बनता है। आप पक्षपात न करें।”

वीडियो में देखा जा सकता है कि स्थानीय लोग एसडीओ से काफ़ी नाराज़ दिख रहे हैं। गिरिराज सिंह ने बारिश में भींगते हुए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और लोगों की समस्याओं को जाना। इस दौरान राज्य सरकार के अधिकारी नदारद रहे। गिरिराज ने फोन कर के अधिकारियों को लोगों की समस्याओं के बारे में बताया और बाढ़ पीड़ितों के लिए भोजन-पानी की व्यवस्था करने को कहा। अधिकारियों से बात करते हुए उन्होंने उन्हें घर से बाहर निकलने और क्षेत्र में घूमने की सलाह दी।

गिरिराज सिंह ने बिहार के मुख्य सचिव से बात कर उन्हें लोगों की समस्याओं से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि राज्य प्रशासन से सहयोग का आश्वासन मिला है। उन्होंने राज्य सरकार से मवेशियों के लिए चारा उपलब्ध कराने की भी अपील की। उन्होंने राज्य सरकार से माँग करते हुए कहा कि बाढ़ पीड़ितों के लिए दवाइयों और नाव की व्यवस्था की जाए।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: