गोवा CM मनोहर पर्रिकर का निधन, राष्ट्रपति समेत PM और मंत्रियों ने जताया शोक

पर्रिकर के रक्षा मंत्रित्व काम में ही पाकिस्तान में बहुचर्चित सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था। मनोहर पर्रिकर उन गिने -चुने नेताओं में से एक थे जो सादा जीवन जीने के लिए विख्यात थे।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को लेकर बेहद दुःखद ख़बर आ रही है। गोवा मुख्यमंत्री कार्यालय ने जानकारी देते हुए बताया था कि उनकी हालत बहुत ही नाजुक है और डॉक्टर्स की टीम लगातार प्रयास कर रही है। अब ताज़ा ख़बरों के अनुसार, देश के पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया है। कैंसर की बीमारी से जूझ रहे पर्रिकर के निधन के बाद राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने ट्वीट कर शोक जताया।

राष्ट्रपति ने लिखा- “गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ। उन्होंने दृढ़ता और गरिमा से अपनी बीमारी का सामना किया। सार्वजनिक जीवन में सत्यनिष्ठा और समर्पण के प्रतीक रहे श्री पर्रिकर ने गोवा की और भारत की जो सेवा की है, वह हमेशा याद रखी जाएगी।”

बता दें कि पर्रिकर के रक्षा मंत्रित्व काम में ही पाकिस्तान में बहुचर्चित सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था। मनोहर पर्रिकर उन गिने -चुने नेताओं में से एक थे जो सादा जीवन जीने के लिए विख्यात थे। सीएम रहते स्कूटर से सड़कों पर निकल जाना अक्सर सुर्खियाँ बनती थी। उनके रक्षा मंत्री रहते जी जवानों के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’ योजना लागू की गई। इसकी माँग बरसों से की जा रही थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पर्रिकर गोवा में भाजपा के संकटमोचक भी थे। गोवा में सरकार बनाने में आ रही मुश्किलों के दौरान सभी विधायकों का पसंददीदा चेहरा बन कर उभरे पर्रिकर को केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देकर वापस गोवा की जिम्मेदारी सँभालनी पड़ी थी। उनके नाक में चिकित्सीय नलियाँ लगी हुई थीं और वे ठीक से चल नहीं पाते थे लेकिन फिर भी वे जहाँ तक संभव हो सका, शासन से जुड़े कार्य निपटाते रहे। कभी किसी परियोजना का निरीक्षण तो कभी फाइलों का निपटारा- बीमारी के बीच भी पर्रिकर राज्य के विकास कार्यों के लिए सजग रहे।

उनके निधन पर उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत सारे मंत्रियों और आम नागरिकों ने शोक प्रकट किया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी, राम मंदिर
हाल ही में ख़बर आई थी कि पाकिस्तान ने हिज़्बुल, लश्कर और जमात को अलग-अलग टास्क सौंपे हैं। एक टास्क कुछ ख़ास नेताओं को निशाना बनाना भी था? ऐसे में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि कमलेश तिवारी के हत्यारे किसी आतंकी समूह से प्रेरित हों।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

100,990फैंसलाइक करें
18,955फॉलोवर्सफॉलो करें
106,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: