जहाँ पैदा हुआ था बाबर, वहीं गुजरात के CM विजय रूपाणी करेंगे सरदार पटेल की मूर्ति का अनावरण

सीएम रूपाणी उजबेकिस्तान के अंदीजान शहर जाएँगे। जहाँ पर बाबर का जन्म हुआ था। यहाँ पर विजय रूपाणी लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति का अनावरण करेंगे।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी शनिवार (अक्टूबर 19, 2019) को 5 दिन के दौरे पर उजबेकिस्तान जा रहे हैं। यहाँ वो एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के साथ वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में देश के पहले निवेश शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जा रहे हैं। सीएम रुपाणी उज्बेकिस्तान सरकार के न्योते पर एक कार्यक्रम में शरीक होंगे। वह यहाँ इंटरनैशनल इन्वेस्टमेंट फोरम में हिस्सा लेंगे।

इस दौरान सीएम रूपाणी उजबेकिस्तान के अंदीजान शहर भी जाएँगे। बता दें कि यहीं पर भारत में मुगल शासन की नींव रखने वाले बाबर का 1483 में जन्म हुआ था। यहाँ पर विजय रूपाणी लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति का अनावरण भी करेंगे। इस शहर में भारत के पहले गृहमंत्री के नाम पर एक सड़क का नामकरण भी किया गया है।

अपनी यात्रा के दौरान रूपाणी भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी श्रद्धांजलि देंगे, जिनकी ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करने के एक दिन बाद 11 जनवरी 1966 को ताशकंद की आधिकारिक यात्रा पर मृत्यु हो गई थी। इसके साथ ही रूपाणी ताशकंद के शास्त्री स्कूल में भी जाएँगे और वहाँ के छात्रों के साथ बातचीत करेंगे। इसके अलावा वह राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर आधारित एक प्रदर्शनी का भी उद्घाटन करेंगे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

विजय रूपाणी अपनी पाँच दिवसीय यात्रा के दौरान एक के बाद एक कई सारे बैठकों में हिस्सा लेने वाले हैं। इस दौरान वो उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जीयोयेव से मुलाकात करेंगे। और फिर अंदीजान, समरकंद, बुखारा क्षेत्र के गर्वनरों के साथ ही ताशकंद शहर के मेयर से भी मुलाकात करेंगे। इसके अलावा रुपाणी उज्बेकिस्तान के फ्री फार्मास्यूटिकल जोन जाएँगे। जहाँ वो कैडिला फार्मास्यूटिकल्स की एक यूनिट का उद्घाटन करेंगे और साथ ही उज्बेकिस्तान में शारदा यूनिवर्सिटी की भी शुरुआत करेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: