Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेसी नेता हमजा मियाँ से निकाह के बाद आनन्या डागर बनीं शौकत जमानी बेगम,...

कॉन्ग्रेसी नेता हमजा मियाँ से निकाह के बाद आनन्या डागर बनीं शौकत जमानी बेगम, रामपुर के नूर महल में हुईं रस्में

मेहंदी, चूड़ी, ढोल छपाई, चौघड़ा, उबटन और दुल्हन की गोद भराई की रस्में भी पूरी की गईं। पूर्व मंत्री नवाब काजिम अली खान उर्फ़ उर्फ़ नवेद मियाँ के बेटे एवं कॉन्ग्रेस नेता हैदर अली खान उर्फ़ हमजा मियाँ के निकाह में...

पूर्व मंत्री नवाब काजिम अली खान उर्फ़ उर्फ़ नवेद मियाँ के बेटे एवं कॉन्ग्रेस नेता हैदर अली खान उर्फ़ हमजा मियाँ का शुक्रवार (दिसंबर 18, 2020) को हरियाणा के कारोबारी रोहित सिंह डागर की बेटी आनन्या के साथ निकाह हुआ। निकाह के साथ ही आनन्या डागर अब शौकत जमानी बेगम बन गई हैं। हमजा मियाँ और आनन्या डागर इससे पहले कोर्ट मैरिज कर चुके हैं। नवाब कालिज रामपुर रियासत के अंतिम शासक नवाब रजा अली खान के पौत्र हैं।

वहीं हमजा मियाँ को ‘नवाबजादा’ के रूप में जाना जाता है। उनके निकाह से पहले कुरानख्वानी की रस्म पूरी की गई। दुल्हन अपने परिजनों के साथ निकाह के 1 दिन पूर्व ही रामपुर पहुँच गई थी। पूर्व सांसद बेगम नूरबानो, नवाब की बीवी बेगम यासीन अली खान उर्फ़ शाहबानो, बड़े बेटे नवाबजादा अली मोहम्मद खान उर्फ़ कहवान मियाँ, उनकी पत्नी शाज़ली अली खान सहित कई बड़े अतिथि इस मौके पर कार्यक्रम का हिस्सा बने।

मेहंदी, चूड़ी, ढोल छपाई, चौघड़ा, उबटन और दुल्हन की गोद भराई की रस्में पूरे शानो-शौकत के साथ गुरुवार को ही पूरी कर ली गई थी। पूर्व मंत्री के PRO काशिफ खान ने मीडिया को जानकारी दी कि मौलाना शाह खालिद खान और मौलाना अली मौहम्मद नक़वी ने नूर महल में निकाह पढ़ाया। इस नूर महल को नवाब खानदान की शान माना जाता है। इंदिरा गाँधी, एचडी देवेगौड़ा और मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री रहते यहाँ का दौरा कर चुके हैं।

अंग्रेजों के जमाने में जब रामपुर में नवाबों का आज हुआ करता था, तब कोठी खास बाग के पास बनवाए गए राजभवन में नवाब रहते थे, वहीं अंग्रेजों के प्रतिनिधि के रूप में वायसराय इसी नूर महल में रहा करते थे। देश की स्वतंत्रता के बाद इसे गेस्ट हाउस में तब्दील कर दिया गया। नवाब रजा अली खान के बेटे नवाब जुल्फिकार अली खान उर्फ़ मिक्की मियाँ के नाम पर जुल्फिकार मंजिल इसका नाम रखा गया। इसे जुल्फिकार और नूरबानों के प्यार की निशानी भी माना जाता है।

बताया गया है कि हमजा मियाँ की शाही शादी में कोरोना संक्रमण के कारण सिर्फ रिश्तेदार, पारिवारिक मित्र और राजघरानों के प्रतिनिधि ही शामिल हुए। रामपुर में दावत-ए-आम का आयोजन जनवरी के प्रथम सप्ताह में किया जाएगा। निकाह पढ़ाने के लिए शिया और सुन्नी, दोनों समुदाय के मौलाना को रखा गया था। दोनों तरीकों से निकाह पढ़ाया गया। पूरे नूर महल को भव्य रूप से सजाया गया था, जहाँ निकाह की रस्में पूरी की गईं। बता दें कि सपा नेता आजम खान भी रामपुर में राजनीति करते रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe