Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीति'युवराज' राहुल के सम्मान में अब कॉन्ग्रेस महासचिव हरीश रावत ने भी दिया इस्तीफ़ा

‘युवराज’ राहुल के सम्मान में अब कॉन्ग्रेस महासचिव हरीश रावत ने भी दिया इस्तीफ़ा

"प्रेरणा देने की क्षमता केवल श्री राहुल गाँधी में है, उनके हाथों में बागडोर रहे तो यह संभव है कि हम 2022 में राज्यों में हो रहे चुनाव में वर्तमान स्थिति को बदल सकते हैं और 2024 में भाजपा और श्री नरेंद्र मोदी को परास्त कर सकते हैं।"

लोकसभा चुनाव 2019 में मिली करारी शिक़स्त के बाद से ही कॉन्ग्रेस में इस्तीफ़ों का दौर लगातार जारी है। राहुल गाँधी के त्यागपत्र के बाद पार्टी के एक और दिग्गज़ नेता ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। असम के प्रभारी व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कॉन्ग्रेस महासचिव पद से इस्तीफ़ा दे दिया है।

हरीश रावत के अनुसार, “लोकसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस पार्टी की हार और संगठनात्मक कमज़ोरी के लिए हम पदाधिकारीगण उत्तरदायी हैं। असम में पार्टी द्वारा अपेक्षित स्तर का प्रदर्शन न कर पाने के लिए प्रभारी के रूप में मैं उत्तरदायी हूँ। मैंने अपनी कमी को स्वीकारते हुए अपने महामंत्री के पद से पूर्व में ही त्यागपत्र दे दिया है।”

इसके आगे उन्होंने कहा कि पार्टी के लिए समर्पित भाव से काम करने के लिए मेरी स्थिति के लोगों के लिए पद आवश्यक नहीं है, मगर प्रेरणा देने वाला नेता आवश्यक है। प्रेरणा देने की क्षमता केवल श्री राहुल गाँधी में है, उनके हाथों में बागडोर रहे तो यह संभव है कि हम 2022 में राज्यों में हो रहे चुनाव में वर्तमान स्थिति को बदल सकते हैं और 2024 में भाजपा और श्री नरेंद्र मोदी को परास्त कर सकते हैं। इसलिए लोकतांत्रिक शक्तियाँ व सभी कॉन्ग्रेसजन, श्री राहुल गाँधी को अध्यक्ष पद पर देखना चाहते हैं।

राष्ट्रीय महासचिव के पद से इस्तीफ़ा देने की जानकारी हरीश रावत ने फेसबुक पर भी शेयर की।

हाल ही में देहरादून में बुलाई गई कॉन्ग्रेस की समीक्षा बैठक में भी फूट देखने को मिली थी। इसमें कॉन्ग्रेस के हरीश रावत, प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हरदेश और पूर्व प्रदेश किशोर उपाध्याय समेत पार्टी के सभी पूर्व और वर्तमान विधायक भी मौजूद थे। ख़बर के अनुसार, कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत जब प्रदेश कार्यालय पहुँचे, तो उन्हें रिसीव करने कोई भी बड़ा नेता नहीं पहुँचा था। इस बात से नाराज हरीश रावत बिना प्रदेश अध्यक्ष से मिले ही सीधे मीटिंग हॉल में पहुँच गए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe