Wednesday, April 17, 2024
Homeराजनीतिहिमाचल के 6 बार के CM रहे कॉन्ग्रेस नेता वीरभद्र सिंह का 87 वर्ष...

हिमाचल के 6 बार के CM रहे कॉन्ग्रेस नेता वीरभद्र सिंह का 87 वर्ष की आयु में निधन, होली लाज लाया गया पार्थिव शरीर

पूर्व मुख्यमंत्री की तबीयत कोरोना से ठीक होने के बाद और बिगड़ी थी और उपचार के लिए आइजीएमसी में भर्ती करवाया गया था। हाल ही में वह 87 वर्ष के हुए थे। पूर्व मुख्‍यमंत्री के पार्थिव शरीर को अस्पताल से उनके निजी आवास होलीलाज लाया गया है।

हिमाचल प्रदेश के छह बार के मुख्यमंत्री रहे और कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता वीरभद्र सिंह का निधन हो गया है। लंबी बीमारी के बाद शिमला के इंदिरा गाँधी मेडिकल कॉलेज (IGMC) में आज 8 जुलाई 2021 को तड़के 3.40 मिनट पर उन्होंने अंतिम साँस ली। वह काफी समय से बीमार थे। दो बार कोरोना संक्रमण को मात देने के बाद भी लगातार अस्‍पताल में उनका इलाज चल रहा था व पिछले दो दिन से वेंटीलेटर पर थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री की तबीयत कोरोना से ठीक होने के बाद और बिगड़ी थी और उपचार के लिए आइजीएमसी में भर्ती करवाया गया था। हाल ही में वह 87 वर्ष के हुए थे। पूर्व मुख्‍यमंत्री के पार्थिव शरीर को अस्पताल से उनके निजी आवास होलीलाज लाया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार से कॉन्ग्रेस नेता वीरभद्र सिंह वेंटिलेटर पर थे। उन्हें साँस लेने में दिक्कत हो रही थी। डॉक्टरों की टीम उनके स्वास्थ्य पर नजर रख रही थी। बता दें कि वीरभद्र सिंह बीते 30 अप्रैल से शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में दाखिल थे। जहाँ उनका इलाज चल रहा था। इस दौरान उन्हें दोबारा कोरोना भी हो गया था। लेकिन उन्होंने कोरोना को मात दे दी थी। बाद में उन्हें कोविड वार्ड से शिफ्ट किया गया था और वेंटिलेटर पर जाने के बाद वह बेहोशी में थे।

गौरतलब है कि वीरभद्र सिंह छह बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे हैं। वीरभद्र सिंह यूपीए सरकार में भी केंद्रीय कैबिनेट मंत्री रह चुके थे। कॉन्ग्रेस शासन में उनके पास केंद्रीय इस्पात मंत्रालय रहा। इसके अलावा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय भी रह चुका है।

वीरभद्र सिंह का जन्म 23 जून, 1934 को बुशहर रियासत के राजा पदम सिंह के घर में हुआ था। वीरभद्र सिंह वर्ष 1983 से 1990, 1993 से 1998, 1998, फिर 2003 से 2007 और 2012 से 2017 में हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे। हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह लोकसभा के लिए पहली बार 1962 में चुने गए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

18 महीने में होती थी जितनी बारिश, उतना पानी 1 दिन में दुबई में बरसा: 75 साल का रिकॉर्ड टूटने से मध्य-पूर्व के रेगिस्तान...

दुबई, ओमान और अन्य खाड़ी देशों में मंगलवार को एकाएक हुई रिकॉर्ड बारिश ने भारी तबाही मचाई है। ओमान में 19 लोगों की मौत भी हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe