Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिममता दीदी के राज में बंगाल के बच्चे 'मिड डे मील' के नाम पर...

ममता दीदी के राज में बंगाल के बच्चे ‘मिड डे मील’ के नाम पर खा रहे नून-भात

हुगली की सांसद व बंगाल भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी के हरकत में आने के बाद जागा प्रशासन। तृणमूल नेता गौरीकान्त मुखर्जी पर फंड डकारने का आरोप।

ममता बनर्जी के राज में पश्चिम बंगाल के बच्चे मिड डे मील में चावल और नमक खाने को विवश हैं। हुगली के बालिका बानी मंदिर स्कूल में छात्रों को ‘मिड डे मील’ के नाम पर नून-चावल दिया जा रहा है। इसकी सूचना मिलते ही हुगली की सांसद व बंगाल भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी ने स्कूल का औचक निरीक्षण किया और ख़बर को सही पाया।

सांसद ने देखा कि न सिर्फ़ छात्रों को नून-चावल खिलाया जा रहा है, बल्कि बोर्ड पर मेनू में भी नून-चावल लिखा हुआ है। इस प्रकरण का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। स्कूल में कुल 1200 छात्र-छात्राएँ हैं, जिनमें से कक्षा पाँचवीं से आठवीं तक के 600 छात्र-छात्राओं को नमक-चावल खाने में दिया जा रहा है। चिनसुरा नगरपालिका के अध्यक्ष के अध्यक्ष टीएमसी नेता गौरीकान्त मुखर्जी उक्त स्कूल की मैनेजिंग कमिटी के अध्यक्ष हैं। भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने गौरीकान्त मुखर्जी पर सरकारी फंड्स के दुरूपयोग का आरोप लगाया है।

स्कूल में पिछ्ले एक हफ्ते से बच्चों को लंच में नमक-चावल दिया जा रहा था। स्कूल में टीचर इंचार्ज भी नहीं है, जिसके हस्ताक्षर के बाद मिड डे मील के लिए ज़रूरी सामान ख़रीदे जाते हैं। हुगली के डीएम ने कहा कि मामले की जाँच के लिए कमिटी गठित की गई है और जो भी दोषी पाए जाएँगे, उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी। राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा कि सूचना मिली थी कि छात्रों के मिड डे मील के लिए 25,000 रुपए में 5000 अंडे ख़रीदे गए हैं लेकिन फिर भी छात्रों को खाने के लिए एक भी अंडा नहीं दिया गया। स्कूल में मिड डे मील के लिए रखा 257 किलो चावल गायब हो गया है। सांसद चटर्जी ने पूछा कि किस मंत्री या नेता ने बच्चों के खाने के साथ बेईमानी की है?

तृणमूल नेता गौरीकान्त मुखर्जी ने मिड डे मील इंचार्ज के रूप में जबरन अपने विश्वस्त शिक्षक को नियुक्त कर दिया था लेकिन अन्य शिक्षकों द्वारा उच्चाधिकारियों को शिकायत करने के बाद इस प्रक्रिया को रोकना पड़ा। इस वर्ष जून में सिर्फ़ 18 दिन ही बच्चों को मिड डे मील दिया गया। मुखर्जी ने आरोप लगाया है कि कुछ शिक्षकों ने एक योजना के तहत जानबूझ कर छात्रों को नून-चावल दिया ताकि भाजपा इसे एक मुद्दा बना सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रंजनगाँव का गणपति मंदिर: गणेश जी ने अपने पिता को दिया था युद्ध में विजय का आशीर्वाद, अष्टविनायकों में से एक

पुणे के इस स्थान पर भगवान गणेश ने अपनी पिता की उपासना से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिया था। इसके बाद भगवान शिव ने...

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,723FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe