Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति'बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने...

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा 26/11 का दोष

बकौल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ये हमारे देश का दुर्भाग्य रहा कि जब पहले हमारे देश के प्रधानमंत्री बाहर जाते थे, तो पता नहीं चलता था कि गए हैं और जब वापस आते थे तब भी पता नहीं चलता था कि वो आ गए हैं? उन्होंने विदेश में भारत में मिल रहे सम्मान पर कहा कि इसमें मोदी नहीं है, ये हम भ्रम ना फैलाएँ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘इंडिया टीवी’ पर रजत शर्मा को इंटरव्यू दिया है, जिसका प्रसारण गुरुवार (23 मई, 2024) की रात हुआ। ‘400 पार’ को लेकर सोशल मीडिया पर चल रहे क्रिएटिव तुकबंदी वाले नारों पर पीएम मोदी ने कहा कि इतना तो पक्का है कि देश का जो युवा है, उसका जो क्रिएटिव माइंड है, वो इस चुनाव को काफी एक्टिव लगता है और उसके कारण वो हर चीज में नारा भी, व्यंग्य भी और विश्वास भी प्रकट करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जहाँ तक ‘400 पार’ की बात है तो ये BJP द्वारा गढ़ा हुआ नारा नहीं है, ये जनता के दिलों से निकली हुई आवाज है। ‘भारत मंडपम’ में आयोजित ‘सलाम इंडिया’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने आगे कहा कि हिंदुस्तान की आजादी के इतिहास में देश की एकता के लिए जो प्रयास हुए हैं, उसमें अनुच्छेद-370 को लेकर जो काम हुआ है, वो भारत की विकास यात्रा में एक महत्वपूर्ण कदम है, इसलिए किसी ने कहा कि अब बीजेपी को टारगेट करना चाहिए 370 और ये किसी कश्मीर के उनके किसी साथी ने ही कहा था, ताकि 370 का महात्मय जनमानस में रजिस्टर्ड हो जाए।

बकौल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ये हमारे देश का दुर्भाग्य रहा कि जब पहले हमारे देश के प्रधानमंत्री बाहर जाते थे, तो पता नहीं चलता था कि गए हैं और जब वापस आते थे तब भी पता नहीं चलता था कि वो आ गए हैं? उन्होंने विदेश में भारत में मिल रहे सम्मान पर कहा कि इसमें मोदी नहीं है, ये हम भ्रम ना फैलाएँ। पीएम ने कहा कि मोदी शायद निमित्त हो सकता है, लेकिन ये जो कुछ भी करिश्मा है वो 140 करोड़ हिंदुस्तानियों का है, भारत के सामर्थ्य का है।

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा। पीएम मोदी ने इस पर आपत्ति जताई कि 26/11 के दौरान सत्ता में रही पार्टी ने जब कहा कि इस आतंकी वारदात को पाकिस्तानियों ने नहीं भारतीयों ने अंजाम दिया था तो माथा शर्म से झुक जाता है। पाकिस्तान को लेकर उन्होंने कहा कि उनके लिए झंडे पर चाँद है तो बहुत कुछ है, हमारे लिए चाँद पर झंडा है तो बहुत कुछ है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले कभी सोचा ही नहीं गया था कि हिंदुस्तान के तिरंगे की ये ताकत होती है, वो चीजों को ऑब्जर्व करते हैं, स्टडी और एनालिसिस करते हैं। उन्होंने याद दिलाया कि जब नेपाल में भूकंप आया तो जितनी मदद हो सकती थी उन्होंने की, क्योंकि उनकी जिम्मेदारी थी और मुझे गुजरात के भूकंप का अनुभव भी था। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया के लगभग 40 देशों के नागरिकों की मदद कर हमने नेपाल से बाहर निकाला। उन्होंने तंज कसा कि उन्हें मालूम हुआ कि अब तक ह्यूमेंटेरियन ग्राउंड पर हेल्प का ठेका पश्चिम का है, तो उन्होंने तय किया कि अब ये ठेका मेरा रहेगा।

इस दौरान पीएम मोदी ने चर्चा की कि बाबरी के पक्षकार इक़बाल अंसारी आमंत्रण के बाद राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में शामिल हुए लेकिन विपक्षी दलों ने बहिष्कार किया। उन्होंने जानकारी दी कि इक़बाल अंसारी ने अपने PSO को राम मंदिर का मॉडल खरीद कर दिया था। पीएम मोदी ने कहा कि पहले दुनिया का हर देश कश्मीर के मुद्दे पर भारत को कटघरे में खड़ा करता था, इसलिए 370 के संबंध में भी स्वाभाविक था कि दुनिया नाराजगी व्यक्त करेगी, लेकिन हुआ उल्टा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के अधिकतर लोग मौन रहे और जिन्होंने कहा तो ये कहा कि ये उनका आंतरिक मामला है, दुनिया के इस्लामिक देश तक शांत रहे, लेकिन हमारे देश की कॉन्ग्रेस चूँ-चूँ करती रही।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -