Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिजामिया में मिला कारतूस हमारा नहीं, दिल्ली पुलिस ने गोली नहीं चलाई: गृह मंत्रालय

जामिया में मिला कारतूस हमारा नहीं, दिल्ली पुलिस ने गोली नहीं चलाई: गृह मंत्रालय

"घटना वाले दिन दिल्ली पुलिस के पास रबड़ की गोलियाँ तक नहीं थीं। प्रदर्शन स्थल पर पाए गए खाली कारतूस पुलिस विभाग की नहीं। दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर कोई गोली नहीं चलाई है, इसकी फिर भी विस्तृत जाँच चल रही है।"

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दावा किया है कि नागरिकता विधेयक संशोधन के खिलाफ विरोध के बहाने चल रही हिंसा के दौरान जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के किसी भी छात्र पर दिल्ली पुलिस ने गोली नहीं चलाई है। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय के ही मातहत आती है।

गौरतलब है कि सफदरजंग और होली फैमिली अस्पतालों में क्रमशः दो और एक ‘प्रदर्शनकारी’ भर्ती किए गए थे। इनमें से होली फैमिली अस्पताल में घायल प्रदर्शनकारी की चोट गोली से नहीं थी, और उसे डिस्चार्ज भी कर दिया गया है। वहीं सफ़दरजंग अस्पताल में घायल प्रदर्शनकारियों के घावों के बारे में अलग-अलग मेडिकल और पुलिस जाँच चल रही है

प्रदर्शन स्थल पर पाए गए खाली कारतूस के बारे में भी पुलिस के एक अधिकारी ने मीडिया से बात करते हुए यह साफ़ कर दिया कि हालाँकि यह बात तो तय है कि दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर कोई गोली नहीं चलाई है, लेकिन इसकी फिर भी विस्तृत जाँच चल रही है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, एक अन्य प्रश्न के जवाब में अधिकारी ने बताया कि घटना वाले दिन दिल्ली पुलिस के पास रबड़ की गोलियाँ तक नहीं थीं।

स्कूल बस को भी नहीं छोड़ा दंगाई भीड़ ने, दिल्ली के सीलमपुर-जाफराबाद में उग्र प्रदर्शन: कई पुलिसकर्मी घायल

बाबर की औलादें आगजनी कर सबूत दे रहे कि ये देश उनका नहीं: पहलवान ने उपद्रवियों को दी धोबी-पछाड़

12 प्रोफेसरों और वैज्ञानिकों को बनाया बंधक: लैब में JNU के छात्रों की गुंडई, फोन व कागजात छीने

‘जामिया में जो हुआ वो जलियाँवाला बाग़ जैसा’ – हिंदुत्व नहीं छोड़ूँगा वाले उद्धव ठाकरे का सेक्युलर राग

जामिया नगर से गिरफ्तार हुए 10 लोगों का पहले से है आपराधिक रिकॉर्ड, पुलिस ने नहीं चलाई एक भी गोली

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe