Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिकरीब पूरा का पूरा POK और अक्साई चीन बना लद्दाख का हिस्सा: भारत के...

करीब पूरा का पूरा POK और अक्साई चीन बना लद्दाख का हिस्सा: भारत के नक़्शे में बड़ा बदलाव

नए नक़्शे की बात करें तो पाक अधिकृत कश्मीर पूरा का पूरा लद्दाख का हिस्सा बनाया गया है। अर्थात, अगर भारत इसे पाकिस्तान के अवैध कब्जे से निकालता है तो ये लद्दाख का हिस्सा बनेगा और केंद्र शासित प्रदेश के अंतर्गत होगा। इससे फायदा ये होगा कि कश्मीर के नेता इसमें....

दोनों नए केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर का लद्दाख का नया नक्शा जारी कर दिया है। इसके साथ ही भारत के राजनीतिक नक़्शे में नया बदलाव हुआ है। सरदार पटेल के जन्मदिन के अवसर पर देश को दो नए केंद्र शासित प्रदेश मिले। मोदी सरकार ने अगस्त के पहले हफ्ते में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करते हुए जम्मू कश्मीर का विशेषाधिकार वापस ले लिया था, जिसके बाद राज्य के पुनर्गठन का रास्ता साफ़ हुआ। जम्मू कश्मीर के अधिकतर नेताओं को हिरासत में रखा गया है क्योंकि वो लोगों को भड़का कर अशांति फैला सकते थे। लद्दाख और जम्मू कश्मीर के लिए नए उपराज्यपाल भी नियुक्त कर दिए गए हैं।

वहीं अगर नए नक़्शे की बात करें तो पाक अधिकृत कश्मीर पूरा का पूरा लद्दाख का हिस्सा बनाया गया है। अर्थात, अगर भारत इसे पाकिस्तान के अवैध कब्जे से निकालता है तो ये लद्दाख का हिस्सा बनेगा और केंद्र शासित प्रदेश के अंतर्गत होगा। इससे फायदा ये होगा कि कश्मीर के नेता इसमें कोई मोलभाव नहीं कर सकेंगे और पीओके को लेकर हर तरह की बातचीत करने और फ़ैसला लेने का अधिकार पूर्णतः भारत सरकार के ही पास रहेगा। इसी तरह चीन के अवैध कब्जे वाले इलाक़े अक्साई चीन को भी लद्दाख का ही हिस्सा बनाया गया है।

लद्दाख को बिना विधायिका वाला यूटी बनाया गया है, जबकि जम्मू कश्मीर में विधायिका होगी। इसका मतलब पीओके की भी कोई विधायिका नहीं होगी और ये क्षेत्र भी बिना विधायिका वाले केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख का हिस्सा होगा। अगर भविष्य में जम्मू कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा फिर से दे दिया जाता है, तो भी इसका क्षेत्रफल छोटा ही रहेगा क्योंकि अब इसके अंतर्गत लद्दाख नहीं आएगा। गिलगित-बाल्टिस्तान के यूटी में होने के कारण चीन के ‘बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट’ को लेकर भी केंद्र सरकार बिना कश्मीरी नेताओं के हस्तक्षेप के फ़ैसले ले सकेगी।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने संसद में कहा था कि पीओके के लिए जान भी दे देंगे। इसके बाद से लगातार कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत सरकार पीओके और अक्साई चीन को अवैध कब्जों से छुड़ाने के लिए प्रयासरत हैं। जम्मू कश्मीर और लद्दाख के दो नए केंद्र शाषित प्रदेश बनने से आतंकवाद पर भी लगाम लगने की उम्मीद है क्योंकि पुलिस केंद्र सरकार के अधीन होगी और उस पर किसी प्रकार के हस्तक्षेप का दबाव नहीं होगा। अब देश में अब 28 राज्य और 9 केंद्र शासित प्रदेश हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe