Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिमाँ की कसम खाकर बेगूसराय में कन्हैया कुमार के लिए वोट माँग रहे जिग्नेश...

माँ की कसम खाकर बेगूसराय में कन्हैया कुमार के लिए वोट माँग रहे जिग्नेश मवाणी

मवाणी कन्हैया के पक्ष में माहौल बनाने बेगूसराय पहुँचे थे। शायद मवाणी को हवा-हवाई माहौल और वहाँ की हक़ीक़त समझ आ गई जो वो चलते-चलते ही हवा में ही वोट की फरियाद कर बैठे।

सीपीआई के टिकट पर कन्हैया कुमार बेगूसराय से उम्मीदवार हैं। बेगूसराय सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला होने वाला है। एक तरफ आरजेडी बेगूसराय सीट से तनवीर हसन को मोर्चे पर उतार चुकी है तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी की तरफ से गिरिराज सिंह खड़े हैं। इन दोनों दिग्गज नेताओं के बीच में से बेगूसराय सीट निकाल पाना कन्हैया के लिए काफी मुश्किल है।

पर कन्हैया कुमार के तमाम दोस्त और भाजपा विरोधी नेता और पत्रकार उनके समर्थन में हवाई माहौल बनाने में जुट गए हैं। कोई स्टूडियों या डेस्क से ही उनके पक्ष में बने माहौल पर लेख लिख रहा है तो कोई सोशल मीडिया पर ही हवाई माहौल बनाने में जुटा है।

हक़ीक़त क्या है? ये तो चुनाव नज़दीक आते-आते और साफ हो जाएगा। अगर ऐसे ही सिर्फ हवा-हवाई माहौल बनाने की कोशिश की गई तो नंबर-1 का किला ढहकर अगर 3 पर जगह मिले तो कोई आश्चर्य की बात नहीं।

इस आशंका को और मजबूती इस बात से भी मिला कि अभी उनके खास दोस्त जिग्नेश मवाणी कन्हैया के लिए गाड़ी से ही बेगूसराय में “माँ की कसम अच्छा आदमी है” के नाम से वोट माँगते नज़र आए। मवाणी कन्हैया के पक्ष में माहौल बनाने बेगूसराय पहुँचे थे। शायद मवाणी को हवा-हवाई माहौल और वहाँ की हक़ीक़त समझ आ गई जो वो चलते-चलते उसी अंदाज़ में हवा में ही वोट की फरियाद कर बैठे।

हो सकता है बेगूसराय की जनता ऐसे ही हवा में वोट भी दे आए। क्या होगा ये तो चुनाव के बाद ही पता चलेगा लेकिन जमीनी आसार कन्हैया से दूर जाते नज़र आ रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe