Tuesday, June 18, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाफ्रीलांस प्रोटेस्टर शेहला रशीद ने पुराना वीडियो रीट्वीट कर भाजपा की छवि बिगाड़ने की...

फ्रीलांस प्रोटेस्टर शेहला रशीद ने पुराना वीडियो रीट्वीट कर भाजपा की छवि बिगाड़ने की कोशिश की

ये पहली बार नहीं है कि शेहला रशीद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी खबरों और अफवाहों को फैलाने के लिए रंगे हाथों पकड़ी गई है।

जेएनयू की फ्रीलांस प्रोटेस्टर शेहला रशीद ने हाल ही में सक्रिय राजनीति में कदम रखा है। शेहला ने कुछ दिनों पहले ही भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) छोड़कर नेता बने शाह फैसल के द्वारा बनाई गई पार्टी में शामिल होकर राजनीतिक पारी की शुरुआत की है। शेहला ने आज सूरत के एक पुराने वीडियो को रीट्वीट करते हुए भाजपा सरकार की बुराईयों को दिखाने की कोशिश की।

शेहला रशीद द्वारा रीट्वीट किया गया पुराना वीडियो

ट्विटर यूजर द्वारा अपलोड किए गए वीडियो में ये दिखाने की कोशिश की गई है कि आज भाजपा समर्थकों द्वारा सूरत में एक बाइक रैली निकाली गई, जिसकी वजह से लोगों को काफी परेशानी हुई। लोग काफी गुस्सा हो गए थे। ट्वीटर अपलोड करने वाले ट्वीटर यूजर का यह भी कहना है कि चूँकि ये भाजपा के नकारात्मक छवि को दर्शाता है, इसलिए मेनस्ट्रीम के किसी भी मीडिया चैनल में इतनी हिम्मत नहीं है कि वो इसे दिखा सके।

बता दें कि ट्विटर यूजर द्वारा किया गया ये दावा पूरी तरह से निराधार और बेबुनियाद है। सच्चाई तो ये है कि इस वीडियो या फिर इस मुद्दे को किसी मेनस्ट्रीम मीडिया ने इसलिए कवर नहीं किया, क्योंकि आज सूरत में भाजपा समर्थकों द्वारा कोई बाइक रैली नहीं की गई थी और ट्वीटर यूजर द्वारा जो वीडियो अपलोड की गई है, वो दिसंबर 2017 का एक पुराना वीडियो है। शेहला रशीद ने इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी खबरों का प्रचार करना शुरू कर दिया।

वैसे ये पहली बार नहीं है कि शेहला रशीद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी खबरों और अफवाहों को फैलाने के लिए रंगे हाथों पकड़ी गई है। पुलवामा हमले के बाद अफवाहें फैलाने के लिए हाल ही में शेहला राशीद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। इससे पहले एक ट्वीट कर नितिन गडकरी पर पीएम मोदी की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाने की वजह से शेहला के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी और जब गडकरी ने उन्हें कानूनी कार्रवाई की धमकी दी, तो उन्होंने दावा किया कि ट्वीट केवल एक व्यंग्य था और फिर शेहला रशीद ने खुद को इस परेशानी से निकालने के लिए ‘इस्लामोफोबिया’ का कार्ड खेल दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तेजस्वी यादव के बगल में खड़े इस राजा को देखिए, वहीं के व्यवसायी को सुपारी देकर मरवाया जहाँ से माँ थी RJD उम्मीदवार: हत्या...

बिहार के पूर्णिया में 2 जून, 2024 को हुई एक व्यवसायी गोपाल यादुका की हत्या की सुपारी राजद नेता बीमा भारती के बेटे राजा ने दी थी।

चुनाव ब्रिटेन का और वोट ‘कश्मीर की आजादी’ के नाम पर माँग रहा सत्ताधारी दल का सांसद, हिंदू-भारत घृणा से भरा है चुनावी अभियान

कंजर्वेटिव पार्टी के नेता मार्को लोंगी ने पहले तो बकरीद की शुभकामनाएँ दी, उसके बाद भारत विरोधी आग उगलना शुरू किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -