Friday, July 30, 2021
Homeराजनीतिसिंधिया ने उमा भारती से झुक कर लिया आशीर्वाद, विजयवर्गीय से मिले गले: MP...

सिंधिया ने उमा भारती से झुक कर लिया आशीर्वाद, विजयवर्गीय से मिले गले: MP में सियासी हलचल तेज़

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस पिछले 1 साल से भी अधिक समय से सत्ता में है और कमलनाथ ने सरकार और संगठन, दोनों के ही मुखिया का पद सँभाला हुआ है। इससे सिंधिया गुट के नेता लगातार नाराज़ बताए जाते हैं।

मध्य प्रदेश की सियासी हलके में तब बड़ी हलचल देखने को मिली, जब कॉन्ग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के दो बड़े दिग्गजों से मिले। सिंधिया ने मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती से मुलाक़ात की। इस दौरान वहाँ भाजपा महासचिव और पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय भी मौजूद थे। उनसे भी सिंधिया पूरे गर्मजोशी से मिले। कुछ दिनों पहले सिंधिया की कॉन्ग्रेस आलाकमान से नाराजगी की ख़बरें उड़ी थीं, जिन्हें बाद में नकार दिया गया था। सिंधिया ने अपने ट्विटर बायो से कॉन्ग्रेस का नाम हटा दिया था, जिसके बाद मीडिया में तरह-तरह की बातें चल निकली थीं।

अब सिंधिया की विजयवर्गीय व उमा भारती के साथ मुलाक़ात से कॉन्ग्रेस आलाकमान के कान फिर से खड़े हो गए हैं। दरअसल, ये मुलाक़ात ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर हुई। यहाँ तीनों नेताओं के समर्थकों की फ़ौज जुटी हुई थी। इस दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जब उमा भारती को देखा तो उन्होंने झुक कर नमन किया। सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री से आशीर्वाद लिया। उमा भारती ने भी सिंधिया के सिर पर हाथ फेर कर आशीर्वाद दिया। दोनों में कुछ देर तक बातचीत भी हुई।

जब ये मुलाक़ात चल रही थी, तभी दिग्गज भाजपा नेता व मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री रहे कैलाश विजयवर्गीय वहाँ पर आ पहुँचे। विजयवर्गीय को देख कर सिंधिया मुस्कुराए, जिसके बाद दोनों एक-दूसरे के साथ गले मिले। विजयवर्गीय और सिंधिया बातें कर रहे थे, तभी उमा भारती के पाँवों में कुछ तकलीफ हो गई। उनके लिए व्हीलचेयर मँगाया गया। उमा भारती को व्हीलचेयर पर बिठा कर सिंधिया ने उनसे विदा लिया। तीनों नेताओं की गर्मजोशी से हुई मुलाक़ात भोपाल के गलियारों में चर्चा बटोर रही है।

दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर से दिल्ली रवाना हो रहे थे, जबकि उमा भारती और कैलाश विजयवर्गीय एक शादी कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए वहाँ पहुँचे थे। मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस पिछले 1 साल से भी अधिक समय से सत्ता में है और कमलनाथ ने सरकार और संगठन, दोनों के ही मुखिया का पद सँभाला हुआ है। ऐसे में, सिंधिया गुट के नेता लगातार नाराज़ बताए जाते हैं और उनमें से कुछ गाहे-बगाहे कॉन्ग्रेस आलाकमान को असहज करने वाला बयान भी देते रहते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,052FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe