Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिकर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर संकट, 11 MLA इस्तीफा देने पहुँचे विधानसभा

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर संकट, 11 MLA इस्तीफा देने पहुँचे विधानसभा

इस्तीफे को लेकर कॉन्ग्रेस विधायक रामालिंगा रेड्डी का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि वो विधानसभा अध्‍यक्ष को अपना इस्‍तीफा सौंपने आए हैं।

कर्नाटक में जेडीएस-कॉन्ग्रेस गठबंधन सरकार का संकट बढ़ता जा रहा है। शनिवार (जुलाई 6, 2019) को सरकार पर यह संकट और गहरा गया है क्योंकि कॉन्ग्रेस के 3 और जेडीएस के 8 विधायक इस्तीफा देने के लिए विधानसभा पहुँच गए हैं। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी फिलहाल अमेरिका के दौरे पर हैं। इस बीच, उपमुख्‍यमंत्री जी. परमेश्‍वर और राज्‍य के मंत्री डीके शिवकुमार ने कॉन्ग्रेस के विधायकों और निगम सदस्‍यों की आपात बैठक बुला ली है।

वैसे, अगर ये 11 विधायक इस्तीफा दे देते हैं, तो कुमारस्वामी सरकार खतरे में पड़ जाएगी और कॉन्ग्रेस-जेडीएस गठबंधन वाली कुमारस्वामी की सरकार गिर सकती है और ऐसे में राज्य में भाजपा के लिए सरकार के गठन का रास्ता साफ हो जाएगा। दरअसल, कर्नाटक में कुल 224 विधानसभा सीटें हैं। बहुमत के लिए 113 विधायक चाहिए। फिलहाल भाजपा के पास 105 विधायक हैं, जबकि कॉन्ग्रेस के पास 80 और जेडीएस के पास 37 विधायक हैं। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और निर्दलीय विधायक भी गठबंधन का समर्थन कर रहे हैं।

इस्तीफे को लेकर कॉन्ग्रेस विधायक रामालिंगा रेड्डी का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि वो विधानसभा अध्‍यक्ष को अपना इस्‍तीफा सौंपने आए हैं। रेड्डी ने कहा कि वो अपनी बेटी (कॉन्ग्रेस विधायक सौम्‍या रेड्डी) के अगले कदम के बारे नहीं जानते। साथ ही उन्‍होंने कहा कि वो पार्टी में किसी को भी इसका दोष नहीं दे रहे हैं। रेड्डी का कहना है कि उन्हें लगता है कि कुछ मुद्दों पर उनकी उपेक्षा की जा रही है। इसीलिए उन्होंने इस्‍तीफा देने का फैसला लिया है।

इस बीच भाजपा सांसद जीवीएल नरसिम्‍हा राव ने कहा है कि कर्नाटक की जनता ने कॉन्ग्रेस-जेडीएस गठबंधन को नकार दिया है। लोकसभा चुनावों में दोनों की दलों ने मिलकर चुनाव लड़ा। इसके बावजूद भाजपा राज्‍य में भारी बहुमत हासिल करने में सफल रही। भाजपा की प्रचंड जीत राज्‍य के लोगों के मूड को स्‍पष्‍ट तौर पर बता रही है। निश्चित रूप से विपक्ष के विधायक भी गठबंधन के खिलाफ जनता के गुस्से का सामना कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,352FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe