तेलंगाना के सबसे बड़े मंदिर को मिला नया ‘भगवान’: उकेरी गई KCR की तस्वीरें, TRS का चुनाव चिह्न

टेम्पल अथॉरिटी के सीईओ कृष्णा राव ने कहा कि मंदिरों में उस कालखंड की संस्कृति और समाज को दर्शाते हुए कई प्रतीक मिलते हैं। कार (TRS का चुनाव चिह्न) इसलिए उकेरा गया है ताकि भविष्य के लोगों को पता चले कि ऐसी कोई चीज हुआ करती थी।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव भी अब ‘भगवान’ बन गए हैं। कम से कम यदाद्रि भुवनगिरि स्थित लक्ष्मी नरसिंह मंदिर में उकेरी गई तस्वीरों को देख कर तो ऐसा ही लगता है। इसे तेलंगाना में लोग यदाद्रि मंदिर के नाम से भी जानते हैं। मंदिर के खम्भों पर मुख्यमंत्री केसीआर की तस्वीरें उकेरी जाने के बाद से विपक्षी पार्टियाँ टीआरएस प्रमुख पर हमलावर हो उठी हैं। भाजपा विधायक राजा सिंह ने कहा कि अगर इन प्रतिमाओं को नहीं हटाया गया तो जनता इन्हें हटाने का तरीका जानती है।

विधायक राजा सिंह ने एक वीडियो ट्वीट कर राज्य सरकार पर निशाना साधा है। मंदिर में न सिर्फ़ केसीआर बल्कि उनकी पार्टी टीआरएस के चुनाव चिह्न कार भी खम्भों पर उकेरी गई है। भाजपा विधायक ने केसीआर को माफ़ी माँगने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मंदिर को अपने पैसों से नहीं बनवा रहे हैं, बल्कि यह जनता का पैसा है।

यादगिरिगुट्टा स्थित लक्ष्मी नरसिंह स्वामी मंदिर तेलंगाना का सबसे विशाल मंदिर है और इसे ‘तेलंगाना का तिरुपति’ भी कहा जाता है। तेलंगाना के अलग राज्य बनने के बाद मुख्यमंत्री केसीआर ने यादगिरिगुट्टा का नाम यदाद्रि रख दिया और पहाड़ पर स्थित इस मंदिर के विकास के लिए 1,800 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट स्वीकृत किया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस मामले को लेकर कॉन्ग्रेस भी खफा है। कॉन्ग्रेस नेता गुडुर नारायण रेड्डी ने कहा कि केसीआर अपने आप को भगवान की तरह पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मंदिर में केसीआर की तस्वीरें उकेरने वाला कृत्य निंदनीय है। उन्होंने मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि वे अपने पॉकेट से रुपया निकाल कर मंदिर का विकास नहीं कर रहे हैं बल्कि ये जनता का पैसा है। कॉन्ग्रेस नेता ने कहा कि केसीआर को याद रखना चाहिए कि वे एक राजा नहीं हैं बल्कि जनता के प्रतिनिधि हैं। उन्होंने कहा:

“कोई भी मंदिर की पवित्रता से खिलवाड़ नहीं कर सकता। ख़ुद की तुलना भगवान से करने का हक़ किसी को नहीं है। टीआरएस का चुनाव चिह्न कार चाप को उकेरा जाना असंवैधानिक है। यह धर्म को राजनीति से मिलाने की एक साज़िश है। केसीआर ने अपनी मन्नतों के लिए कई मंदिरों में जनता के करोड़ों रुपए उड़ा दिए हैं। आप धार्मिक हैं तो ठीक है लेकिन यह सब अपने रुपयों से कीजिए। आप भगवान नहीं हैं बल्कि एक साधारण व्यक्ति हैं, जिस पर भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगे हुए हैं।”

यदाद्रि टेम्पल डेवलपमेंट अथॉरिटी (YTDA) ने इस क़दम का बचाव करते हुए कहा कि यह बिना राज्य सरकार के दबाव के किया गया है। टेम्पल अथॉरिटी ने कहा कि सभी मंदिरों में विभिन्न समयकाल से जुड़ी चीजें होती हैं। उसने कहा कि मंदिरों में उस कालखंड की संस्कृति और समाज को दर्शाते हुए कई प्रतीक मिलते हैं। टेम्पल अथॉरिटी के सीईओ कृष्णा राव ने कहा कि कार का चिह्न इसलिए उकेरा गया है ताकि भविष्य के लोगों को पता चले कि ऐसी कोई चीज हुआ करती थी।

राव ने पूछा कि वहाँ भाजपा का चुनाव चिह्न कमल और टीडीपी का चिह्न साइकल भी है तो कार से क्या दिक्कत है? टेम्पल अथॉरिटी ने यह भी कहा कि इंदिरा गाँधी, महात्मा गाँधी और जवाहरलाल नेहरू की भी तस्वीरें कई धार्मिक स्थलों पर मिलती हैं। टीआरएस अभी इस मुद्दे पर चुप है। कॉन्ग्रेस नेता विजयशंति श्रीनिवास ने कहा कि केसीआर मध्ययुग काल के किसी राजा की तरह व्यवहार कर रहे हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: