Saturday, September 30, 2023
Homeराजनीतिसंसद में कुछ बच्चे मोबाइल पर गेम खेलते हैं, योग उनका बचपना दूर करेगा:...

संसद में कुछ बच्चे मोबाइल पर गेम खेलते हैं, योग उनका बचपना दूर करेगा: राम माधव

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर एक कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान राहुल को निशाने पर लेते हुए राम माधव ने कहा कि संसद में कुछ बच्चे मौजूद हैं, योग उनका बचपना दूर करने में उनकी मदद करेगा।

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी गुरुवार (जून 20, 2019) को संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान मोबाइल फोन पर बिजी नज़र आए। जिसको लेकर राहुल गाँधी से सोशल मीडिया पर भी सवाल किया गया कि वह अपना दायित्व भूलकर फोन में क्यों लगे हुए हैं? अब इस मामले में भाजपा महासचिव राम माधव ने राहुल गाँधी पर तंज कसा है। उन्होंने शुक्रवार (जून 21, 2019) को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर केरल के तिरुवनंतपुरम में भाजपा की ओर से आयोजित किए गए कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान राहुल को निशाने पर लेते हुए कहा कि संसद में कुछ बच्चे मौजूद हैं, योग उनका बचपना दूर करने में उनकी मदद करेगा।

योग दिवस कार्यक्रम में स्कूली बच्चों के बीच राम माधव ने कहा, “कई बार कक्षा में शिक्षक जो पढ़ा रहे होते हैं, उस पर फोकस करना कठिन होता है। परीक्षा के दौरान किताबों पर फोकस करना भी कठिन होता है। हमें नींद आने लगती है और हम सो जाते हैं। पर चिंता करने की कोई बात नहीं! स्कूली बच्चों की तरह संसद में भी कुछ बच्चे हैं। वो हमारे राष्ट्रपति के भाषण पर भी ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं। उन्हें अपना मोबाइल देखना होता है, मैसेज चेक करना होता है, या फिर वीडियो गेम खेलना होता है। अस्थिर दिमाग का यह अजीब स्वभाव है। ऐसे में इसे नियंत्रित करने की आवश्यकता है, जिसके लिए योग को अपनाना चाहिए। योग बचकानी हरकत दूर करने में योग उनकी मदद करेगा।”

इसके साथ ही भाजपा महासचिव ने सबरीमला मुद्दे पर भी बात की। उन्होंने कहा कि कुछ लोग सोचते हैं कि इस देश में हर परंपरा को या तो खत्म कर दिया जाना चाहिए या फिर उससे नफरत किया जाना चाहिए। चाहे वह सबरीमला वाला मामला हो या फिर योग का। वो लोग इससे नफरत करते हैं, क्योंकि ये भारतीय परंपरा है।

राम माधव ने कहा कि जो लोग इसे नष्ट करना चाहते हैं, उन्हें इस बात का एहसास नहीं है कि ये परंपरा, ये संस्कृति, ये वो मूल्य प्रणाली है जो अंततः दुनिया को बचाने और शांति, समृद्धि और विकास के रास्ते पर ले जाने वाली है। ऐसे लोगों को भी योग सिखाने की ज़रूरत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मौलवियों के वीडियो देखे, फिर अकेले ही करने की ठानी ‘जिहाद’: शाहरुख़ सैफी के खिलाफ NIA की चार्जशीट, पेट्रोल छिड़क ट्रेन में आग लगा...

वो पाकिस्तानी मौलवियों को सुनता था। बाद में उसने अकेले ही 'जिहादी घटना' को अंजाम देने का फैसला लिया। दिल्ली के शाहीन बाग़ का है रहने वाला।

‘तमिलनाडु को न देना पड़े पानी, इसके लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगी कर्नाटक सरकार’: CM सिद्धारमैया का ऐलान, लड़ रहीं दोनों राज्यों की I.N.D.I. गठबंधन...

'कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड' ने कर्नाटक सरकार को 28 सितंबर से लेकर 15 अक्टूबर तक हर दिन 3000 क्यूसेक पानी छोड़ने के लिए कहा था। सिद्धारमैया बोले - सुप्रीम कोर्ट जाएँगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
277,006FollowersFollow
419,000SubscribersSubscribe