Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिआतिशी का चुनावी कैंपेन संभालने वाले ने कहा: पैम्फलेट का लिंक भाजपा से नहीं,...

आतिशी का चुनावी कैंपेन संभालने वाले ने कहा: पैम्फलेट का लिंक भाजपा से नहीं, पुलिस कर रही जाँच

आतिशी का चुनावी कैंपेन संभाल रहे अक्षय मराठे कहते हैं, 'पार्टी इन पैम्फलेट्स का लिंक भाजपा से स्थापित नहीं कर पाई है. फिलहाल पुलिस इन पर्चों के सोर्स की जांच कर रही है.'

आप प्रत्याशी आतिशी ने 9 मई को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा के दिल्ली (पूर्व) प्रत्याशी गौतम गंभीर पर अपने खिलाफ अश्लील पर्चे बँटवाने का आरोप लगाया था। अब दिल्ली के ही कृष्णा नगर इलाके से खबर आ रही है कि यह पर्चे वहाँ प्रेस कॉन्फ्रेंस के हफ्ते पहले ही डाक से पहुँचे हुए थे। उन्हें प्राप्त करने वाले व्यक्ति ने स्थानीय आप कार्यकर्ताओं को सूचित भी किया था।

भेजने वाले का पता नहीं, कृष्णा नगर का ही लगा था डाक टिकट

कृष्णा नगर इलाके की एक हाउसिंग कॉलोनी के रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रमुख ने दावा किया कि उन्हें आतिशी के खिलाफ लिखे गए यह पर्चे 2 मई को ही डाक से मिल गए थे। उन्होंने यह भी दावा किया कि उन्होंने पैम्फ्लेटों की जानकारी आप कार्यकर्ताओं को भी दी थी। पर्चे के स्रोत के बारे में अनभिज्ञता जाहिर करते हुए उन्होंने बताया कि लिफाफे पर भेजने वाले का पता नहीं था लेकिन डाक टिकट कृष्णा नगर का ही लगा था।

पर भाजपा से क्या कनेक्शन?

सबसे महत्वपूर्ण ‘भाजपा कनेक्शन’ को आम आदमी पार्टी स्थापित करने में नाकाम साबित हो रही है। आतिशी का चुनाव प्रबंधन संभालने वाले अक्षय मराठे खुद यह मान रहे हैं। बकौल अक्षय, “पार्टी इन पैम्फलेट्स का लिंक भाजपा से स्थापित नहीं कर पाई है। फिलहाल पुलिस इन पर्चों के सोर्स की जांच कर रही है।” (News 18)

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -