Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीतिदिल्ली आकर केजरीवाल विरोधियों का 'हिसाब' कर रही पंजाब पुलिस, कुमार विश्वास और अलका...

दिल्ली आकर केजरीवाल विरोधियों का ‘हिसाब’ कर रही पंजाब पुलिस, कुमार विश्वास और अलका लांबा को SIT के सामने हाजिरी लगाने को कहा

अरविंद केजरीवाल को लेकर पंजाब पुलिस की इस कार्रवाई का भाजपा, कॉन्ग्रेस और अकाली दल ने तीखा विरोध किया है। विपक्षी दलों का कहना है कि आम आदमी पार्टी अपने फायदे के लिए पंजाब पुलिस का गलत इस्तेमाल कर रही है।

पंजाब (Punjab) में आम आदमी पार्टी (Aam Adami Party) की सरकार बनने के बाद पंजाब पुलिस आजकल दिल्ली (Delhi) में ज्यादा दिखने लगी है। बुधवार (20 अप्रैल 2022) की सुबह कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) के घर पर दस्तक देेने के बाद पंजाब पुलिस कॉन्ग्रेस नेता अलका लांबा (Alka Lamba) के घर भी पहुँची।

कुमार ने भी इसकी जानकारी ट्वीट करके दी थी। वहीं, अलका लांबा ने भी इसकी जानकारी ट्वीट कर दी। अपने ट्वीट में अलका ने लिखा, “पंजाब पुलिस मेरे घर भी पहुँच चुकी है।”

पंजाब पुलिस ने अलका लांबा के घर की दिवार पर नोटिस चिपकाकर गई है। उस नोटिस की फोटो को शेयर करते हुए अलका लांबा ने ट्वीट किया, “पंजाब पुलिस घर की दीवार पर नोटिस चिपका कर गई है और जाते-जाते #AAP की @BhagwantMann सरकार की ओर से धमकी भी देकर गई है कि अगर 26 अप्रैल को थाने में पेश नहीं हुई तो अंजाम बुरा होगा। कॉन्ग्रेस की यह गाँधीवादी सिपाही बड़े संघियों से नहीं डरी, छोटे संघी की तो बात ही छोड़ दो।”

दरअसल, पंजाब पुलिस की विशेष जाँच टीम, रूपनगर (SIT, Rup Nagar) ने अलका लांबा को 26 अप्रैल को सुबह 10 बजे या उससे पहले रूपनगर सदर थाने में जाँच के लिए एसआईटी के सामने पेश होने का नोटिस भेजा है। अलका लांबा पर आरोप है कि उन्होंने अलग-अलग चैनलों में इंटरव्यू देकर केजरीवाल के खिलाफ भड़काऊ बयान दिए और आम आदमी पार्टी एवं केजरीवाल पर अलगाववादी तत्वों के साथ संबंध के आरोप लगाए। जिससे पंजाब का माहौल खराब होने की आशंका है। इसी एफआईआर में कुमार विश्वास का भी नाम है।

कुमार विश्वास ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर अलगाववादी खालिस्तान के साथ संबंध होने के आरोप लगाए थे। इसको लेकर उनके खिलाफ रोपड़ के सदर थाना में मामला दर्ज किया गया है। उनके खिलाफ IPC की धारा 153, 153A, 505, 505(2), 116 r/w, 143, 147, 323, 341, 506 और 120बी और 125 रिप्रजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। रोपड़ सदर थाने के इंस्पेक्टर सुमित मोर की अगुआई में पंजाब पुलिस ने कुमार विश्वास के मैनेजर को नोटिस दी है और 26 अप्रैल को रोपड़ थाने में पेश होने को कहा है। हालाँकि, इस FIR में शिकायतकर्ता कौन है, इसकी जानकारी नहीं दी गई है।

पंजाब पुलिस के SP हरबीर सिंह अटवाल ने बताया कि थाना रोपड़ सदर में FIR नंबर 25 दर्ज की गई है, जिसमें आम आदमी पार्टी के नेता ने शिकायत दी कि वह अपने समर्थकों के साथ लोगों की शिकायत के निपटारे के लिए घूम रहा था। इसी दौरान कुछ नकाबपोश व्यक्तियों ने उसे रोककर खालिस्तानी कहा। यह सब कुमार विश्वास और अलका लांबा द्वारा इस तरह के आरोप लगाकर वीडियो वायरल करने के बाद हुआ। इसके अलावा टीवी इंटरव्यू में आम आदमी पार्टी के नेताओं को खालिस्तान के साथ लिंक किया गया था।

अरविंद केजरीवाल को लेकर पंजाब पुलिस की इस कार्रवाई का भाजपा, कॉन्ग्रेस और अकाली दल ने तीखा विरोध किया है। विपक्षी दलों का कहना है कि आम आदमी पार्टी अपने फायदे के लिए पंजाब पुलिस का गलत इस्तेमाल कर रही है। वहीं कॉन्ग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पंजाब सरकार अरविंद केजरीवाल की कठपुतली की तरह काम कर रही है। अपने आलोचकों को चुप कराने के लिए यह किया जा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

33 साल पहले जहाँ से निकाली थी एकता यात्रा, अब वहीं साधना करने पहुँचे PM नरेंद्र मोदी: पढ़िए ईसाइयों के गढ़ में संघियों ने...

'विवेकानंद शिला स्मारक' के बगल वाली शिला पर संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा की स्थापना का विचार एकनाथ रानडे का ही था, क्योंकि उन्हें आशंका थी कि राजनीतिक इस्तेमाल के लिए बाद में यहाँ किसी की मूर्ति लगवाई जा सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -