Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिमुस्लिम वोट दें या न दें, उनके लिए काम करूँगा, कोई दिक्कत नहीं: वरुण...

मुस्लिम वोट दें या न दें, उनके लिए काम करूँगा, कोई दिक्कत नहीं: वरुण गाँधी

हाल ही मुस्लिम इलाके में एक जनसभा को संबोधित करते हुए सुल्तानपुर से भाजपा प्रत्याशी और वरुण गाँधी की माँ मेनका गाँधी ने इसके विपरीत बयान दिया था।

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी वरुण गाँधी ने रविवार (अप्रैल 21, 2019) को मुस्लिम वोटरों से वोट करने की अपील की। उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, “बस मैं एक चीज मुस्लिम भाई को बोलना चाहता हूँ कि अगर आपने मुझे वोट दिया तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा, अगर आपने मुझे वोट नहीं दिया, कोई बात नहीं, तब भी मुझसे काम ले लेना, कोई दिक्कत की बात नहीं।”

उन्होंने आगे कहा कि अगर उनकी चाय में थोड़ी चीनी मुस्लिम भाईयों की भी पड़ जाए तो उनकी चाय और भी मीठी हो जाएगी। इसके बाद उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए पूछा, “क्या कुछ मुस्लिम चीनी पड़ने वाली है मेरी चाय में?” वरुण ने कहा कि वो दुनिया को हिंदू-मुस्लिम के रूप में नहीं देखते, वो दुनिया को दो ही तरह से देखते हैं और वो है अपने और पराए। बीजेपी सांसद ने कहा कि जो लोग देश के साथ हो, वो किसी के खिलाफ नहीं हो सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि जो देश की सरहदों के लिए लड़ रहा है, जो देश के लिए जी रहा हो और देश के लिए मर रहा हो, उसका ना कोई धर्म होता है और न जात होती है।

गौरतलब है कि हाल ही मुस्लिम इलाके में एक जनसभा को संबोधित करते हुए सुल्तानपुर से भाजपा प्रत्याशी और वरुण गाँधी की माँ मेनका गाँधी ने इसके विपरीत बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि वो चुनाव जीत रही हैं, इसलिए मुस्लिम उनको वोट दें, उनका साथ दें। अगर मुस्लिमों ने ऐसा नहीं किया तो कल जब वो उनसे काम माँगने आएँगे, तो उनका (मेनका का) रवैया भी वैसा ही होगा। आगे उन्होंने कहा कि वो कोई महात्मा गाँधी की छठी औलाद नहीं हैं कि सिर्फ देती रहेंगी और चुनाव में मात खाएँगी। इस विवादित बयान पर चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाते हुए मेनका गांधी को चुनाव प्रचार करने से 48 घंटे के लिए प्रतिबंधित कर दिया था।

हालाँकि बैन खत्म होने के बाद मेनका गाँधी ने अपने विवादित बयान पर सफाई दिया और कहा, “मेरे जो दिल में था वो बोला, मैं अल्पसंख्यकों का बहुत सम्मान करती हूँ। मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया। मैं भड़काऊ भाषण कभी नहीं देती हूँ, जो मैंने बयान दिया था वो भड़काऊ नहीं था।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

‘लखनऊ को दिल्ली बनाया जाएगा, चारों तरफ से रास्ते सील किए जाएँगे’: चुनाव से पहले यूपी में बवाल की टिकैत ने दी धमकी

राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली की तरह लखनऊ का भी घेराव किया जाएगा। जिस तरह दिल्ली में चारों तरफ के रास्ते सील हैं, ऐसे ही लखनऊ के भी सील होंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe