Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टकॉन्ग्रेस को 'जिन्नाह' की पार्टी बताने वाले शत्रुघ्न सिन्हा की सफाई, चिदंबरम ने कहा...

कॉन्ग्रेस को ‘जिन्नाह’ की पार्टी बताने वाले शत्रुघ्न सिन्हा की सफाई, चिदंबरम ने कहा ‘ख़ामोश’

बेचारे सिन्हा को शायद अब समझ नहीं आ रहा होगा कि क्या करें, जाएँ तो जाएँ कहाँ? बोले तो बोले क्या? आज शायद उन्हें धोबी के गधे वाली बात ज़रूर याद आई होगी जो न घर का होता है न घाट का। खैर जो भी हो बड़बोले सिन्हा को अब खुद को ही कहने का समय आ गया है ‘ख़ामोश।’

बड़बोले शत्रुघ्न सिन्हा के लिए मुसीबतें कम नहीं हो रही हैं बल्कि अब पहले से ही कई अन्य मुश्किलों का सामना कर रही कॉन्ग्रेस के लिए उन्होंने नई मुसीबत खड़ी कर दी। कॉन्ग्रेस को मो. अली जिन्नाह की पार्टी बता और देश के विकास में उनके महान योगदान की गाथा सुनाने के बाद अब शत्रुघ्न सिन्हा ने इसे लेकर आज सफाई दी। बयान पर मचे सियासी घमासान के बाद सिन्हा को अपनी गलती का एहसास हुआ और कहा कि उन्होंने कल जो भी कहा था वो स्लिप ऑफ टंग था, उनकी जुबान फिसल गई थी। वो कहना चाहते थे मौलाना आजाद, लेकिन उनके मुँह से मो. अली जिन्नाह निकल गया।

बता दें कि कॉन्ग्रेस के टिकट पर बिहार के पटना साहिब से चुनाव लड़ रहे शत्रुघ्न सिन्हा ने मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा के सौसर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कह दिया था कि भारत की आजादी और विकास में जिन्नाह का भी महत्वपूर्ण योगदान है।

सिन्हा के कॉन्ग्रेस में शामिल होने के बाद से ही गाँधी परिवार और उसके महान योगदान का गुणगान करने के क्रम में उन्होंने कुछ ऐसा कर दिया जो कॉन्ग्रेस के लिए फिर से एक सेल्फ गोल हो गया। सिन्हा ने यादगार भाषण में कहा, “कॉन्ग्रेस परिवार महात्मा गाँधी से लेकर सरदार वल्लभ भाई पटेल तक, मो अली जिन्नाह से लेकर जवाहर लाल नेहरू तक, इंदिरा गाँधी से लेकर राजीव गाँधी और राहुल गाँधी तक की पार्टी है। भारत की आजादी और विकास में इन सभी का योगदान है। इसलिए मैं कॉन्ग्रेस पार्टी में आया हूँ। और एक बार आ गया हूँ, पहली और शायद आखिरी बार, अब जाने का सवाल नहीं है।”

उनके इसी बयान पर सियासी घमासान छिड़ा हुआ है और एक बार फिर भाजपा को कॉन्ग्रेस पर हमले का मौका मिल गया। इसे लेकर कॉन्ग्रेस बैकफुट पर है और उसे अपनी तरफ से सफाई भी देनी पड़ रही है। हालाँकि, कॉन्ग्रेस ने इस बयान से पूरी तरह पल्ला झाड़ने की कोशिश करते हुए उल्टा भाजपा को ही सफाई देने को कहा।

गौरतलब है कि आज पी चिदंबरम ने भी एक तरह से सिन्हा से किनारा करते हुए कहा, “उनके (सिन्हा) जो भी विचार हैं, उसका स्पष्टीकरण दिया जाना चाहिए। कुछ दिन पहले वह भाजपा का हिस्सा थे। भाजपा को बताना चाहिए कि वह इतने साल तक पार्टी का हिस्सा क्यों थे। मैं पार्टी के हर सदस्य के बयान पर स्पष्टीकरण नहीं दे सकता। सिर्फ पार्टी के आधिकारिक स्टैंड पर ही कुछ बोल सकता हूँ।”

बेचारे सिन्हा को शायद अब समझ नहीं आ रहा होगा कि क्या करें, जाएँ तो जाएँ कहाँ? बोले तो बोले क्या? आज शायद उन्हें धोबी के गधे वाली बात ज़रूर याद आई होगी जो न घर का होता है न घाट का। खैर जो भी हो बड़बोले सिन्हा को अब खुद को ही कहने का समय आ गया है ‘ख़ामोश।’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe