दल बदलू कॉन्ग्रेस प्रत्याशी ने बनारस में अटल जी को कहा महान

अजय राय ने वाजपेयी को बड़े हृदय के व्यक्ति बताते हुए कहा कि वो हर किसी को साथ लेकर चलते थे। भाजपा के पूर्व नेता अजय राय ने कहा कि जब वो भाजपा में मंत्री थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी की भाजपा थी।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में आज (मई 19, 2019) 8 राज्यों के 59 सीटों पर मतदान जारी है। इस चरण के चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी आता है। हालाँकि, यहाँ से पीएम मोदी के खिलाफ कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के मैदान में उतरने की उम्मीद जताई जा रही थी, मगर कॉन्ग्रेस ने इस सीट से अजय राय को मैदान में उतारकर पीएम मोदी को चुनौती दी है।

अजय राय ने रविवार (मई 19, 2019) को अंतिम चरण के लिए चुनाव शुरू होने से पहले बात करते हुए इस बार के चुनाव को पिछले चुनाव की अपेक्षा आसान बताया। उनका कहना है कि पीएम मोदी ने कुछ भी नहीं किया है और लोगों ने उनके लंबे और झूठे वादों को देख चुके हैं।

इस दौरान अजय राय पीएम मोदी की आलोचना करते-करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ कर बैठे। उन्होंने वाजपेयी को बड़े हृदय के व्यक्ति बताते हुए कहा कि वो हर किसी को साथ लेकर चलते थे। भाजपा के पूर्व नेता अजय राय ने कहा कि जब वो भाजपा में मंत्री थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी की भाजपा थी। वो भाजपा, मोदी और अमित शाह की भाजपा नहीं थी, जो कॉरपोरेट संस्कृति पर चलती है और पार्टी के नेताओं का सम्मान नहीं करती है। इसके साथ ही राय ने नई भाजपा (मोदी-अमित शाह वाली) पर पार्टी के पुराने नेताओं- लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी का सम्मान न करने की भी बात कही।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि, भाजपा छोड़ सपा में और फिर सपा छोड़कर कॉन्ग्रेस में शामिल होने वाले अजय राय साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी वाराणसी सीट से चुनाव लड़ा था। इस दौरान अरविंद केजरीवाल दूसरे नंबर पर रहे, तो वहीं अजय राय मात्र 75 हजार वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे और उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी। कॉन्ग्रेस ने इस बार एक बार फिर से इसी जमानत जब्त प्रत्याशी को पीएम मोदी के खिलाफ मैदान में उतारकर जीत का दावा कर रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई (बार एन्ड बेच से साभार)
"पारदर्शिता से न्यायिक स्वतंत्रता कमज़ोर नहीं होती। न्यायिक स्वतंत्रता जवाबदेही के साथ ही चलती है। यह जनहित में है कि बातें बाहर आएँ।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,346फैंसलाइक करें
22,269फॉलोवर्सफॉलो करें
116,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: