Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिदल बदलू कॉन्ग्रेस प्रत्याशी ने बनारस में अटल जी को कहा महान

दल बदलू कॉन्ग्रेस प्रत्याशी ने बनारस में अटल जी को कहा महान

अजय राय ने वाजपेयी को बड़े हृदय के व्यक्ति बताते हुए कहा कि वो हर किसी को साथ लेकर चलते थे। भाजपा के पूर्व नेता अजय राय ने कहा कि जब वो भाजपा में मंत्री थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी की भाजपा थी।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में आज (मई 19, 2019) 8 राज्यों के 59 सीटों पर मतदान जारी है। इस चरण के चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी आता है। हालाँकि, यहाँ से पीएम मोदी के खिलाफ कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के मैदान में उतरने की उम्मीद जताई जा रही थी, मगर कॉन्ग्रेस ने इस सीट से अजय राय को मैदान में उतारकर पीएम मोदी को चुनौती दी है।

अजय राय ने रविवार (मई 19, 2019) को अंतिम चरण के लिए चुनाव शुरू होने से पहले बात करते हुए इस बार के चुनाव को पिछले चुनाव की अपेक्षा आसान बताया। उनका कहना है कि पीएम मोदी ने कुछ भी नहीं किया है और लोगों ने उनके लंबे और झूठे वादों को देख चुके हैं।

इस दौरान अजय राय पीएम मोदी की आलोचना करते-करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ कर बैठे। उन्होंने वाजपेयी को बड़े हृदय के व्यक्ति बताते हुए कहा कि वो हर किसी को साथ लेकर चलते थे। भाजपा के पूर्व नेता अजय राय ने कहा कि जब वो भाजपा में मंत्री थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी की भाजपा थी। वो भाजपा, मोदी और अमित शाह की भाजपा नहीं थी, जो कॉरपोरेट संस्कृति पर चलती है और पार्टी के नेताओं का सम्मान नहीं करती है। इसके साथ ही राय ने नई भाजपा (मोदी-अमित शाह वाली) पर पार्टी के पुराने नेताओं- लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी का सम्मान न करने की भी बात कही।

गौरतलब है कि, भाजपा छोड़ सपा में और फिर सपा छोड़कर कॉन्ग्रेस में शामिल होने वाले अजय राय साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी वाराणसी सीट से चुनाव लड़ा था। इस दौरान अरविंद केजरीवाल दूसरे नंबर पर रहे, तो वहीं अजय राय मात्र 75 हजार वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे और उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी। कॉन्ग्रेस ने इस बार एक बार फिर से इसी जमानत जब्त प्रत्याशी को पीएम मोदी के खिलाफ मैदान में उतारकर जीत का दावा कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -