Monday, July 26, 2021
HomeराजनीतिA-SAT पर कॉन्ग्रेस में प्राथमिक ज्ञान का अभाव, ऐसे टेस्ट से पहले लंबी ग्लोबल...

A-SAT पर कॉन्ग्रेस में प्राथमिक ज्ञान का अभाव, ऐसे टेस्ट से पहले लंबी ग्लोबल प्लानिंग की ज़रूरत: PM

ऐसे परीक्षण के लिए लिए दुनिया के देशों को इस बात से अवगत कराना होता है कि हमें अंतरिक्ष में जगह चाहिए ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो जाए। इसके साथ ही पीएम ने कहा कि किसी भी विषय पर बोलने के लिए जो प्राथमिक ज्ञान चाहिए, उसका भी कॉन्ग्रेस में अभाव दिखाई देता है।

27 मार्च 2019 का दिन भारतवासियों के लिए काफी गर्व का दिन रहा, क्योंकि इस दिन भारत अंतरिक्ष के क्षेत्र में विश्व की चौथी महाशक्ति बन गया। इस सफलता पर जहाँ लोग खुशियाँ मना रहे हैं, गर्वित महसूस कर रहे हैं, वहीं कुछ विपक्षी राजनीतिक पार्टियाँ इस मसले पर भी राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे।

इस बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ को एक इंटरव्यू दिया। इस दौरान उन्होंने ‘मिशन शक्ति’ को लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई भी परीक्षण बस ऐसे ही नहीं हो जाता, इसके लिए एक लंबी प्रक्रिया होती है। ऐसे परीक्षण के लिए लिए दुनिया के देशों को इस बात से अवगत कराना होता है कि हमें अंतरिक्ष में जगह चाहिए, ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो जाए। पीएम मोदी ने कहा कि जब दुनिया से तालमेल करके आपको समय मिलता है, तभी आपको परीक्षण का समय मिलता है।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने विपक्षी पार्टी कॉन्ग्रेस के बारे में बात करते हुए कहा कि कॉन्ग्रेस में प्राथमिक ज्ञान का अभाव है। A-SAT टेस्ट से पहले लंबी ग्लोबल प्लानिंग चाहिए होती है। उन्होंने कहा कि विपक्ष में कोई छोटा दल इस तरह की बातें करे तो समझा जा सकता है, लेकिन कॉन्ग्रेस जैसी पार्टी, जिसने लंबे समय तक देश में शासन किया है और उनके पास काफी अनुभवी नेता हैं। ऐसे में कॉन्ग्रेस को यह समझना चाहिए कि वो जिस विषय पर बोलने जा रहे हैं, वो विषय क्या है? इसके साथ ही पीएम ने कहा कि किसी भी विषय पर बोलने के लिए जो प्राथमिक ज्ञान चाहिए, उसका भी कॉन्ग्रेस में अभाव दिखाई देता है।

इस दौरान मोदी ने कहा कि दो दिन पहले ही ओडिशा एक ऐसी ऐतिहासिक उपलब्धि का गवाह बना है, जिसने पूरी दुनिया को भारत के सामर्थ्य से परिचित कराया है। भारत अब अंतरिक्ष में भी चौकीदारी करने में सक्षम है।

पीएम मोदी ने कहा कि 2019 का चुनाव सिर्फ एक सांसद और विधायक का चुनाव नहीं है। ये चुनाव केंद्र और राज्य में विकास का डबल इंजन लगाने वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकारों के चुनाव का समय है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मतदान के दिन जब आप पोलिंग बूथ जाएँगे तो एक स्पष्ट मन बनाकर जाइएगा। आपको ये तय करना है कि आतंक के ठिकानों में घुसकर मारने वाली सरकार चाहिए, या फिर घबराकर बैठ जाने वाली सरकार।

गौरतलब है कि भारत ने बुधवार (मार्च 27, 2019) एंटी सैटेलाइट मिसाइल क्षमता हासिल कर ली है। इससे पहले सिर्फ रूस, अमेरिका और चीन के पास ये ताकत थी। इस ऐतिहासिक दिन पर प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि भारत ने ‘मिशन शक्ति’ के तहत एक मुश्किल ऑपरेशन को पूरा किया है। ये लक्ष्य अंतरिक्ष में 300 किलोमीटर दूर था। हमारे वैज्ञानिकों ने लो अर्थ ऑरबिट में एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe