Friday, July 30, 2021
Homeराजनीतिअजब-गजब उम्मीदवार: 'अर्थी बाबा' ने गले में डाली सैनेटरी पैड की माला, श्मशान पर...

अजब-गजब उम्मीदवार: ‘अर्थी बाबा’ ने गले में डाली सैनेटरी पैड की माला, श्मशान पर बनाएँगे कार्यालय

2019 का चुनाव जीतने के लिए वो चिताओं की पूजा करते हैं और अपनी जीत के लिए शवों की आत्माओं को जगाने का भी प्रयास कर रहे हैं ताकि वे उनकी मदद करें।

आगामी चुनावों के मद्देनज़र इन दिनों सियासी पारा अपनी चरम पर पहुँच चुका है। हर पार्टी और उसका प्रत्याशी मतदाताओं को रिझाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे आजमा रहे हैं। जिसके कारण हमें ‘बिरयानी पर हुई लड़ाई‘ जैसी खबरें सुनने को मिल रही है। इसी कड़ी में निर्दलीय लोकसभा चुनाव लड़ने जा रहे ‘अर्थी बाबा’ अपने अजीबोगरीब चुनाव प्रचार के कारण सुर्खियों में बने हुए हैं।

अर्थी बाबा के नाम से मशहूर हो चुके राजन यादव ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र में चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। यहाँ उनका मुकाबला अखिलेश के अलावा दिनेश लाल यादव (निरहुआ) से भी होगा। राजन ने अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत श्मशान घाट से की है। प्रचार के दौरान उन्होंने अपने गले में सैनेटरी पैड की माला लटकाई।

ख़बरों के अनुसार, राजन चुनाव प्रचार के दौरान गले में सैनेटरी पैड की माला पहनकर घर-घर जाकर महिलाओं को सैनेटरी पैड के बारे में जागरूक करेंगे। साथ ही उनका दावा है कि अगर वो चुनावों में जीत गए तो प्राप्त वेतन से वह मुफ्त में महिलाओं को सैनेटरी पैड बाँटेंगे।

अजीबोगरीब तरीके से प्रचार करके सुर्खियाँ बटोरने वाले राजन गोरखपुर के रहने वाले हैं। खबरों के मुताबिक वह अपना चुनाव कार्यालय हर बार की तरह श्मशान घाट में खोलेंगे। राजन इससे पहले विधानसभा और लोकसभा के भी चुनाव लड़ चुके हैं। 2009 में उन्होंने योगी आदित्यनाथ के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ा था। उनकी माने तो सपा और भाजपा दोनों के कार्यकाल में जनता के हित में कोई काम नहीं हुआ है।

बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान राजन अर्थी पर बैठकर निकलते हैं। चार लोग उन्हें उठाकर हर ओर घुमाते हैं। जिसके कारण लोग उन्हें ‘अर्थी बाबा’ बुलाने लगे हैं। 2019 का चुनाव जीतने के लिए वो चिता की पूजा करते हैं और अपनी जीत के लिए शवों की आत्माओं को जगाने का भी प्रयास कर रहे हैं ताकि वे उनकी मदद करें। जानकारी के अनुसार, वह आजमगढ़ सीट से पर्चा दाखिल करने से पहले वह अघोरी बाबाओं से मिलेंगे और उनसे जीत का आशीर्वाद माँगेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मनमोहन सिंह ने की थी मनमर्जी, मुसलमान स्पेशल क्लास नहीं’: सुप्रीम कोर्ट में सच्चर कमेटी की सिफारिशों को चुनौती

सुप्रीम कोर्ट में सच्चर कमेटी की सिफारिशों को लागू करने को चुनौती दी गई है। याचिका 'सनातन वैदिक धर्म' नामक संगठन के छह अनुयायियों ने दायर की है।

‘2 से अधिक बच्चे तो छीन लें आरक्षण और वोटिंग का अधिकार’: UP के जनसंख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में 97% लोग

जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर उत्तर प्रदेश विधि आयोग को मिले सुझाव में से ज्यादातर में सख्त कानून का समर्थन किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,994FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe