Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिबिरयानी को लेकर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं में हुई जमकर जूतम-पैजार: चले लाठी-डंडे, कई घायल

बिरयानी को लेकर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं में हुई जमकर जूतम-पैजार: चले लाठी-डंडे, कई घायल

चुनावी सभा के बाद बिरयानी परोसी जानी थी लेकिन वहाँ मौजूद लोगों में पहले बिरयानी खाने की होड़ में भयंकर मल्ल-युद्ध छिड़ गया। लोगों ने लाठी-डंडों का भी सहारा लिया। बिरयानी की भूख तब शांत हुई, जब कई लोग लहूलुहान हो गए।

बिजनौर सीट से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार नसीमुद्दीन सिद्दीकी के समर्थकों के बीच बिरयानी खाने को लेकर हुई झड़प और जूतम-पैजार में कई लोग घायल हो गए। बता दें कि बिना मंजूरी के एक चुनावी सभा के दौरान बिरयानी परोसने और पहले खाने की होड़ में विवाद हो गया। इसके बाद जमकर लाठी-डंडे चले, जिसके कारण कई घायल हो गए।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, घटना के बाद मौके पर पुलिस पहुँची और कार्रवाई करते हुए इस मामले में नौ लोगों को गिरफ्तार किया। पूरा मामला कुछ यूँ है। काकरौली थाना क्षेत्र के टडहेड़ा गाँव में शनिवार (अप्रैल 6, 2019) को हाल ही में कॉन्ग्रेस में शामिल हुए पूर्व विधायक मौलाना जमील के आवास पर चुनावी सभा आयोजित की गई थी। चुनावी सभा के बाद दोपहर के भोजन के लिए बिरयानी परोसी जानी थी लेकिन वहाँ मौजूद लोगों में पहले बिरयानी खाने की होड़ में भयंकर मल्ल-युद्ध छिड़ गया। नौबत यहाँ तक आ गई कि लोगों ने लाठी-डंडों का भी सहारा लिया। बिरयानी की भूख तब शांत हुई जब कई लोग लहूलुहान हो गए।

हालाँकि, बताया जा रहा है कि जल्द ही सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस ने घटनास्थल पर हिंसक भीड़ को तितर-बितर न किया होता तो बिरयानी लूटने के लिए ये एक-दूसरे की जान ले लेते। क्षेत्राधिकारी राम मोहन शर्मा ने बताया कि आईपीसी की विभिन्न धाराओं और आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन में जमील और उनके बेटे नईम अहमद समेत 34 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। घटना के संबंध में अभी तक नौ लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

संभावित तनाव को देखते हुए गाँव में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। बता दें कि जमील ने गत सप्ताह बसपा का साथ छोड़कर कॉन्ग्रेस का हाथ थाम लिया था। वह 2012 में मीरापुर विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। बिजनौर में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

पूजा खेडकर की माँ होटल से हुई गिरफ्तार, नाम बदलकर लिया था कमरा: महिला IAS के पिता नौकरी में रहते 2 बार हुए थे...

पूजा खेडकर का चिट्ठा खुलने के बाद उनके माता-पिता के खिलाफ भी जाँच जारी है। माँ को महाड के होटल से हिरासत में लिया गया है और पिता फरार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -