Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीतिकोल्हापुर से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार शाहू छत्रपति को AIMIM का समर्थन, आंबेडकर की नजदीकी के...

कोल्हापुर से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार शाहू छत्रपति को AIMIM का समर्थन, आंबेडकर की नजदीकी के कारण उनके पोते ने सपोर्ट का किया ऐलान

भीमराव अंबेडकर का कोल्हापुर के इस राजपरिवार से बेहद निकटता थी। इसी जुड़ाव के कारण बाबासाहेब अंबेडकर के पोते और वीबीए प्रमुख प्रकाश अंबेडकर ने श्रीमंत शाहू छत्रपति महाराज को अपना समर्थन देने का फैसला किया है। AIMIM की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख और औरंगाबाद से मौजूदा सांसद इम्तियाज जलील ने भी छत्रपति शाहू महाराज को समर्थन दिया है।

प्रकाश अंबेडकर के नेतृत्व वाली वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) के बाद अब असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने कॉन्ग्रेस के उम्मीदवार श्रीमंत शाहू छत्रपति महाराज को समर्थन दिया है। कोल्हापुर राजघराने के छत्रपति शाहूजी महाराज के वंशज को INDI गठबंधन से कोल्हापुर से मैदान में उतारा है।

श्रीमंत शाहू छत्रपति महाराज मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज के 12वें वंशज हैं और कोल्हापुर के राजर्षि छत्रपति शाहूजी महाराज के पोते हैं। छत्रपति शाहूजी महाराज महान लोकतंत्रवादी और समाज सुधारक थे। उन्होंने बाबासाहेब भीमराव अम्बेडकर की पढ़ाई के लिए वित्तीय सहायता के साथ-साथ छुआछूत को मिटाने की कोशिश भी की थी।

भीमराव अंबेडकर का कोल्हापुर के इस राजपरिवार से बेहद निकटता थी। इसी जुड़ाव के कारण बाबासाहेब अंबेडकर के पोते और वीबीए प्रमुख प्रकाश अंबेडकर ने श्रीमंत शाहू छत्रपति महाराज को अपना समर्थन देने का फैसला किया है। AIMIM की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख और औरंगाबाद से मौजूदा सांसद इम्तियाज जलील ने भी छत्रपति शाहू महाराज को समर्थन दिया है।

जलील ने कहा, “हमने एक फैसला लिया है और इसकी चर्चा पार्टी प्रमुख से भी की है। हमने कोल्हापुर से महाविकास अघाड़ी (MVA) के उम्मीदवार शाहू महाराज का समर्थन करने का फैसला लिया है। सभी राजनीतिक दलों में केवल बुरे लोग नहीं होते हैं। यह बात हमारे विरोधी दल के लिए भी उतनी ही सच है। इसलिए हमने कुल्हापुर में अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से शाहू महाराज का समर्थन करने के लिए कहा है।”

इम्तियाज जलील ने आगे कहा है, “शाहू महाराज ने मुझे ना ही फोन किया है और ना ही समर्थन माँगा है। हमने खुद ही उनके साथ खड़ा होने का फैसला लिया है। हमारी पार्टी AIMIM कोल्हापुर में कोई उम्मीदवार नहीं उतारेगी।” शाहू छत्रपति महाराज का मुकाबला एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना के संजय मांडलिक से है, जो भाजपा के नेतृत्व वाली माया युति के प्रतिनिधि हैं।

AIMIM सांसद ने कहा कि छत्रपति शाहूजी महाराज के नाम पर आजकल की पार्टियाँ राजनीति कर रही हैं। ऐसी पार्टियों के खिलाफ उम्मीदवार उतारे जा रहे हैं। उन्होंने कहा, “विरोधियों को पता होना चाहिए कि शाहू महाराज कौन हैं और कोल्हापुर में उनकी क्या स्थिति है। हमने इस बारे में असदुद्दीन ओवैसी को भी बता दिया है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -