Saturday, May 25, 2024
Homeराजनीति'हम, रउआ आ बउआ': सिन्हा के परिवार के 3 सदस्यों ने 2 साल में...

‘हम, रउआ आ बउआ’: सिन्हा के परिवार के 3 सदस्यों ने 2 साल में 3 सीटों से हार कर रचा इतिहास

खबर लिखे जाने तक पटना के बाँकीपुर सीट से कॉन्ग्रेस पार्टी के उम्मीदवार लव सिन्हा भाजपा के नितिन नवीन से आधे से भी कम वोट ला सके हैं। सिटिंग विधायक नितिन नवीन के 19920 (65.1%) वोटों के मुकाबले उन्हें मात्र 7784 (25.44%) मत आए थे। इस तरह से वो 12136 (39.66%) के भारी अंतर से पीछे चल रहे हैं।

अब जब बिहार विधानसभा चुनावों के रुझान पुष्ट होते जा रहे हैं, बिहार के एक परिवार के बारे में बात करना आवश्यक है। बिहार के ‘बिहारी बाबू’ का ये वो परिवार है, जिसके 3 लोग पिछले दो सालों में चुनाव हार कर अब घर में बैठेंगे। भाजपा में रहते पीएम मोदी को गाली देने से लेकर वहाँ से निकल कर कॉन्ग्रेस में जाने और अप्रासंगिक होने तक, शत्रुघ्न सिन्हा की कहानी ने पिछले दो सालों में कई मोड़ लिए हैं।

यहाँ आपके सामने हम सिर्फ आँकड़े पेश करेंगे, बाकी तथ्यों का अंदाज़ा आप खुद ही लगा सकते हैं। खबर लिखे जाने तक पटना के बाँकीपुर सीट से कॉन्ग्रेस पार्टी के उम्मीदवार लव सिन्हा भाजपा के नितिन नवीन से आधे से भी कम वोट ला सके हैं। सिटिंग विधायक नितिन नवीन के 19920 (65.1%) वोटों के मुकाबले उन्हें मात्र 7784 (25.44%) मत आए थे। इस तरह से वो 12136 (39.66%) के भारी अंतर से पीछे चल रहे हैं।

अब जरा पीछे चलते हैं 2019 के लोकसभा चुनाव की तरफ। उस चुनाव में जहाँ बॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता रहे शत्रुघ्न सिन्हा पटना साहिब से ताल ठोक रहे थे और उनकी पत्नी पूनम सिन्हा लखनऊ से समाजवादी प्रत्याशी के रूप में उतरी थीं। दोनों ही सीटों पर भाजपा के केंद्रीय मंत्रियों रविशंकर प्रसाद और राजनाथ सिंह ने क्रमशः उन्हें हराया। जो शत्रुघ्न सिन्हा कॉन्ग्रेस से पटना साहिब में उतरे थे, उनकी पत्नी लखनऊ में कॉन्ग्रेस के खिलाफ लड़ रही थीं।

पटना साहिब में शत्रुघ्न सिन्हा को 3,22,849 (32.87%) मत मिले, जो रविशंकर प्रसाद को मिले 6,07,506 (61.85%) से काफी कम था। इसी तरह लखनऊ में पूनम सिन्हा को 2,85,724 (25.59) वोट मिले थे, जो उनके प्रतिद्वंद्वी राजनाथ सिंह को मिले 6,33,026 (56.70%) वोटों का आधा भी नहीं था। इस तरह से 2019 लोकसभा चुनाव से लेकर बिहार विधानसभा चुनाव तक परिवार के 3 लोग 3 अलग-अलग सीटों से चुनाव हार चुके हैं।

बाँकीपुर में चुनाव प्रचार के दौरान अपने बेटे और कॉन्ग्रेस उम्मीदवार लव सिन्हा के साथ शत्रुघ्न सिन्हा

2009-19 में सांसद रहे शत्रुघ्न सिन्हा कि सबसे बड़ी कमजोरी यह थी कि उन्होंने दो बार जीतने के बाद भी अपने संसदीय क्षेत्र की तरफ मुड़कर भी नहीं देखा। इससे जनता में यह संदेश गया कि वह अपने आप को किसी भी बड़े नेता से भी ऊपर समझते हैं। वो भाजपा की बैठकों में शामिल नहीं होते थे, कार्यकर्ताओं से मिलते-जुलते नहीं थे और सिर्फ़ पार्टी की बड़ी रैलियों में ही हिस्सा लेते थे। सिन्हा द्वारा इस तरह के सौतेले व्यवहार से भाजपा के कार्यकर्ताओं के भीतर ही उन्हें लेकर असंतोष फ़ैल गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -