MP: कर्ज़माफ़ी को लेकर समस्या सुनाने गए लोगों को कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

कॉन्ग्रेस के कोप के शिकार इन लोगों ने मीडिया को बताया कि कर्ज़ माफ़ी के संबंध में किसानों की समस्या सुनाने के लिए वो सभी मंत्री के पास आए थे। जिसके बाद मामूली-सी बात पर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने पीटना शुरू कर दिया।

मध्य प्रदेश के देवास में कॉन्ग्रेस सरकार के मंत्री जीतू पटवारी से मिलने पहुँचे लोगों पर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं का कहर टूट पड़ा। दरअसल कुछ लोग कर्ज़माफ़ी को लेकर किसानों की दिक्कतों को बताने के लिए मंत्री से मिलने के लिए आए थे। लेकिन जल्द ही मंत्री से मिलने पहुँचे लोगों और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच की बहस हाथापाई में बदल गई।

इसके बाद कॉन्ग्रेसी कार्यकर्ता लोगों को दौरा-दौरा कर पीटने लगे। जिन लोगों की पिटाई हुई उन्होंने खुद को मजदूर संगठन से जुड़ा हुआ बताया है। कॉन्ग्रेस के कोप के शिकार इन लोगों ने मीडिया को बताया कि कर्ज़ माफ़ी के संबंध में किसानों की समस्या सुनाने के लिए वो सभी मंत्री के पास आए थे। जिसके बाद मामूली-सी बात पर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने पीटना शुरू कर दिया।

जानकारी के लिए बता दें कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार द्वारा किसानों की क़र्ज़माफ़ी की घोषणा के बाद किसानों की मुश्किलें ख़त्म होने के बजाए बढ़ती ही जा रही हैं। क़र्ज़माफ़ी को लेकर सरकारी दफ़्तरों में चिपकाई जा रही सूची में किसी के नाम ₹13 तो किसी के नाम के आगे ₹30 की क़र्ज़माफ़ी है। क़र्ज़माफ़ी के मुद्दे पर 15 साल बाद सत्ता में आई कॉन्ग्रेस की कमलनाथ सरकार के इस रवैये से जनता बेहद परेशान है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

किसानों के लिए जारी क़र्ज़माफ़ी की लिस्ट में निपानिया के रहने वाले एक किसान शिवपाल का भी नाम है। शिवपाल पर बैंक के ₹20,000 से ज्यादा का कर्ज़ है। लेकिन सरकार द्वारा जारी लिस्ट में उनके नाम के आगे ₹13 की क़र्ज़माफ़ी की गई है। शिवपाल ने अपने बयान में कहा, “सरकार क़र्ज़ माफ़ कर ही रही है तो मेरा पूरा क़र्ज़ माफ़ होना चाहिए, ₹13 की तो हम बीड़ी पी जाते हैं।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: