Sunday, April 14, 2024
Homeराजनीतिकैसे देवेंद्र बने दोबारा महाराष्ट्र के 'शाह': देर रात कैसे लिखी गई उलटफेर की...

कैसे देवेंद्र बने दोबारा महाराष्ट्र के ‘शाह’: देर रात कैसे लिखी गई उलटफेर की पटकथा

शुक्रवार देर रात फडणवीस सरकार बनाने का दावा पेश करने पहुँचे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को एनसीपी का समर्थन पत्र सौंपा। आधी रात को अजित पवार ने राज्यपाल को एनसीपी विधायकों का हस्ताक्षरित पत्र सौंपा। इसकी भनक दोनों को शपथ लगने तक विरोधियों को नहीं लगी।

महाराष्ट्र की सियासत में शनिवार सुबह बड़ा उलटफेर हुआ। जिस एनसीपी ने कॉन्ग्रेस और शिवसेना के साथ सरकार बनाने की बात कही थी, उसका एक धड़ा भाजपा से जा मिला। जिस भाजपा ने सबसे ज्यादा सीटें होने के बावजूद सरकार बनाने का दावा तक नहीं पेश किया था, रातोंरात बदले समीकरण में वो सत्ता में वापस लौटी और देवेंद्र फडणवीस के सर फिर से महाराष्ट्र का ताज सजा। यह सब शुक्रवार (नवंबर 23, 2019) की रात शुरू हुआ। शिवसेना सांसद संजय राउत का दावा था कि अजित पवार उस बैठक में अलग-अलग से लग रहे थे और किसी से नज़रें नहीं मिला पा रहे थे। खैर, सुबह महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन का भी अंत हो गया। आइए, देखते हैं कब, क्या, कैसे हुआ।

शुक्रवार देर रात क्या हुआ?

शुक्रवार को एनसीपी, कॉन्ग्रेस और शिवसेना की संयुक्त बैठक हुई थी। बैठक से निकल कर एनसीपी के मुखिया शरद पवार ने कहा था कि गठबंधन के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे होंगे। लेकिन, देर रात को ही देवेंद्र फडणवीस सरकार बनाने का दावा पेश करने पहुँचे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को एनसीपी का समर्थन पत्र सौंपा। फडणवीस ने 173 विधायकों के समर्थन का दावा किया। एनसीपी के 54 और 14 अन्य निर्दलीय विधायकों के समर्थन के बाद फडणवीस ने सरकार बनाने का दावा पेश किया।

हालाँकि, रात में किसी को इसकी भनक नहीं लगी। सब यही सोच रहे थे कि सुबह होते ही कॉन्ग्रेस और एनसीपी के समर्थन से शिवसेना सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। रात के पौने 12 बजे एनसीपी विधायक दल के नेता अजित पवार भी राज्यपाल के पास पहुँच गए और उन्होंने भाजपा को समर्थन देने सम्बन्धी विधायकों द्वारा हस्ताक्षरित पत्र सौंपा। अजित पवार के इस पत्र के बाद ही राज्यपाल संतुष्ट हुए कि भाजपा के पास बहुमत का जादुई आँकड़ा है। भाजपा ने 170 से भी अधिक विधायकों के समर्थन का दावा किया।

रात के 12 बजे राज्यपाल ने हालात से केंद्र सरकार को अवगत कराया। केंद्र सरकार को राज्यपाल ने कहा कि राज्य में गठबंधन सरकार बनते ही राष्ट्रपति शासन हटा देना चाहिए। इसके बाद इस प्रस्ताव से राष्ट्रपति भवन को अवगत कराया गया।

शनिवार की सुबह क्या-क्या हुआ?

सुबह के 6 बजे राज्यपाल ने निर्णय लिया कि देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी। इसके बाद फडणवीस ने 6.45 में राज्यपाल को सूचना दी कि अजित पवार को उपमुख्यमंत्री पद के लिए नामित किया गया है। राज्यपाल ने सुबह 8 बज कर 7 मिनट कर फडणवीस और पवार को शपथ दिलाने की प्रक्रिया पूरी की। बस इसके साथ ही उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री बनने का सपना चकनाचूर हो गया।

किसने क्या कहा?

इस दौरान नेताओं की प्रतिक्रियाएँ भी रोचक आईं। उद्धव ठाकरे और शरद पवार ने साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के अपना दर्द छलकाया, कॉन्ग्रेस की तरफ़ से मल्लिकार्जुन खड़गे और अहमद पटेल ने इसे जनादेश का अपमान बताया। उद्धव ठाकरे ने छत्रपति शिवाजी को याद करते हुए कहा कि भाजपा ने पीछे से वार किया है। उन्होंने पूछा कि ऐसा ही चलता रहा तो चुनाव की ज़रूरत ही क्या है? महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि शिवसेना ने भाजपा को धोखा दिया है। संजय राउत ने कहा कि अजित पवार को ब्लैकमेल किया गया है और विधायकों को अपहृत कर ले जाया गया था।

केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने शरद पवार और सुप्रिया सुले को भी मंत्री बनाने का ऑफर दिया। रामविलास पासवान ने लिखा कि जिस जानवर को सड़क पर यह पता नहीं होता कि उसे दाएँ जाना है या बाएँ, वो मारा जाता है। मोदी और शाह ने फडणवीस और पवार को शपथग्रहण के लिए बधाई दी।

‘मोदी सरकार में मंत्री बन सकती हैं पवार की बेटी सुप्रिया सुले, शाह ने पहले ही कहा था- सब ठीक हो जाएगा’

अजित पवार को ब्लैकमेल किया गया है, वे लौट आएँगे: शिवसेना सांसद संजय राउत सामना में करेंगे खुलासा

‘सत्ता के लिए अपने विचारों से समझौता करने वाले कम से कम छत्रपति शिवाजी की बात न करें’

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में मनोज तिवारी Vs कन्हैया कुमार के लिए सजा मैदान: कॉन्ग्रेस ने बेगूसराय के हारे को राजधानी में उतारा, 13वीं सूची में 10...

कॉन्ग्रेस की ओर से दिल्ली की चांदनी चौक सीट से जेपी अग्रवाल, उत्तर पूर्वी दिल्ली से कन्हैया कुमार, उत्तर पश्चिम दिल्ली से उदित राज को टिकट दिया गया है।

‘सूअर खाओ, हाथी-घोड़ा खाओ, दिखा कर क्या संदेश देना चाहते हो?’: बिहार में गरजे राजनाथ सिंह, कहा – किसने अपनी माँ का दूध पिया...

राजनाथ सिंह ने गरजते हुए कहा कि किसने अपनी माँ का दूध पिया है कि मोदी को जेल में डाल दे? इसके बाद लोगों ने 'जय श्री राम' की नारेबाजी के साथ उनका स्वागत किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe