Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिराम का जन्मस्थान बताया अयोध्या तो मालिनी अवस्थी को नहीं गाने दिया भजन: UPA...

राम का जन्मस्थान बताया अयोध्या तो मालिनी अवस्थी को नहीं गाने दिया भजन: UPA के जमाने में दूरदर्शन की कहानी

"जब मैंने शुरू किया, तो इसमें एक श्लोक शामिल था जिसमें अयोध्या में भगवान राम के जन्म का उल्लेख था। अचानक, वे आए और मुझसे कहा कि यह ऑन एयर नहीं हो सकता।"

भारत के 1947 में स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से ही कॉन्ग्रेस पार्टी ने उन राजनीतिक नीतियों का पूर्णतया पालन किया है जो हिंदू बहुसंख्यक समुदाय के हितों के विपरीत हैं। जवाहरलाल नेहरू द्वारा पवित्र सोमनाथ मंदिर को उसके अतीत के गौरव को बहाल करने से इनकार करने से लेकर अल्पसंख्यक तुष्टीकरण की उनकी अटूट प्रथा तक, भगवान राम के अस्तित्व पर सवाल उठाने और ‘भगवा आतंक’ के काल्पनिक निर्माण को गढ़ने तक, कॉन्ग्रेस का हिंदुओं को कमजोर करने और उन्हें दोयम दर्जा देने का पुराना इतिहास रहा है।

हिंदुओं के खिलाफ कॉन्ग्रेस के एक और घृणा के बारे में प्रसिद्ध लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने हाल ही में एक समाचार शो में खुलासा किया। उन्होंने बताया कि उन्हें 2005 में सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन पर एक धार्मिक भजन गाने से रोक दिया गया था क्योंकि इसमें कहा गया था कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था।

पद्मश्री पुरस्कार विजेता मालिनी अवस्थी ने कहा, “एक समय था जब मुझे सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन के लिए गाने के लिए नियुक्त किया गया था। मैंने उन्हें भगवान राम के जन्म पर एक भजन गाने की पेशकश की थी। शुरू में, वे इसके लिए सहमत हुए लेकिन जब मैंने शुरू किया, तो इसमें एक श्लोक शामिल था जिसमें अयोध्या में भगवान राम के जन्म का उल्लेख था। अचानक, वे आए और मुझसे कहा कि यह ऑन एयर नहीं हो सकता और मुझसे दूसरा भजन गाने के लिए कहा।”

अवस्थी ने न्यूज नेशन पर एक कार्यक्रम के दौरान बताया, “चूँकि मैं स्वभाव से थोड़ी चिंतनशील हूँ, मैंने उनसे पूछा कि इसमें क्या समस्या है। उन्होंने कहा कि इसमें भगवान राम का जन्म अयोध्या में होना बताया गया है। सनातन धर्म का अनुयायी होने के नाते, यह मेरे लिए अस्वीकार्य था। हमने वर्षों से अयोध्या में भगवान राम के जन्म का जश्न मनाया है। मैंने उनसे कहा कि यदि आप सत्य को नकारना चाहते हैं तो मैं कोई अन्य भजन रिकॉर्ड नहीं कर पाऊँगी।”

यह ध्यान देने योग्य है कि कॉन्ग्रेस पर लंबे समय से राज्य के प्रसारकों का उपयोग अपना एजेंडा निर्धारित करने और एक खास नैरेटिव शेयर करने का आरोप लगाया जाता रहा है, जिसने लगभग हमेशा हिंदुओं के हितों के खिलाफ काम किया है। इसने कलाकारों को अपने एजेंडे के हिसाब से परफॉर्मेंस देने के लिए मजबूर किया। भारत के इतिहास में अग्रणी संगीतकारों में से एक, पंडित हृदयनाथ को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर द्वारा लिखी गई एक कविता गाने के लिए कॉन्ग्रेस के वर्षों के दौरान ऑल इंडिया रेडियो से बर्खास्त कर दिया गया था।

कॉन्ग्रेस शासन में ऑल इंडिया रेडियो ने पंडित हृदयनाथ को बर्खास्त कर दिया

हृदयनाथ और उनकी बहनें, लता मंगेशकर और उषा मंगेशकर, वीर सावरकर द्वारा लिखी गई कविताओं पर आधारित धुनों की रचना के लिए जाने जाते थे। हालाँकि, यह कॉन्ग्रेस पार्टी को रास नहीं आया, जिसने स्वतंत्रता सेनानी को खलनायक बनाने वाले नैरेटिव का निर्माण किया था। परिणामस्वरूप, कॉन्ग्रेस शासन के तहत ऑल इंडिया रेडियो ने वीर सावरकर की कविताओं पर उनकी संगीत रचना के लिए हृदयनाथ मंगेशकर को निकाल दिया।

कुछ सालों बाद, एबीपी माझा के साथ एक साक्षात्कार में, हृदयनाथ मंगेशकर ने स्वीकार किया कि कैसे उन्हें ऑल इंडिया रेडियो से निकाल दिया गया था क्योंकि उन्होंने वीर सावरकर द्वारा लिखित एक कविता की रचना करने का विकल्प चुना था।

हिंदुओं को अमानवीय बनाने के लिए कॉन्ग्रेस की प्रवृत्ति

कॉन्ग्रेस का हिंदुओं के अमानवीयकरण का इतिहास रहा है। इसने साध्वी प्रज्ञा और यहाँ तक कि लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित को झूठा फँसाकर ‘भगवा आतंक’ की कहानी गढ़ने के लिए आकाश-पाताल एक कर दिया था। कॉन्ग्रेस सांप्रदायिक हिंसा विधेयक पारित करना चाहती थी, जिसमें कहा गया था कि कोई भी सांप्रदायिक हिंसा होने पर केवल हिंदुओं को अपराधी माना जाएगा, मुस्लिमों को कभी नहीं। इस बिल का गठन उन लोगों ने किया था जो विभिन्न विदेशी वित्त पोषित गैर सरकारी संगठनों से जुड़े थे।

राहुल गाँधी ने काल्पनिक ‘भगवा आतंक’ को लश्कर-ए-तैयबा से ज्यादा खतरनाक माना, तो वहीं पी चिदंबरम और सुशील कुमार शिंदे ने बिना किसी सबूत या वजह के हिंदुओं को आतंकवादी कहा। कॉन्ग्रेसी नेता और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा था कि हमारे देश के संसाधनों पर मुसलमानों का पहला अधिकार है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe