Sunday, July 25, 2021
Homeराजनीतिपश्चिम बंगाल में अब BJP नहीं निकाल सकेगी जुलूस, ममता का तुग़लकी फरमान

पश्चिम बंगाल में अब BJP नहीं निकाल सकेगी जुलूस, ममता का तुग़लकी फरमान

ममता बनर्जी ने कहा है कि अब सूबे में भाजपा के विजय जुलूस को निकलने की इजाजत नहीं दी जाएगी और इस आदेश का उल्लंघन करने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई होगी।

भाजपा पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हिंसा भड़काने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि अब सूबे में भाजपा के विजय जुलूस को निकलने की इजाजत नहीं दी जाएगी और इस आदेश का उल्लंघन करने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई होगी।

ममता बनर्जी ने गुरुवार को नार्थ 24 परगना जिले के निमता में टीएमसी के मारे गए कार्यकर्ताओं के घर का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि उनके पास सूचनाएँ हैं कि भाजपा ने अपने विजय जुलूसों के नाम पर हुगली, बांकुरा, पुरुलिया और मिदनापुर जिलों में अव्यवस्था फैलाई है। इसलिए अब से एक भी विजय जुलूस नहीं निकलेगा।

ममता बनर्जी ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि अब एक भी विजय जुलूस नहीं निकलना चाहिए क्योंकि लोकसभा चुनाव के नतीजे आए 10 दिन से ज्यादा हो चुके हैं। ऐसे में अगर कोई नेता राज्य में दंगे जैसी स्थिति पैदा करने की कोशिश करेगा, तो पुलिस उससे सख्ती से पेश आएगी। पुलिस को को कानून के हिसाब से कार्रवाई करने और स्थिति बिगड़ने से रोकने के लिए कड़े एक्शन लेने को कह दिया है।

गुरुवार (जून 6,2019) को ममता बनर्जी सीआईडी और दूसरी एजेंसियों के अधिकारियों के साथ निमता का दौरा करने पहुँची थी। दरअसल, मंगलवार को निमता में 4-5 अज्ञात हमलावरों ने टीएमसी नेता निर्मल कुंडू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। यहाँ उन्होंने कुंडू के परिजनों को भरोसा दिलाया कि मामले में पूरी जाँच होगी और इंसाफ मिलेगा। उन्होंने कहा, “यह सिर्फ एक हत्या की बात नहीं है… हमें साजिश रचने वाले का पता लगाना है। एक पार्टी रक्तपात और हिंसा क्यों कर रही है?”

बनर्जी के मुताबिक साल 2014 में जब उनकी पार्टी ने जीत हासिल की थी, तो किसी भी तरह की हिंसा या हत्या नहीं हुई थी, लेकिन इस बार कई सीटों पर भाजपा के जीतने के बाद हिंसा और हत्याओं का सिलसिला रुक ही नहीं रहा है। गौरतलब है इससे पहले पश्चिम बंगाल राज्य में भाजपा के कई कार्यकर्ताओं की बेरहमी से हत्या हुई थी। जिसका इल्जाम भाजपा ने टीएमसी पर लगाया है, लेकिन ममता ने इसपर कोई प्रतिक्रिया देनी जरूरी नहीं समझा, अब चूँकि बात टीएमसी कार्यकर्ताओं की मौत की है तो ममता कड़े कदम उठाने की बात कर रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मणिपुर के सेब, आदिवसियों की बेर और ‘बनाना फाइबर’ से महिलाओं की कमाई: Mann Ki Baat में महिला शक्ति की कहानी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (25 जुलाई, 2021) को 'मन की बात' के 79वें एपिसोड के जरिए देश की जनता को सम्बोधित किया।

हेमंत सोरेन की सरकार गिराने वाले 3 ‘बदमाश’: सब्जी विक्रेता, मजदूर और दुकानदार… ₹2 लाख में खरीदते विधायकों को?

अब सामने आया है कि झारखंड सरकार गिराने की कोशिश के आरोपितों में एक मजदूर है और एक ठेला लगा सब्जी/फल बेचता है। एक इंजिनियर है, जो अपने पिता की दुकान चलाता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,079FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe