Wednesday, September 29, 2021
Homeराजनीतिराहुल गाँधी के लिए ममता के दिल में कोई 'ममता' नहीं: कॉन्ग्रेस पर RSS...

राहुल गाँधी के लिए ममता के दिल में कोई ‘ममता’ नहीं: कॉन्ग्रेस पर RSS से मदद लेने का लगा दिया आरोप

ममता बनर्जी के मुताबिक सीपीएम पहले ही बीजेपी के हाथों बिक चुकी है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि ऐसे संदिग्ध चरित्र वाली पार्टी को वोट नहीं करना चाहिए।

चुनाव जीतने के लिए से इन दिनों हर राजनैतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोपों का दौर जारी है। इसी कड़ी में कभी विपक्ष को एकजुट करके रैली निकालने वाली ममता बनर्जी आज खुद कॉन्ग्रेस पर चुनाव जीतने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की मदद लेने का आरोप लगा रही है। साथ ही जनता से अनुरोध कर रही हैं कि वह कॉन्ग्रेस, भाजपा और वामपंथी दलों के ‘घातक गठबंधन’ को पराजित करके उन्हें विजयी बनाएँ।

सोमवार (अप्रैल 15, 2019) को तृणमूल कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष ने नागपुर(2018) में RSS के एक कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शामिल होने को आधार बनाकर संघ पर आरोप लगाया कि वह लोग पूर्व राष्ट्रपति के बेटे और कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता अभिजीत मुखर्जी के लिए प्रचार में जुटे हुए हैं।

मुस्लिम बहुल मुर्शिदाबाद जिले के बेलडांगा गाँव में एक चुनावी सभा में कॉन्ग्रेस के विषय पर बात करते हुए ममता ने कहा, “भानुमति का पिटारा खोलने के लिए मुझे बाध्य मत कीजिए, नहीं तो प्रदेश में कॉन्ग्रेस की समूची योजना का खुलासा हो जाएगा।”

ममता के मुताबिक बहरामपुर और जंगीपुर में कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों के लिए संघ द्वारा प्रचार किया जा रहा है। बनर्जी का कहना है कि बहरामपुर कॉन्ग्रेस उम्मीदवार अधीर चौधरी की वामपंथी दलों और बीजेपी के सहयोग से चुनाव जीतने की रणनीति इस बार सफल नहीं होगी। उन्होंने इस दौरान लोगों से अपील की है कि ऐसे संदिग्ध चरित्र वाली पार्टी को वोट नहीं करना चाहिए।

गौरतलब है कि ममता के अनुसार राष्ट्रीय सेवक संघ, जंगीपुर में अभिजीत मुखर्जी के लिए और बहरामपुर में अधीर चौधरी के लिए प्रचार कर रही है। उनकी मानें तो सीपीएम पहले ही बीजेपी के हाथों बिक चुकी है।

बता दें कि इससे पहले भी ममता बनर्जी ने शनिवार (अप्रैल 13, 2019) को भाजपा पर जमकर हमला बोला था। इस दौरान उनका आरोप था कि वह (भाजपा) जनता को गुमराह करने के लिए धर्म का इस्तेमाल करके राजनैतिक लाभ इस्तेमाल करने की कोशिश में हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe