राहुल गाँधी के लिए ममता के दिल में कोई ‘ममता’ नहीं: कॉन्ग्रेस पर RSS से मदद लेने का लगा दिया आरोप

ममता बनर्जी के मुताबिक सीपीएम पहले ही बीजेपी के हाथों बिक चुकी है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि ऐसे संदिग्ध चरित्र वाली पार्टी को वोट नहीं करना चाहिए।

चुनाव जीतने के लिए से इन दिनों हर राजनैतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोपों का दौर जारी है। इसी कड़ी में कभी विपक्ष को एकजुट करके रैली निकालने वाली ममता बनर्जी आज खुद कॉन्ग्रेस पर चुनाव जीतने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की मदद लेने का आरोप लगा रही है। साथ ही जनता से अनुरोध कर रही हैं कि वह कॉन्ग्रेस, भाजपा और वामपंथी दलों के ‘घातक गठबंधन’ को पराजित करके उन्हें विजयी बनाएँ।

सोमवार (अप्रैल 15, 2019) को तृणमूल कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष ने नागपुर(2018) में RSS के एक कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शामिल होने को आधार बनाकर संघ पर आरोप लगाया कि वह लोग पूर्व राष्ट्रपति के बेटे और कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता अभिजीत मुखर्जी के लिए प्रचार में जुटे हुए हैं।

मुस्लिम बहुल मुर्शिदाबाद जिले के बेलडांगा गाँव में एक चुनावी सभा में कॉन्ग्रेस के विषय पर बात करते हुए ममता ने कहा, “भानुमति का पिटारा खोलने के लिए मुझे बाध्य मत कीजिए, नहीं तो प्रदेश में कॉन्ग्रेस की समूची योजना का खुलासा हो जाएगा।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ममता के मुताबिक बहरामपुर और जंगीपुर में कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों के लिए संघ द्वारा प्रचार किया जा रहा है। बनर्जी का कहना है कि बहरामपुर कॉन्ग्रेस उम्मीदवार अधीर चौधरी की वामपंथी दलों और बीजेपी के सहयोग से चुनाव जीतने की रणनीति इस बार सफल नहीं होगी। उन्होंने इस दौरान लोगों से अपील की है कि ऐसे संदिग्ध चरित्र वाली पार्टी को वोट नहीं करना चाहिए।

गौरतलब है कि ममता के अनुसार राष्ट्रीय सेवक संघ, जंगीपुर में अभिजीत मुखर्जी के लिए और बहरामपुर में अधीर चौधरी के लिए प्रचार कर रही है। उनकी मानें तो सीपीएम पहले ही बीजेपी के हाथों बिक चुकी है।

बता दें कि इससे पहले भी ममता बनर्जी ने शनिवार (अप्रैल 13, 2019) को भाजपा पर जमकर हमला बोला था। इस दौरान उनका आरोप था कि वह (भाजपा) जनता को गुमराह करने के लिए धर्म का इस्तेमाल करके राजनैतिक लाभ इस्तेमाल करने की कोशिश में हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,578फैंसलाइक करें
23,209फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: