Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजमंत्री शिष्टाचार के नाते बोलते थे 'आओ कभी मिलने', रोज 150 लाेग पहुँचने लगे...

मंत्री शिष्टाचार के नाते बोलते थे ‘आओ कभी मिलने’, रोज 150 लाेग पहुँचने लगे तो रखा दरबान

अगर मंत्री किसी प्रशंसक को मजाक में ही सुबह बोलते हैं कि आप दिल्ली आ जाइए चाय पीने, तो लोग शाम तक सच में दिल्ली उनके कार्यालय पहुँच जाते हैं।

उत्तराखंड के लोग आपसी शिष्टाचार और मिलनसार प्रवृत्ति के लिए जाने जाते हैं लेकिन इस बार मामला राष्ट्रीय स्तर पर उछल पड़ा है। कारण बने हैं देश के मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’। दरअसल उत्तराखंड के हरिद्वार संसदीय क्षेत्र से सांसद निशंक उनसे मिलने वाले लोगों से इतने परेशान हो गए कि उन्हें निजी चौकीदार रखना पड़ गया।

देहरादून से दिल्ली की दूरी मात्र चार-पाँच घंटों में तय हो जाती है। ऐसे में रमेश पोखरियाल को अपने समर्थकों से ‘मिलने आने’ की बात उन पर भारी पड़ रही है। देहरादून से नजदीक होने के कारण उनसे रोजाना सौ-डेढ़ सौ लोग मिलने पहुँच जाते हैं। मिलनसार स्वभाव हाेने के कारण वह किसी को मना भी नहीं कर पाते हैं, लेकिन इससे उनके काम में व्यवधान पड़ने लगा है। मिलने आने वालों के कारन होने वाले इसी व्यवधान से बचने के लिए उन्हाेंने शास्त्री भवन में अपने ऑफिस के बाहर प्राइवेट गार्ड तैनात कर दिया।

यह गार्ड अंदर जाने वाले लोगों का पूरा परिचय और जानकारी लेता है, इसके बाद मंत्री से मिलने का पास होने पर ही अंदर जाने देता है। जिस व्यक्ति के पास अन्य अधिकारी के नाम का पास होता है, उसे बाहर ही रोक देता है। इस तरह से यह निजी गार्ड जुगाड़ लगाकर मंत्री से मिलने की कोशिश करने वालों को भी बाहर ही रोक देता है।

भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार, अगर मंत्री किसी प्रशंसक को मजाक में ही सुबह बोलते हैं कि आप दिल्ली आ जाइए चाय पीने, तो लोग शाम तक सच में दिल्ली उनके कार्यालय पहुँच जाते हैं। कई प्रशंसक तो मंत्री से मिलने के लिए पास बनवाने के लिए यह संदेशा भिजवाते हैं कि उन्होंने बचपन में मंत्री के साथ पढ़ाई की है और उनके मित्र हैं, इसलिए मिलना चाहते हैं। कई लोग इसी बहाने जुगाड़ लगाकर पास बनवाने की जुगत में भी रहते हैं।

हालाँकि, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल के ओएसडी अजय बिष्ट ने बताया कि कई लोग शास्त्री भवन के किसी और ब्लॉक या अधिकारी का पास बनवा लेते हैं और मंत्री से मिलने आ जाते हैं, जिससे काम प्रभावित होता है। सुरक्षा काे ध्यान में रखते हुए निजी गार्ड तैनात किया गया है। शास्त्री भवन की सुरक्षा सीआईएसएफ के पास है। यहाँ विशेष आईडी के साथ ही लोगों काे प्रवेश दिया जाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe