Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिइस बार भी मायावती नहीं लड़ेंगी विधानसभा चुनाव: न जनसभा-न रैली, फिर भी बसपा...

इस बार भी मायावती नहीं लड़ेंगी विधानसभा चुनाव: न जनसभा-न रैली, फिर भी बसपा का UP में सरकार बनाने का दावा

उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटों के लिए 10 फरवरी से मतदान शुरू हो रहे हैं। इस बार यूपी के चुनाव में 29 फीसदी लोग नए वोटर्स हैं। ये लोग पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। कोरोना सकंट की वजह से इस बार एक घंटे अधिक समय तक वोट डाले जाएँगे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव-2022 (Uttar Pradesh Assembly Elections 2022) से पहले बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने बड़ा ऐलान किया है। पार्टी महासचिव और सांसद सतीश चंद्र मिश्रा (Satish Chandra Misra) ने मंगलवार (11 जनवरी 2022) को कहा कि बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) और वो खुद इस बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में किसी भी सीट से चुनाव नहीं लड़ेंगे।

बता दें कि प्रदेश में 10 फरवरी से मतदान होगा और 7 चरणों तक चलेंगे, लेकिन अभी तक किसी प्रचार की कमान मायावती ने खुद नहीं सँभाली है। इसके बावजूद सतीश चंद्र मिश्रा उत्तर प्रदेश की सत्ता में बीएसपी की वापसी का दावा कर रहे हैं।

मिश्रा ने कहा कि यूपी में बसपा की सरकार बनने जा रही है और बीजेपी तथा समाजवादी पार्टी दूसरे और तीसरे नंबर पर रहेंगी। उन्होंने यह भी ऐलान किया है कि चुनाव से पहले और बाद में बीएसपी किसी के साथ भी गठबंधन नहीं करेगी।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, समाजवादी पार्टी के 400 सीटें जीतने के दावे पर बसपा महासचिव ने कहा, “समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के पास तो 400 उम्मीदवार ही नहीं हैं तो फिर इतनी सीटें वे कैसे जीतेंगे? एसपी या फिर बीजेपी सत्ता में नहीं आएँगे। इस बार बसपा यूपी में सरकार बनाने जा रही है।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सतीश चंद्र मिश्रा काफी दिनों से अकेले ही पार्टी के लिए प्रचार कर रहे हैं। अवध से लेकर पूर्वांचल और पश्चिम यूपी तक उन्होंने दौरा कर ब्राह्मणों को लुभाने के लिए कई आयोजन किए हैं, लेकिन मायावती ने चुनाव को लेकर न तो कोई जनसभा की और ना ही कोई रोड शो निकाला।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटों के लिए 10 फरवरी से मतदान शुरू हो रहे हैं। इस बार यूपी के चुनाव में 29 फीसदी लोग नए वोटर्स हैं। ये लोग पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। कोरोना सकंट की वजह से इस बार एक घंटे अधिक समय तक वोट डाले जाएँगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -