बंगाल में पोलिंग बूथ पर TMC कार्यकर्ताओं की मनमानी, पास जाकर देख रहे हैं किसको दिया वोट

ऐसा प्रतीत होता है कि पश्चिम बंगाल में गुप्त मतदान के नियम को एक तरफ़ रख दिया गया है और TMC कार्यकर्ता मतदाताओं के साथ खड़े होकर ख़ुद मतदान करवा रहे हैं। ऐसा करने के पीछे यह सुनिश्चित करना है कि वोट TMC के पक्ष में डाला गया कि नहीं।

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा हुई साथ ही धांधली की भी ख़बरें सामने आईं। चौथे चरण के मतदान में भी वही रवैया जारी है। इन हिंसात्मक गतिविधियों में क्रूड बम मिलने के साथ ही भाजपा उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो पर हमला किया जाना भी शामिल है। इसी बीच, पश्चिम बंगाल के पूर्वी बर्दवान क्षेत्र का एक चौंकाने वाला वीडियो सामने आया है जिसमें TMC कार्यकर्ताओं को खुलेआम चुनावों में धांधली करते हुए देखा जा सकता है।

DNA द्वारा ट्वीट किया गया यह वीडियो मतदान केंद्र संख्या 104 और 107 पर पूर्वी बर्दवान निर्वाचन क्षेत्र केतुग्राम का है। यह घटना पूर्वी बर्दवान के खाजी हाई स्कूल बूथ में हुई थी। वीडियो में, यह स्पष्ट देखा जा सकता है कि जब कोई मतदाता EVM मशीन के पास वोट डालने आता है तो वहाँ मौजूद TMC कार्यकर्ता हर बार EVM को घूरता दिखता है।

जबकि नियमानुसार मतदान केंद्र के अंदर मतदाता के साथ जाने वाले किसी को भी यह अनुमति नहीं है कि वो उसके आसपास मौजूद रहे और यह देखने का प्रयास करे कि उस मतदाता ने किसे वोट दिया है। इसीलिए इसे गुप्त मतदान कहा गया है। लेकिन, ऐसा प्रतीत होता है कि पश्चिम बंगाल में गुप्त मतदान के नियम को एक तरफ़ रख दिया गया है और TMC कार्यकर्ता मतदाताओं के साथ खड़े होकर ख़ुद मतदान करवा रहे हैं। ऐसा करने के पीछे यह सुनिश्चित करना है कि वोट TMC के पक्ष में डाला गया कि नहीं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पीठासीन अधिकारी कथित TMC कार्यकर्ता को मतदाताओं पर निगरानी रखने के लिए मतदान केंद्र के अंदर खड़े होने की अनुमति दे रहा था। ख़बर के मुताबिक़, घटना के सामने आने के बाद पीठासीन अधिकारी को तुरंत हटा दिया गया और चुनाव आयोग द्वारा इस पर एक्शन लिया गया। बीजेपी ने पश्चिम बंगाल के कई अन्य मतदान केंद्रों जैसे रानाघाट, उत्तर पारा बूथ और चकदाहा विधानसभा बूथों में धांधली का आरोप लगाया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

रामचंद्र गुहा और रवीश कुमार
"अगर कॉन्ग्रेस में शीर्ष नेताओं को कोई अन्य राजनेता उनकी कुर्सी के लिए खतरा लगता है, तो वे उसे दबा देते हैं। कॉन्ग्रेस में बहुत से अच्छे नेता हैं, जिन्हें मैं बहुत अच्छे से जानता हूँ। लेकिन अगर मैंने उनका नाम सार्वजनिक तौर पर लिया तो पार्टी में उन्हें दबा दिया जाएगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,129फैंसलाइक करें
35,293फॉलोवर्सफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: