Monday, May 25, 2020
होम राजनीति जिन्होंने राम मंदिर के लिए बहाया अपना खून, उनके लिए बनना चाहिए स्मारक: शिवसेना

जिन्होंने राम मंदिर के लिए बहाया अपना खून, उनके लिए बनना चाहिए स्मारक: शिवसेना

"शिवसेना, बजरंग दल के अलावे अन्य कुछ हिंदूवादी संगठन भी इस आंदोलन में शामिल हुए थे। ऐसे में इसे कैसे भूला जा सकता है कि कारसेवकों की शहादत से सरयू लाल हो गई थी।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने से ठीक पहले शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए राममंदिर बनवाने हेतु ‘शहीद’ हुए लोगों के लिए स्मारक बनवाने की अपील की। सामना में लिखा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से अयोध्या में राम मंदिर के कार्य को गाति मिली है। अब 2024 तक इसका काम पूरा हो जाएगा तो इसका सीधा लाभ भारतीय जनता पार्टी को मिलेगा। उनके मुताबिक राममंदिर के लिए शिवसैनिकों ने भी बलिदान दिया था लेकिन शिवसेना ने इसका कभी फायदा उठाने की कोशिश नहीं की।

मुखपत्र में प्रकाशित संपादकीय के जरिए शिवसेना ने शुक्रवार को उन सभी लोगों के लिए शहीद स्मारक बनवाने के लिए आवाज़ उठाई, जिन्होंने राम मंदिर बनवाने के लिए अपनी जाने गवाईं। उनके अनुसार उन ‘शहीदों’ के लिए श्रद्धांजलि के रूप में सरयू तट पर एक स्मारक बनवाया जाना चाहिए। और अमर जवान की तरह
इन शहीदों के नाम भी अमर जवान ज्योति के समान लिखा जाना चाहिए।

‘सामना’ में आगे कहा गया है कि यह सच है कि शिवसेना, बजरंग दल के अलावे अन्य कुछ हिंदूवादी संगठन भी इस आंदोलन में शामिल हुए थे। ऐसे में इसे कैसे भूला जा सकता है कि कारसेवकों की शहादत से सरयू लाल हो गई थी। उस समय देश भर के शिव सैनिकों का रक्त खौलता दिख रहा था। बीबीसी के मार्क टली ने अयोध्या आंदोलन का जो वीडियो बनाया था, उसमें बाबरी ढाँचा के आस-पास शिवसेना के कई परिचित चेहरे दिखते हैं। लेकिन, शिवसेना ने इसका राजनीतिक लाभ कभी नहीं उठाया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

शिवसेना ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद, राम मंदिर के निर्माण की प्रक्रिया को गति मिली है। एक विश्वास बनाया गया है और 2024 तक मंदिर बनाया जाएगा। इससे भाजपा को निश्चित रूप से फायदा होगा। उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए सामना में लिखा कि पाकिस्तान और सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मुद्दे 2024 के आम चुनावों के लिए काम नहीं करेंगे, इसलिए, राम मंदिर उस समय एक महत्वपूर्ण बिंदु होगा।

‘सामना’ में शिव सेना की ओर से लिखा गया कि राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों पर नजर डाली जाए तो क्या दिखाई देता है? महंत नृत्य गोपालदास ट्रस्ट के अध्यक्ष चुने गए हैं। चंपत राय महासचिव और गोविंद देव गिरि को कोषाध्यक्ष बनाया गया है। जबकि ‘निर्माण’ अर्थात मंदिर निर्माण समिति का अध्यक्ष पूर्व कैबिनेट सचिव नृपेंद्र मिश्रा को बनाया गया है। मिश्रा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विश्वासपात्र हैं। राम मंदिर कार्य पर मोदी ने नजर रखी हुई है और इसके लिए कालावधि निश्चित कर ली गई है।

शिवसेना के अनुसार, पीएम मोदी के हाथ से राम मंदिर की भूमि पूजन होगा। ये तो ठीक है लेकिन सोनिया गाँधी, ममता बनर्जी, मुलायम सिंह यादव, नीतीश कुमार और शरद पवार जैसे देश के बड़े नेताओं को भूमि पूजन के कार्यक्रम में नहीं बुलाया जाना गलत है। अगर ऐसा हुआ तो ये एक पार्टा का ही कार्यक्रम होकर रह जाएगा।

बता दें कि शिवसेना प्रमुख महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की गद्दी संभालने के बाद आज पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। इसकी जानकारी खुद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने ट्वीट के जरिए दी है। शिवसेना ने इस मुलाकात को शिष्टाचार की भेंट करार दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘₹60 लाख रिश्वत लिया AAP MLA प्रकाश जारवाल ने’ – टैंकर मालिकों का आरोप, डॉक्टर आत्महत्या में पहले से है आरोपित

AAP विधायक प्रकाश जारवाल ने पानी टैंकर मालिकों से एक महीने में 60 लाख रुपए की रिश्वत ली है। अपनी शिकायत लेकर 20 वाटर टैंकर मालिकों ने...

‘महाराष्ट्र में मजदूरों को एंट्री के लिए लेनी होगी अनुमति’ – राज ठाकरे ने शुरू की हिंदी-मराठी राजनीति

मजदूरों पर राजनीति करते हुए राज ठाकरे ने CM योगी आदित्यनाथ के 'माइग्रेशन कमीशन' के फैसले पर बयान जारी किया। दरअसल वे हिंदी-मराठी के जरिये...

कॉन्ग्रेस का सन्देश है कि जो गाँधी परिवार के खिलाफ बोलेगा उसे प्रताड़ित किया जाएगा: तजिंदर बग्गा

तजिंदर बग्गा ने पूछा कि अगर सिख नरसंहार में राजीव गाँधी का हाथ नहीं होता तो इसमें शामिल लोगों को मंत्रिपद देकर क्यों नवाजा जाता?

उद्धव सरकार की वजह से खाली लौट रही ट्रेनें, देर रात तक जानकारी माँगते रहे पीयूष गोयल, नहीं मिली पैसेंजरों की लिस्ट

“रात के 12 बज चुके हैं और 5 घंटे बाद भी हमारे पास महाराष्ट्र सरकार से कल की 125 ट्रेनों की डिटेल्स और पैसेंजर लिस्टें नही आई है। मैंने अधिकारियों को आदेश दिया है फिर भी प्रतीक्षा करें और तैयारियाँ जारी रखें।"

घर लौटे श्रमिकों को उत्तर प्रदेश में देंगे रोजगार, बीमा सहित सामाजिक सुरक्षा होगी सुनिश्चित: योगी आदित्यनाथ

जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहाँ वापस आएँ, उन्हें राज्य सरकार से इसकी इजाजत लेनी होगी

…वो 5 करीबी, जिनसे पूछकर मौलाना साद लेता था फैसले, सबके पासपोर्ट जब्त: पहले से दर्ज थी FIR

क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के 5 करीबियों का पासपोर्ट जब्त कर लिया है। ये पाँचों वे लोग हैं, जिन पर पहले से इस मामले में FIR दर्ज है।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,834FansLike
60,106FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements