Saturday, May 25, 2024
Homeराजनीति'बिहार की सड़कों पर नमाज बंद होगी या नहीं' - सवाल पर बोले CM...

‘बिहार की सड़कों पर नमाज बंद होगी या नहीं’ – सवाल पर बोले CM नीतीश कुमार – ये सब कोई मुद्दा है?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के उलट BJP विधायक हरिभूषण ठाकुर बचैल और बिहार सरकार में पंचायती राजमंत्री सम्राट चौधरी ने भी सड़क पर नमाज पढ़े जाने का विरोध किया है।

गुरुग्राम और नोएडा में सार्वजानिक स्थलों पर भारी जनविरोध के चलते नमाज़ बैन होने के बाद अब इस से मिलती जुलती सुगबुगाहट बिहार में भी सुनाई देने लगी है। भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर बचैल ने बिहार में इसकी पहल करने का ऐलान कर दिया है। बिहार सरकार में पंचायती राजमंत्री सम्राट चौधरी ने भी भाजपा विधायक का समर्थन किया था। लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुताबिक इन बातों की चर्चा से दूर रहना ही उचित है। उन्होंने इसे मुद्दा न बनाने की अपील की है।

मीडिया को दिए गए इंटरव्यू में नीतीश कुमार ने कहा, “इन सबसे कोई मतबल नहीं। कहीं कोई पूजा करता है, कहीं कोई गाता है। ये सब कोई मुद्दा है? अपना-अपना विचार है, हम लोगों का ऐसा विचार है। हम तो सबको मान कर चलते हैं। हमारे लिए सभी लोग एक समान हैं। सबको अपने ढंग से खुद ही ध्यान रखना चाहिए। ये कोई एक कम्युनिटी की बात नहीं है। सब धर्म के लोगों को इन सब बातों का ध्यान रखना चाहिए। जब हमने कोरोना की गाइडलाइन बनाई थी, तब सबने उसे माना था। पता नहीं कौन किस बात को ले कर क्या बोलता है। हमारे लिए इन सब चीजों का कोई मतलब नहीं। पता नहीं ये मुद्दा कैसे बन जाता है।”

इस से पहले भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर बचैल ने मीडिया से बात करते हुए कहा था, “जिस तरह हरियाणा में खुले में नमाज़ पर रोक लगाई है, वैसे ही बिहार में भी लगाना चाहिए। हम इसकी पहल करेंगे। शुक्रवार को बेवजह सड़क को जाम कर देना, खुले में सड़क पर नमाज़ पढ़ना… आस्था है तो घर में पढ़ें, मस्जिद फिर क्यों हैं? हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर बहुत ही धन्यवाद के पात्र हैं। अगर ये सब नहीं रोका गया तब माहौल तनावपूर्ण होगा। 75 साल पहले ही धर्म के आधार पर भारत-पाकिस्तान का बँटवारा हो चुका है। लेकिन आज भी मुद्दा वहीं का वहीं है। अगर हम नहीं संभले तो आने वाली पीढ़ियाँ माफ़ नहीं करेंगीं।”

भाजपा विधायक हरिभूषण ने आगे कहा, “CM नीतीश मानें या नहीं, ये उनके ऊपर है लेकिन इसे दुनिया मान रही है। आपने देखा होगा कि बलिदानी CDS पर भी कमेंट किए गए हैं। इन सबसे आने वाले खतरे को भाँपना चाहिए। भारत में कुछ नहीं बल्कि बहुत ऐसे हैं। बिहार में ही देखिए, यहाँ पर वन्देमातरम का विरोध किया गया।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -