Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिहिंदुओं के कातिल टीपू सुल्तान पर रखा गया महाराष्ट्र के अकोला नगर निगम के...

हिंदुओं के कातिल टीपू सुल्तान पर रखा गया महाराष्ट्र के अकोला नगर निगम के सभागार का नाम, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के नाम हुआ था बवाल

इससे पहले मुंबई में कॉन्ग्रेस विधायक और सरकार में टेक्सटाइल मंत्री असलम शेख द्वारा मलाड स्थित स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स का नाम टीपू सुल्तान के नाम पर रखे जाने पर बवाल हो गया था। उद्घाटन की तारीख भी 26 जनवरी घोषित कर दी गई थी। मुंबई पुलिस ने इसका विरोध करने वाले कई हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया था।

महाराष्ट्र के अकोला में नगर निगम के स्थायी समिति की हॉल का नाम टीपू सुल्तान के नाम पर रख दिया गया है। इस बात की जानकारी अकोला में नगर निगम के नेता विपक्ष साजिद खान पठान ने दी है। साजिद खान पठान कॉन्ग्रेस पार्टी के पदाधिकारी हैं। टीपू सुल्तान के नाम का प्रस्ताव 9 वर्ष पहले (20 जून 2012) किया गया था। तब अकोला के नगर निगम पर कॉन्ग्रेस और प्रकाश अंबेडकर की भारिप बहुजन पार्टी काबिज थी।

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मुद्दे पर शिवसेना की राय कॉन्ग्रेस और NCP से अलग है। राज्य के महा विकास अघाड़ी में कॉन्ग्रेस, एनसीपी और शिवसेना मिलकर सरकार चला रही हैं। शिवसेना टीपू सुल्तान के नाम पर अपने पुराने रुख पर कायम है और वह इसका विरोध कर रही है। बता दें कि अकोला के नगर निगम में की सत्ता में भाजपा भी सहयोगी है।

भाजपा के वर्तमान महानगर अध्यक्ष विजय अग्रवाल ही 9 साल पहले इस नाम के सूचक थे। तब विजय अग्रवाल कॉन्ग्रेस पार्टी में थे। अब विजय अग्रवाल इस पूरे मामले से पल्ला झाड़ रहे हैं। उनका कहना है, “कोई भी उस समय इस मामले में अनुमोदक या सूचक हो सकता है। टीपू सुल्तान के नाम पर मेरा हमेशा विरोध रहा है। मैं आज भी विरोध में ही हूँ।”

वहीं, कॉन्ग्रेस ने भाजपा पर सवाल खड़े किए हैं। कॉन्ग्रेस नेता और महाराष्ट्र प्रदेश कॉन्ग्रेस महासचिव सचिन सावंत ने लिखा, “टीपू सुल्तान का विरोध करने वाली भाजपा का दोहरा चरित्र दिख रहा है। अकोला नगर निगम के स्थाई समिति हॉल का नाम ‘शहीद-ए-वतन शेर-ए-मैसूर टीपू सुल्तान’ के नाम पर साल 2012 में रखा गया है। इसके प्रस्तावक पूर्व महापौर और वर्तमान भाजपा अकोला महानगर अध्यक्ष विजय अग्रवाल थे।”

गौरतलब है कि इससे पहले मुंबई में कॉन्ग्रेस विधायक और सरकार में टेक्सटाइल मंत्री असलम शेख द्वारा मलाड स्थित स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स का नाम टीपू सुल्तान के नाम पर रखे जाने पर बवाल हो गया था। उद्घाटन की तारीख भी 26 जनवरी घोषित कर दी गई थी। मुंबई पुलिस ने इसका विरोध करने वाले कई हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया था।

विवाद बढ़ने पर बुधवार (26 जनवरी 2022) को महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने जगह का नाम अभी फाइनल न होने की बात कही थी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ने कहा था, “परियोजनाओं के आधिकारिक नामों को अंतिम रूप देना बीएमसी के दायरे में आता है। महापौर ने कहा है कि उस पार्क के आधिकारिक नाम को लेकर अभी तक अंतिम फैसला नहीं हुआ है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -