Wednesday, August 4, 2021
Homeराजनीतिजिस कॉन्ग्रेस ने राम के अस्तित्व को सुप्रीम कोर्ट में किया था खारिज, वो...

जिस कॉन्ग्रेस ने राम के अस्तित्व को सुप्रीम कोर्ट में किया था खारिज, वो अब ‘भारत के राम’ विवाद में कूदी

भगवान राम पर ये टिप्पणी उस पार्टी के युवा विंग ने की है, जिसने एक समय में सुप्रीम कोर्ट में श्रीराम के अस्तित्व को खारिज कर दिया था। इसी कॉन्ग्रेस ने रामसेतु पर मामला उठने पर सर्वोच्च न्यायालय को कहा था कि श्री राम के अस्तित्व का कोई ऐतिहासिक सबूत नहीं है और रामायण में वैज्ञानिक व ऐतिहासिक सत्यता का अभाव है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कल श्राीराम भगवान के जन्मस्थान अयोध्या को लेकर टिप्पणी की। उन्होंने दावा किया कि भारत में मौजूद अयोध्या नकली है और असली अयोध्या नेपाल में है। इस टिप्पणी के बाद सोशल मीडिया पर एक अलग बहस छिड़ गई। 

स्वयं नेपाल के लोगों ने ही PM ओली को उनकी इस टिप्पणी पर घेर लिया और भारतीयों ने भी इस पर उनकी खूब आलोचना की। नेपाल की विपक्षी पार्टियों ने भी इसे हास्यास्पद बताया। इसी बीच यूथ कॉन्ग्रेस ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी। 

यूथ कॉन्ग्रेस ने मौके का फायदा उठाकर अपने ट्विटर पर लिखा, “पहले उन्होंने भारतीय न्यूज चैनलों को बैन किया और अब नेपाल की इतनी हिम्मत कि ये कह रहे हैं कि भगवान राम भारतीय मिट्टी के पुत्र नहीं हैं।” जिसके बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें ट्रोल कर दिया और बताया कि कैसे कॉन्ग्रेस ने राम मंदिर पर अड़ंगे लगाए थे।

दरअसल, कॉन्ग्रेस की इस टिप्पणी पर सबसे पहले तो ये गौर करने वाली बात है कि नेपाल ने श्रीराम को ‘नेपाली’ नहीं कहा है। बल्कि सिर्फ़ केपी शर्मा ओली ने उन्हें नेपाली बोला है। मगर, कॉन्ग्रेस ने इस बात पर केपी शर्मा को आड़े हाथों लेने की बजाय पूरे नेपाल पर ही निशाना साध दिया।

सबसे हैरत की बात है कि भगवान राम पर ये टिप्पणी उस पार्टी के युवा विंग ने की है, जिसने एक समय में सुप्रीम कोर्ट में श्रीराम के अस्तित्व को खारिज कर दिया था। इसी कॉन्ग्रेस ने रामसेतु पर मामला उठने पर सर्वोच्च न्यायालय को कहा था कि श्री राम के अस्तित्व का कोई ऐतिहासिक सबूत नहीं है और रामायण में वैज्ञानिक व ऐतिहासिक सत्यता का अभाव है।

सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में कॉन्ग्रेस ने कहा था कि वाल्मीकि रामायण और रामचरितमानस को प्राचीन भारतीय साहित्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना गया है, लेकिन ये इसमें मौजूद पात्रों के अस्तित्व और उसमें चित्रित घटनाओं को अस्तित्व साबित करने के लिए ऐतिहासिक रिकॉर्ड नहीं कहा जा सकता।

अब खुद सोचिए, एक पार्टी जिसे श्रीराम के अस्तित्व पर ही संदेह हो और एक समय में वह उसे खारिज करने का प्रयास कर चुकी हो। आज उसकी यूथ विंग ऐसे ट्वीट करके क्या लोगों में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रही। और क्या पूरे नेपाल का नाम लेकर भारत के साथ उसके संबंधों को बिगाड़ने का प्रयास नहीं कर रही?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टोक्यो ओलंपिक में भारत को तीसरा मेडल: बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन ने जीता कांस्य पदक, जानिए असम के छोटे से गाँव से यहाँ तक का...

भारतीय महिला बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन को टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक मिला। उन्हें वीमेंस वेल्टरवेट (69 किलोग्राम) वर्ग में ये ख़िताब प्राप्त हुआ।

‘अपनी बेटी की तरह रेप..’: इतना पीटा कि ब्रेस्ट सर्जरी करानी पड़ी, अरबपति की ‘सेक्स कालकोठरी’ में कई महिलाओं का यौन शोषण

जॉर्ज सोरोस के मनी मैनेजर रहे होवार्ड रुबिन पर 'सेक्स कालकोठरी' में BDSM सेशन के जरिए कई महिलाओं के यौन शोषण व प्रताड़ना के आरोप लगे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe