Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीति'एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना': राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ...

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो डिप्टी सीएम बनेंगे

“जो लोग शिंदे के साथ असम गए थे, वे उम्मीद कर रहे थे कि उनका नेता डिप्टी सीएम बनेगा। मुझे लगता है कि शिंदे को भी शीर्ष पद की पेशकश के बारे में पता नहीं था।”

शिवसेना (Shiv Sena) के बागी गुट के नेता एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) बीजेपी के समर्थन से महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री बने हैं। बीजेपी के शिंदे को सीएम बनाने के फैसले से राज्य की राजनीति के धुरंधर शरद पवार (Sharad Pawar) भी अचंभित हैं। उन्होंने कहा कि किसी ने इस बात की कल्पना भी नहीं की थी कि एकनाथ शिंदे को सीएम बना दिया जाएगा।

एनसीपी चीफ ने संभावना जताई कि हो सकता है कि बागी विधायकों ने ऐसी इच्छा व्यक्त की हो, जिसे देखते हुए शिंदे को सीएम पद दे दिया गया। ढाई साल तक राज्य में शासन करने वाले महा विकास अघाड़ी गठबंधन के शिल्पकार माने जाने वाले पवार ने कहा कि शिंदे सहित विद्रोही खेमे से डिप्टी सीएम पद की उम्मीद की जा रही थी। उन्होनें कहा, “जो लोग शिंदे के साथ असम गए थे, वे उम्मीद कर रहे थे कि उनका नेता डिप्टी सीएम बनेगा। मुझे लगता है कि शिंदे को भी शीर्ष पद की पेशकश के बारे में पता नहीं था।”

इसके साथ ही पवार ने शिंदे को मुख्यमंत्री बनने की बधाई देते हुए कहा, “एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री के रूप में चुने जाने पर बधाई! मुझे पूरी उम्मीद है कि उनके द्वारा महाराष्ट्र के हितों की रक्षा की जाएगी।”

पवार ने बीजेपी को लेकर कहा, “बीजेपी में दिल्ली या नागपुर से एक बार आदेश आता है और बिना किसी समझौते के इसका पालन किया जाता है।”

शिवसेना के अस्तित्व पर मंडरा रहे खतरे पर बोले पवार

पवार ने शिवसेना के अस्तित्व पर मंडरा रहे खतरे को लेकर उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगता कि शिवसेना खत्म हो गई है। पहले भी छगन भुजबल ने बगावत की थी, लेकिन बाद में वे और उनके समर्थक चुनाव हार गए। बाद में नारायण राणे को भी हार का सामना करना पड़ा। शिवसेना को कई विद्रोहों का सामना करना पड़ा है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -