Friday, June 14, 2024
Homeराजनीतिदिल्ली का 'बदला' पटना में: नीतीश के मंत्रिमंडल विस्तार में BJP के लिए कोई...

दिल्ली का ‘बदला’ पटना में: नीतीश के मंत्रिमंडल विस्तार में BJP के लिए कोई जगह नहीं

नीतीश मंत्रिमंडल में 2 महादलित मंत्री शामिल किए गए हैं। महादलित समुदाय को साधने के लिए नीतीश पहले भी कोशिश करते रहे हैं। नीतीश ने कहा कि भाजपा कोटे का कोई भी सीट खाली नहीं था इसलिए...

बिहार में नीतीश कुमार की पार्टी जदयू ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से किनारा कर लिया था। नीतीश कुमार का कहना था कि चूँकि उन्हें सिर्फ़ एक कैबिनेट सीट ऑफर की जा रही थी, जिसे लेने के लिए उनकी पार्टी में कोई इच्छुक नहीं था। हालाँकि, नीतीश ने पूरी मजबूती के साथ राजग में रहने व केंद्र सरकार को सहयोग करने की बात कही। अब उन्होंने दिल्ली की राजनीति का जवाब पटना में दिया है। आज रविवार (जून 2, 2019) को मुख्यमंत्री ने पटना में मंत्रिमंडल विस्तार किया, जिसमें भाजपा से किसी को भी शामिल नहीं किया गया। कुल 8 नए मंत्री बनाए गए, जिनमें लोजपा के पशुपति कुमार पारस के सांसद बन जाने के बाद खाली हुई जगह भी शामिल है, लेकिन भाजपा के अलावा लोजपा के भी किसी भी विधायक को मंत्री नहीं बनाया गया।

विश्लेषक मान कर चल रहे हैं कि दिल्ली में भाजपा द्वारा नीतीश को केंद्रीय मंत्रिमंडल में एक सीट ऑफर करने का बदला नीतीश ने पटना में भाजपा को मंत्रिमंडल विस्तार से महरूम कर लिया है। नीतीश कुमार का मानना था कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में सांसदों की संख्या के हिसाब से गठबंधन दलों को प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए लेकिन नीतीश कुमार के अनुसार भाजपा ने सिर्फ़ प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व का ऑफर दिया, जिसे उनकी पार्टी ने स्वीकार नहीं किया। इसके ठीक 2 दिन बाद हुए बिहार मंत्रिमंडल विस्तार में नीतीश ने भाजपा के एक भी नेता को मंत्री नहीं बनाया।

ताजा मंत्रिमंडल विस्तार के बाद बिहार में कुल मंत्रियों की संख्या 33 हो गई है। नए मंत्रियों में अशोक चौधरी, नरेन्द्र नारायण यादव, श्याम रजक, संजय झा, रामसेवक सिंह, लक्ष्मेशेवर राय, नीरज कुमार और बीमा भारती शामिल हैं। इनमें से 5 ऐसे नेता हैं, जिन्हें पहली बार मंत्री बनाया गया है। राजभवन में आयोजित समारोह में राज्यपाल लालजी टंडन ने इन मंत्रियों को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई। ताजा लोकसभा चुनाव में जदयू ने 17 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से पार्टी को 16 सीटों पर जीत मिली।। भाजपा अपने कोटे के सभी 16 सीट जीतने में सफल रही। वहीं लोजपा के खाते में 6 सीटें आईं।

नीतीश मंत्रिमंडल में 2 महादलित मंत्री शामिल किए गए हैं। महादलित समुदाय को साधने के लिए नीतीश पहले भी कोशिश करते रहे हैं। नीतीश ने कहा कि चूँकि भाजपा कोटे का कोई भी सीट खाली नहीं था इसलिए सिर्फ जदयू कोटे की सीटों को भरा गया है, भाजपा के साथ कोई विवाद नहीं है। उप मुख्यमंत्री व भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर कहा कि नीतीश ने भाजपा कोटे से किसी को मंत्री बनाए जाने की पेशकश की, लेकिन पार्टी ने इसे भविष्य में करने का निर्णय लिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -